Skip to main content

Posts

Showing posts from March, 2021

23वां राष्ट्रीय क्रांतिवीर अवार्ड पद्मश्री डॉ. केशवराव सदाशिव मूसलगांवकर को

स्वर्गीय रामचन्द्र रघुवंशी "काकाजी" स्मृति 23वां राष्ट्रीय क्रांतिवीर अवार्ड पद्मश्री डॉ. केशवराव सदाशिव मूसलगांवकर को  उज्जैन। मालवा के सुप्रसिद्ध स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, समाजसेवी, पत्रकार, चिंतक, लेखक स्वर्गीय रामचन्द्र रघुवंशी काकाजी के पुण्य स्मृति दिवस 4 अप्रैल को आयोजित होने वाले 23वां राष्ट्रीय क्रांतिवीर अवार्ड शिक्षाविद डॉ. केशवराव सदाशिव मूसलगांवकर को दिया जाएगा। हमारे देश के संस्कृत साहित्य के मूर्धन्य साहित्यकार अपने 14 ग्रंथों को राष्ट्र को लोकार्पित करने वाले डॉ. केशवराव सदाशिव मूसलगांवकर का जन्म मध्यप्रदश के ग्वालियर शहर में हुआ था। बचपन से ही संस्कृत साहित्य के इस मेधावी छात्र ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पी.एच.डी. की उपाधि संस्कृत विषय में ही प्राप्त की। महामहोपाध्याय की उपाधि से विभूषित मूसलगांवकर ने कई पुराणों का संस्कृत में अनुवाद कर देश को सौगात प्रदान की। 95 वर्षीय डॉ. मूललगांवकर ने अपना सम्पूर्ण जीवन संस्कृत साहित्य में होम कर दिया। माध्यमिक शिक्षा मण्डल में शिक्षक रह कर मूसलगांवकर जी ने अपना पूरा जीवन ज्ञानोपार्जन में लगा दिया। अभी भी श्री मूसलगांवक

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन 31 मार्च 2021

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन दिनांक 31  मार्च  2021 पॉजिटिव आए सैंपल की संख्या = 86 आज दिनांक तक मौत = 109

प्रकृति और संस्कृति के साथ लोक के तादात्म्य का पर्व है होली ; नार्वे में हुआ होली पर अंतरराष्ट्रीय वेब कवि सम्मेलन ; अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन में बिखरे होली के कई रंग

प्रकृति और संस्कृति के साथ लोक के तादात्म्य का पर्व है होली  नार्वे में हुआ होली पर अंतरराष्ट्रीय वेब कवि सम्मेलन अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन में बिखरे होली के कई रंग   नार्वे में होली पर अंतरराष्ट्रीय परिसंवाद और कवि सम्मेलन का आयोजन हुआ, जिसमें कविताओं के जरिए कई रंग बिखरे। कार्यक्रम की अध्यक्षता  प्रसिद्ध समालोचक और विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कला संकाय के अधिष्ठाता प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने की। उन्होंने कहा कि होली परस्पर प्रेम, उत्साह और सर्वमंगल का पर्व है। भारतीय पर्वोत्सवों की परंपरा में होली अपने  उल्लासपूर्ण स्वभाव और अलबेलेपन के लिए जानी जाती है। यह सुदूर अतीत से चली आ रही जातीय स्मृतियों, पुराख्यानों और इतिहास को जीवंत करने वाला पर्व है। यह मूलतः लोक पर्व है, जिसे शास्त्रकारों ने अपने ढंग से महिमान्वित किया, तो राज्याश्रय ने इसमें अपने रंग भरे। उत्तर भारत में जब फागुन उतरता है तो प्रकृति के आंगन में रंग और उमंग बिखरने लगते हैं, फिर मनुष्य इससे कैसे मुक्त रह सकेगा। होली प्रकृति और संस्कृति के साथ लोक के तादात्म्य का पर्व है। विशिष्ट अतिथि हालैण्ड के शिक्षाविद डॉ मोहनकांत

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन 30 मार्च 2021

  उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन दिनांक 30  मार्च  2021 पॉजिटिव आए सैंपल की संख्या = 70 आज दिनांक तक मौत = 109

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन 28 मार्च 2021

  उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन दिनांक 28  मार्च  2021 पॉजिटिव आए सैंपल की संख्या = 72 आज दिनांक तक मौत = 109

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन 27 मार्च 2021

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन दिनांक 27  मार्च  2021 पॉजिटिव आए सैंपल की संख्या = 69 आज दिनांक तक मौत = 109

मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित एम डी द्रव्य गुण विषय में डॉक्टर दीपाशा व्यास ने विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया

उज्जैन : मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित एम डी द्रव्य गुण विषय में डॉक्टर दीपाशा व्यास ने विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया .  इस अवसर पर महाविद्यालय के प्रधानाचार्य डॉक्टर जेपी चौरसिया एवं मीडिया प्रभारी डॉक्टर प्रकाश जोशी द्वारा उक्त जानकारी देते हुए बताया कि, महाविद्यालय के समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी द्वारा डॉक्टर दीपाशा व्यास को बधाई दी गई । डॉक्टर दीपाशा व्यास द्वारा डॉ सुनिता डी. राम के निर्देशन में शोध कार्य संपन्न किया । 

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन 26 मार्च 2021

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन दिनांक 26  मार्च  2021 पॉजिटिव आए सैंपल की संख्या = 85 आज दिनांक तक मौत = 109

चार दिवसीय युवा वैज्ञानिक सम्मेलन का समापन हुआ

  चार दिवसीय युवा वैज्ञानिक सम्मेलन का समापन हुआ  उज्जैन  : विक्रम विश्वविद्यालय,उज्जैन एवं मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद, भोपाल के संयुक्त तत्वाधान में दिनांक 23 मार्च से 26 मार्च  2021   तक आयोजित 36 वीं यंग साइंटिस्ट कांग्रेस 2021 का  समापन 26 मार्च को हुआ।  समारोह की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय के मान प्रो.अखिलेश कुमार पांडेय ने की।  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में अनिल  कोठारी, निदेशक, मैपकास्ट, भोपाल की गरिमामयी उपस्थिति रही। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता के रूप में श्री तसनीम हबीब, कार्यकारी निदेशक,मैपकास्ट, भोपाल ने अपने उद्बोधन में कहा कि युवा वैज्ञानिक अपने शोध से मान. प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार कर सकते हैं। अध्यक्षीय उद्बोधन में प्रो. अखिलेश कुमार पांडेय ने कहा कि सम्मेलन के प्रतिभागी मैपकास्ट द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ अपने शोध के लिए कर सकते हैं। परिषद के संसाधनों का प्रयोग अपने शोध कार्य की गुणवत्ता वृद्धि में कर सकते हैं। अब सिर्फ शोध ही नहीं करना है, अपितु अपने शोध का उपयोग समाज कल्याण के लिए करना है। का

कोविड के दौर में युवाओं को स्किल्ड बनाना आज की जरूरतः प्रो. खंबायत ; पीएसएससीआईवीई में व्यावसायिक शिक्षा पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी का समापन

 कोविड के दौर में युवाओं को स्किल्ड बनाना आज की जरूरतः प्रो. खंबायत पीएसएससीआईवीई में व्यावसायिक शिक्षा पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी का समापन भोपाल, दिनांक, 26.03.2021 पीएसएस व्यावसायिक शिक्षा केंद्र में व्यावसायिक शिक्षा व प्रशिक्षण में उत्कृष्टता और बदलाव में चुनौतियों को लेकर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी के दूसरे दिन देश के साथ ही श्रीलंका एवं जर्मनी के व्‍यावसायिक शिक्षा के विशेषज्ञों ने शिक्षा और रोजगार के क्षेत्र में युवाओं के कौशल विकास और प्रशिक्षण पर जोर दिया। कार्यक्रम के पहले सत्र में वैश्‍विक स्तर पर व्यावसायिक शिक्षा एवं प्रशिक्षण (वीईटी) के सुदृढ़ीकरण के लिए अंतर्राष्ट्रीय अनुबंधों, सहयोग, स्थानीय समुदायों के योगदान, शोधकर्ताओं और शिक्षा के लिए नीति निर्धारण करने वाले देशों के आपसी सामंजस्य के योगदान पर जोर दिया गया। कार्यक्रम के दूसरे दिन सत्र की अध्यक्षता करते हुए संस्था के संयुक्त निदेशक प्रो. राजेश पुं. खंबायत ने कहा कि आज का दौर चुनौतीपूर्ण है, विशेषकर रोजगार के क्षेत्र में आज विशेष रूप से ध्यान देने की जरूरत है। कोविड महामारी के दौर में हमें युवाओं को कौशलयुक्त बनाने के

रैली, जुलूस, गैर, फाग उत्सव, मिलन समारोह, प्रदर्शन, मेलों का आयोजन, धरने आदि पर प्रतिबंध, उज्जैन कलेक्टर ने धारा-144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये

रैली, जुलूस, गैर, फाग उत्सव, मिलन समारोह, प्रदर्शन, मेलों का आयोजन, धरने आदि पर प्रतिबंध, कलेक्टर ने धारा-144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये  उज्जैन 26 मार्च। कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण आमजन के स्वास्थ्य एवं जीवन को लेकर प्रतिकूल परिस्थितियां निर्मित होने की संभावनाओं को देखते हुए कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री आशीष सिंह ने दण्ड प्रक्रिया संहिता-1973 की धारा-144 के तहत पूर्व में जारी आदेश दिनांक 22 मार्च 2021 को अधिक्रमित करते हुए उज्जैन जिले की सम्पूर्ण राजस्व सीमाओं के अन्तर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये हैं। आदेश के तहत क्षेत्र में किसी भी प्रकार के सामाजिक, सांस्कृतिक एवं धार्मिक त्यौहारों/कार्यक्रम में निकलने वाली रैली, जुलूस, गेर, फाग उत्सव, शब बरात, ईस्टर एवं अन्य पर्वों पर किसी प्रकार का जुलूस, मिलन समारोह, किसी भी प्रकार के प्रदर्शन, मेलों के आयोजन, धरना आदि का आयोजन एवं सार्वजनिक रूप से लोगों का एकत्रित होना प्रतिबंधित रहेगा।   कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी द्वारा जारी किये गये आदेश अनुसार- • सभी दुकानों एवं अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर उनके संचालकों द्वारा मा

उज्जैन, विदिशा, ग्वालियर, नरसिंहपुर, सौंसर में भी रविवार को लॉकडाउन ; मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की

कोरोना की रोकथाम एवं उपचार सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री श्री चौहान क्राइसिस मेनेजमेंट ग्रुप की बैठकें कर जिलेवार रणनीति बनाएँ विदिशा, उज्जैन, ग्वालियर, नरसिंहपुर, सौंसर में भी रविवार को लॉक डाउन मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की   भोपाल : शुक्रवार, मार्च 26, 2021 मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना की रोकथाम एवं उपचार सर्वोच्च प्राथमिकता है। सभी ज़िले क्राइसिस मेनेजमेंट ग्रुप की बैठकें कर जिलावार रणनीति बनाएँ। हमें हर हालत में कोरोना का संक्रमण रोकना है और जिन जिलों में संक्रमण नहीं है या कम है वहाँ संक्रमण नहीं फैलने देना है। विदिशा, उज्जैन, ग्वालियर, नरसिंहपुर तथा सौंसर में भी रविवार को लॉक डाउन रहेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान और अपर मुख्य सचिव गृह श्री राजेश राजौरा उपस्थित थे। एक सप्ताह में दोगुने हुए प्रकरण प्रदेश में गत एक सप्ता

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन 25 मार्च 2021

उज्जैन कोरोना हेल्थ बुलेटिन दिनांक 25  मार्च  2021 पॉजिटिव आए सैंपल की संख्या = 83 आज दिनांक तक मौत = 108

युवाओं में कौशल को बढ़ावा देने प्रैक्टिस और ट्रेनिंग पर ध्यान देने की जरूरत: श्रीधर श्रीवास्तव ; पीएसएस केन्द्रीय व्यावसायिक शिक्षा संस्थान में राष्ट्रीय संगोष्ठि का शुभारंभ

युवाओं में कौशल को बढ़ावा देने प्रैक्टिस और ट्रेनिंग पर ध्यान देने की जरूरत: श्रीधर श्रीवास्तव पीएसएस केन्द्रीय व्यावसायिक शिक्षा संस्थान में राष्ट्रीय संगोष्ठि का शुभारंभ भोपाल, दिनांक 25.03.2021 | व्यावसायिक शिक्षा  व प्रषिक्षण में उत्कृष्टता के लिए बदलाव और चुनौतियों को लेकर पीएसएस केन्द्रीय व्यावसायिक शिक्षा  संस्थान में गुरुवार को दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठि का आनलाइन शुभारंभ हुआ।  यूनेस्को-यूनिवाक अंतर्राष्ट्रीय केंद्र जर्मनी तथा सीपीएससी फिलिपिंस और पीएसएससीआईवीई के संयुक्त प्रयास से आयोजित इस संगोष्ठि में देश-विदेश के करीब 1000 से ज्यादा शिक्षा  विषेशज्ञ ऑनलाइन सम्मिलित हुए। इस दौरान उन्होंने बदलते समय में पारंपरिक शिक्षा  के साथ-साथ व्यावसायिक शिक्षा की भूमिका और उसकी मजबूती को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। संस्था के संयुक्त निदेशक राजेश पुं. खंबायत के स्वागत उद्बोधन के बाद कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ हुआ।  उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए एनसीईआरटी के निदेशक डाॅ. श्रीधर श्रीवास्तव ने व्यवसायिक शिक्षा की चुनौतियों को लेकर कहा कि चुनौतियां शब्द बहुत महत्वपूर्ण है। युवाओं में कौशल

मध्य प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित एम. डी. रचना शारीर विषय में डॉक्टर कीर्ति वाला तावड़े ने विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया

मध्य प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित एम. डी. रचना शारीर विषय में डॉक्टर कीर्ति वाला तावड़े ने विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया ।  इस अवसर पर महाविद्यालय के प्रधानाचार्य डॉक्टर जे.पी. चौरसिया एवं मीडिया प्रभारी  द्वारा उक्त जानकारी देते हुए बताया कि, यह सभी छात्र उत्तीर्ण हुए जिसमें प्रथम स्थान डॉक्टर कीर्ति वाला तावडे द्वारा प्राप्त किया गया।   महाविद्यालय के समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी द्वारा डॉक्टर कीर्ति तावड़े को बधाई दी गई .  डॉक्टर कीर्ति तावड़े द्वारा डॉ प्रकाश जोशी के निर्देशन में शोध कार्य संपन्न किया। विभागाध्यक्ष डा योगेश वाणे ने भी बधाई दी । 

डॉ. शिवानी पालीवाल और डॉ. अखण्ड सिंह बघेल हिमालय ड्रग कम्पनी द्वारा जीवक और आयुर्विशारद पुरस्कार से सम्मानित ; 2018 बेच विजेता व 2017 बेच की टीम रही उप विजेता

उज्जैन। शासकीय स्वशासी धन्वन्तरि आयुर्वेद चिकित्सा महाविद्यालय उज्जौन के कान्फैन्स हॉल में आयोजित सम्मान समारोह में हिमालय ड्रग्स कंपनी द्वारा बी.ए एम.एस. अंतिम वर्ष की परीक्षा मे प्रथम स्थान प्राप्त करने के उपलक्ष्य में डॉ. शिवानी पालीवाल को जीवक पुरस्कार तथा 15,000/- का चेक तथा द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले डॉ. अखण्ड सिंह बघेल को "आयुर्वेद विशारद पुरस्कार तथा 10,000 /- का चैक सम्मान स्वरूप प्रदान किया गया। प्रथम वर्ष में प्रवेशित छात्रों के इन्डक्शन कार्यक्रम का समापन भी किया गया।  कार्यकम की जानकारी देते हुए प्रधानाचार्य डॉ. जे.पी. चौरसिया ने बताया कि, प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी हिमालय ड्रग्स कम्पनी द्वारा यह कार्यक्रम आयोजित किया गया. मुख्य अतिथि भूतपूर्व प्रधानाचार्य डॉ. यू.एस निगम तथा विशेष अतिथि भूतपूर्व प्रधानाचार्य डॉ. आर. एस. चौहान द्वारा ये पुरस्कार प्रदान किए गये। हिमालय परिवार से  डॉ नवीन खेडे, श्री मनोज, श्री रौशन आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का प्रारम्भ भगवान धन्वन्तरी के पूजन-अर्चन से हुआ, हिमालया से डॉ. नवीन खेड़े ने कम्पनी की उपलब्धियों को बताते हुए सभी इनटर्न छ

किशोरी देवी स्मृति अंतरराष्ट्रीय परिसंवाद और काव्य गोष्ठी में माँ की महिमा का गुणगान

प्रसिद्ध प्रवासी साहित्यकार सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' की माँ किशोरी देवी की स्मृति में अंतरराष्ट्रीय परिसंवाद और  काव्य संगोष्ठी संपन्न हुई।  कार्यक्रम की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कला संकायाध्यक्ष  प्रो. शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने की और हालैण्ड से प्रो. मोहनकान्त गौतम मुख्य अतिथि थे। प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा  ने कहा अज्ञात अतीत से माता की सर्वोपरि महिमा रही है। माँ के साथ मातृभूमि के प्रति समर्पण का भाव हमारी परंपरा में रहा है। संस्कृतिकर्मी और  साहित्यकारों ने कई माध्यमों से माता के योगदान का  चित्रण किया है।  प्रो. मोहनकान्त गौतम, नीदरलैंड ने किशोरी देवी से आठवें दशक में भेंट के संस्मरण सुनाये।   काव्य गोष्ठी में भाग लेने वाले कवियों में नार्वे से एस एच प्रोमिला देवी, गुरुदर्शन शर्मा और सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक, स्वीडेन से सुरेश पाण्डेय, ब्रिटेन से जय वर्मा, बर्लिन, जर्मनी से समता मल्होत्रा और न्यूजर्सी यू एस ए से राम बाबू गौतम थे। भारत से काव्यपाठ करने वाले प्रसिद्ध कवि सूर्य कुमार पाण्डेय, उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी साहित्य संस्थान के डॉ दिनेशचन्

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़