Skip to main content

Posts

क्रांति की आवश्यकता है शिक्षा में - आचार्य श्री प्रज्ञासागर जी

विक्रम विश्वविद्यालय में हुआ आचार्य श्री प्रज्ञासागर जी महाराज का शिक्षा में क्रांति पर विशिष्ट व्याख्यान जैन धर्म में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम प्रारंभ होगा भारत अध्ययन केंद्र, विक्रम विश्वविद्यालय में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन एवं महावीर तपोभूमि ट्रस्ट, भद्रबाहु प्रज्ञापीठ के मध्य एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए उज्‍जैन । विक्रम विश्वविद्यालय प्रसिद्ध सन्त आचार्य श्री प्रज्ञासागर जी महाराज का विशिष्ट व्याख्यान हुआ। उन्होंने शिक्षा में क्रांति विषय पर व्याख्यान के माध्यम से विक्रम कीर्ति मंदिर में उपस्थित सैकड़ों सुधी जनों को लाभान्वित किया। अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने की। तपोभूमि प्रणेता आचार्य श्री प्रज्ञा सागर जी महाराज तपोभूमि से विहार कर सुबह 9:30 बजे विक्रम विश्वविद्यालय के अतिथि निवास पहुंचे, जहां उनका पाद प्रक्षालन कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय, कार्यपरिषद सदस्य श्री संजय नाहर, भारत अध्ययन केंद्र के निदेशक डॉ सचिन राय, श्रीमती शिल्पी राय, समाजसेवी श्री सचिन कासलीवाल, श्रीमती विनीता कासलीवाल, आर्या कासलीवाल, डॉ रमण सोलंकी, श्री तिलक सो

तकनीकी दृष्टि से नए आविष्कार कर दिव्यांगजनों का समाज की मुख्यधारा में समावेश सुनिश्चित किया जा सकता है - डॉ. सी.सी. त्रिपाठी

भोपाल। 3 दिसम्बर को दिव्यांगजनों हेतु अंतराष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है। इस दिन दिव्यांगजनों के सम्मान में जन-जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन एवं उनके सशक्तिकरण हेतु बहुत सारे गंभीर मुद्दों को उठाते हैं और उन पर चर्चाएँ की जाती है। इसी उपलक्ष्य में सी आर सी भोपाल में 3 दिसंबर, 2022 को जन-जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस वर्ष का विषय “समावेशी विकास के लिए परिवर्तनकारी समाधान और साम्यिक दुनिया को बढ़ावा देने में नवाचार की भूमिका” रहा। भारत सरकार के विशेष अभियान 2.0 के तहत “दिव्यागजनों हेतु स्वच्छता की आवश्यकता” विषय पर एक प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। यहां महत्वपूर्ण बिंदु यह है कि इस प्रदर्शनी में पारंपरिक तरीकों, नवाचारों और संशोधनों के माध्यम से स्वच्छता हेतु समावेश एवं अभिगम्यता को मुख्य रूप से प्रदर्शित गया। दिव्यांग हितग्राहियों एवं उनके अभिभावकों हेतु एक विशेष स्वच्छता किट तैयार की गई और उनके लिए स्वच्छता के तरीकों पर एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में निटर निदेशक डॉ सी सी त्रिपाठी ने मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हए तकनीकी दृष्टि से नई खोज

विक्रम विश्वविद्यालय की 3 अध्ययनशालाओं के संयुक्त तत्वावधान में "उर्जारूपी कुंभ" श्रीमद्भागवतगीता की 5159वीं पावन जयंती का कार्यक्रम हुआ सम्पन्न

"गीता जी के उपदेशों का संबंध उज्जैन से ही" "गीता जी उर्जारूपी कुंभ" उज्जैन । "जीवन की चुनौतियों से मुकाबले के लिए आधुनिक समय में शैक्षणिक संस्थानों को श्री मद्भागवत गीता जी के माध्यम से आध्यात्मिक अध्ययन, मनन चिंतन की समग्र आवश्यकता है" - उपरोक्त उद्गार सीए प्रो. (डॉ.) दीपक गुप्ता, पूर्व अध्यक्ष प्रबंध मंडल, वरिष्ठ आचार्य पंडित जवाहरलाल नेहरू व्यवसाय प्रबंध संस्थान विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन ने 5159वी गीता जयंती के विशेष अवसर पर विगत दिवस पंडित जवाहरलाल नेहरू व्यवसाय प्रबंध संस्थान, संस्कृत, ज्योतिर्विज्ञान, वेद अध्ययनशाला एवं भारत अध्ययन केंद्र ,विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के संयुक्त तत्वावधान में ऑनलाइन कार्यक्रम में व्यक्त किए। आपने कर्मयोग, भक्तियोग ज्ञान योग की चर्चा के साथ व्याख्यान का समापन श्री हरिगीता जी से संबंधित रोचक संगीतमय भजन से किया । आरंभ में संस्कृत, ज्योतिर्विज्ञान, वेद अध्ययनशाला के विभागाध्यक्ष एवं संस्थान संकाय डॉ. डी. डी. बेदिया ने इस अवसर पर कार्यक्रम की रूपरेखा में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि, गीता की दी हुई सीख मानव समाज

विक्रम विश्वविद्यालय के प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्ययनशाला में जीव विज्ञान के महान वैज्ञानिक और प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग के संस्थापक प्रोफेसर हरस्वरूप की सौवीं वर्षगाँठ के उपलक्ष्य में पुष्पांजलि एवं अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन

उज्जैन। विक्रम विश्वविद्यालय के प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्ययनशाला में महान वैज्ञानिक और प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग  के संथापक प्रोफेसर हरस्वरूप की सौवीं वर्षगाठ के उपलक्ष्य में पुष्पांजलि एवं अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया जाएगा। विक्रम विश्वविद्यालय के प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्ययनशाला में महान वैज्ञानिक और प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग के संस्थापक प्रोफेसर हरस्वरूप की सौवीं वर्षगाँठ के उपलक्ष्य में पुष्पांजलि एवं अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन दिनांक 9 दिसंबर 2022 को  प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्ययनशाला में किया जाना है। इस संगोष्ठी में देश विदेश के प्रख्यात जैव-वैज्ञानिक एवं विभिन्न उच्च पदों पर पदस्थ विभाग के पूर्व विद्यार्थी भाग लेंगे। प्रोफेसर हरस्वरूप विश्व के जाने-माने जैव-वैज्ञानिक थे। जिस समय विश्व को जैवप्रौद्योगिकी का अधिक ज्ञान नहीं था, उस समय भी प्रोफेसर हरस्वरूप ने डेवलपमेंटल बायोलॉजी, जेनेटिक इंजीनियरिंग, पॉलीप्लोइडी, नयूक्लियर ट्रांसफ़र, क्लोनिंग आदि जैसे नवीन विषयों पर अनुसन्धान किया तथा सन 2012 में उनके सहयोगी को नोबेल पुरस्कार

विक्रम विश्वविद्यालय में संचालित परम्परागत पाठ्यक्रमों को आगे बढ़ाये जाने की आवश्यकता है – पुरीपीठाधीश्वर शंकराचार्य श्री निश्चलानंद जी

पुरी पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी निश्चलाचंद सरस्वती महाराज से कुलपति प्रो पांडेय ने की सौजन्य भेंट उज्जैन। उज्जैन पधारे पुरी पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी निश्चलाचंद सरस्वती महाराज से विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने सौजन्य भेंट की। इस अवसर पर स्वामी जी ने विक्रम विश्वविद्यालय में संचालित परम्परागत पाठ्यक्रमों की सराहना करते हुए उन्हें आगे बढ़ाये जाने की दिशा में मार्गदर्शन प्रदान किया।  विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय ने उज्जैन पधारे  पुरी  पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी निश्चलाचंद सरस्वती महाराज के दर्शन किये एवं उनसे सौजन्य भेंट करते हुए उन्हें विक्रम विश्वविद्यालय में संचालित विभिन्न परम्परागत पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी दी। विश्वविद्यालय में संचालित विभिन्न पाठ्यक्रमों को देश भर में प्रसारित करने हेतु उन्होंने मार्गदर्शन प्राप्त किया। गौरतलब है कि विक्रम विश्वविद्यालय ने पिछले दो वर्ष में कई परम्परागत पाठ्यक्रम प्रारम्भ किये गए हैं, इनमें प्रमुख हैं, एम ए हिन्दू स्टडीज़, रामचरितमानस में विज्ञान, संस्कृत साहित्य में स्न

जनमन की एक ही आवाज, राहुल गांधी संघर्ष शील योद्धा - भूमिपूत्र पवनघुवारा

भूमि पुत्र पवनघुवारा जिन्होंने बुन्देलखण्ड विशेष पैकेज पर लगातार एक लम्बा संघर्ष किया है। वह म.प्र. यात्री बनकर भारत जोडो यात्रा में कुछ दुरी तक साथ चल रहे थे। कुछ तथ्य लोगों की जुबानी से भारत जोड़ो यात्रा में निकल कर सामने आ रहे है जो प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से पवनघुवारा ने बताते हुए कहा कि, संघर्ष शील योद्धा, राहुल गांधी एक ऐसे नेता के तौर पर उभर रहे हैं जो दार्शनिक राजा की परिभाषा पर खरा उतरता है। इतिहास में उनका नाम मोदी के बाद नहीं, नेहरू के बाद लिखा जाएगा।  गांव वाले इस बात को बहुत जोर देकर पूछते हैं कि, क्या राहुल गांधी वाकई पैदल चल रहे हैं ? क्या पैदल चलने की पुष्टि होने के बाद उनके मन में राहुल जी का सम्मान कई गुना बढ़ जाता है? कांग्रेस का आईडी कार्ड लगाकर शहर में जाने वाले लोगों को आम जन और भी सम्मान की निगाह से देख रहे हैं। यात्रा कांग्रेस ने शुरू की थी, लेकिन अब यह जनता की यात्रा बन गई है और बड़े पैमाने पर इसमें नौजवान और आम जनता भी शामिल हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात जो राहुल गांधी जी के बारे में भाजपा ने दुष्प्रचार करके और करोड़ों रुपया खर्च करके उनकी छवि धूमिल कर

रसायन एवं जीव रसायन अध्ययनशाला में कैंपस इंटरव्यू में 6 छात्रों का चयन

उज्‍जैन। विक्रम विश्वविद्यालय के रसायन एवं जैव रसायन अध्ययनशाला में कैंपस इंटरव्यू का आयोजन किया गया। इसमें 6 छात्रों को रोजगार मिला है। उज्जैन की श्रीनिवास फार्मास्यूटिकल द्वारा आयोजित केंपस इंटरव्यू में 21 छात्रों ने भाग लिया, जिसमें से 6 का चयन हुआ है । श्रीनिवास फार्मास्यूटिकल रिसर्च एंड डेवलपमेंट के प्रमुख श्री आनंद वर्धन एवं प्रोडक्शन हेड श्री विनायक कुमार कौशिक की मौजूदगी में हुए केंपस इंटरव्यू में लिखित परीक्षा व साक्षात्कार लिया गया। केंपस इंटरव्यू के संयोजक डॉ दर्शना मेहता एवं डॉ अंशुमाला वाणी ने बताया कि इंटरव्यू में 21 विद्यार्थी शामिल हुए इनमें से 6 विद्यार्थियों का चयन प्लेसमेंट के लिए किया गया है। वर्तमान में तृतीय सेमेस्टर में अध्ययनरत 5 विद्यार्थी इसमें चयनित हुए हैं और पाठ्यक्रम पूर्ण होते ही उन्हें कार्य ग्रहण करना है। साथ ही गत सत्र में उत्तीर्ण छात्रा सिमरन कौर का चयन जूनियर साइंटिस्ट के लिए किया गया है । चयनित विद्यार्थी सिमरन कौर, नैना पालीवाल, वंदना किलोरिया, हनोकू छत्तूमला, राजदीप सिंह राजावत, बरखा पाटीदार हैं। विभागाध्यक्ष प्रोफेसर उमा शर्मा एवं प्रभा

जैव-प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग और भविष्य की अपार सम्भावनाएँ हैं पुष्पीय पौधों के विकास में - कुलपति प्रो पांडेय

 कुलपति प्रो पांडेय ने प्राणिकी एवं जैव प्रौद्योगिकी के छात्रों को एलिलोएलोपैथी के बारे में समझाया   उज्जैन। प्राणिकी एवं जैव प्रौद्योगिकी अध्ययनशाला, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के विद्यार्थियों द्वारा ग्रीन ग्रेजुएट कार्यक्रम के अंतर्गत विकसित किये जा रहे उद्यान का औचक निरीक्षण करने पहुंचे विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पाण्डेय ने विद्यार्थियों से चर्चा करते हुए उन्हें पादप जैव-प्रौद्योगिकी एवं उसका औद्योगिक इकाइयों में महत्त्व की जानकारी प्रदान की।  विद्यार्थियों द्वारा किये जा रहे कार्य की सराहना करते हुए कुलपति ने कहा कि पुष्पीय पौधों के विकास में जैव-प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग एवं भविष्य की अपार सम्भावनाएँ हैं।  कुलपति जी ने इस दौरान विद्यार्थियों को  एलिलोएलोपैथी के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि एलिलोएलोपैथी एक जैविक घटना है। एलिलोएलोपैथी एक पौधा दूसरे के विकास को रोकता है। एलिलोएलोपैथी का उपयोग पौधो के द्वारा प्रकृति में जीवित रहने के साधन के रूप में किया जाता है, जिससे आस-पास के पौधों से प्रतिस्पर्धा कम हो जाती है। इस क्रिया के अंतर्गत पौधे आपने आस-पास के प

त्याग के परिचायक श्री राहुल गांधी जी की भारत जोड़ो यात्रा में जनमन के बढ़ रहे कदम, जुड़ रहा है जनमन : भूमिपुत्र पवनघुवारा

मध्यप्रदेश में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महामंत्री श्री राहुल गांधी जी ने उज्जैन में भारत जोड़ो यात्रा की आमसभा को संबोधित करते हुए केंद्र सरकार और उसकी नीतियों पर जमकर निशाना साधा। श्री राहुल गांधी ने कहा कि, देश का जितना नुकसान चीनी सेना नहीं कर सकती, उससे ज्यादा जी एस टी और नोटबंदी ने कर दिया। गरीबों से पैसा लेकर कुछ उद्योगपतियों की जेब में भर दिया। सभा में उन्होंने केंद्र सरकार की नीतियों पर उंगली उठाते हुए कहा कि, इन नीतियों का लक्ष्य छोटे व्यापारियों को खत्म करना था। इस वजह से देश में बेरोजगारी बढ़ी। इन नीतियों ने देश को कमजोर कर दिया। उन्होंने कहा कि, वर्तमान सरकार का काम केवल मुद्दों पर से ध्यान भटकाना रहता है। हम बेरोजगारी, महंगाई के मुद्दे उठाते हैं और भाजपा विराट की शतक, शाहरुख की एक्टिंग की बातें करती है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में लगातार यात्रा में साथ चल रहे मध्यप्रदेश यात्री श्री पवन घुवारा ने प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि,  यूं बढ़ रहे हैं कदम, जुड़ रहा है वतन,  अपनों के संग, मा.राहुलगांधी जी के साथ । भारत जोड़ो यात्रा को मध्यप्रदेश की जनता ने राहुल गांधी ज

विद्यार्थी दिवस पर बोर्ड परीक्षा में उच्च अंक प्राप्त 5 छात्रों का अभिनंदन होगा

राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना उज्जैन एवं शिक्षिका लीलाताई डोंगरे स्मृति सम्मान समारोह समिति द्वारा महिदपुर रोड में हायर सेकेण्डरी स्कूल के कक्षा 10वीं एवं 12वीं के छात्रों में से बोर्ड परीक्षा में उच्च अंक प्राप्त 5 विद्यार्थियों को पूर्व महामहिम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के जयंती पर विद्यार्थी दिवस को अभिनंदन समारोह होगा। यह जानकारी जिलासचिव अनिल कुमार सेठिया ने  देते हुए बताया कि समारोह मुख्य अतिथि श्रीमती दलजीत कौर गुर,  सदस्य जिला पंचायत, विशिष्ट अतिथि श्रीमती रीतु पाटीदार सरपंच ग्राम पंचायत महिदपुर रोड, श्री राजेश कांठेड़ समाजसेवी, श्री दिनेशकुमार मंडोवरा पत्रकार, श्री नरेश शर्मा पत्रकार, श्री शिवनारायण बामनिया प्राचार्य, श्री विमलकुमार सूर्यवंशी प्राचार्य एवं अध्यक्षता पूर्व शिक्षक श्री हिम्मतसिंह खींची तथा मुख्य वक्ता डॉ. प्रभु चौधरी राष्ट्रीय महासचिव होंगे। अभिनंदन समारोह की संयोजक श्रीमती संगीता हडके(भोपाल) इसी विद्यालय की छात्रा जो कि पूर्व प्रधानाध्यापिका लीलाताई डोंगरे की सुपुत्री है। सम्मान समारोह में विद्यार्थी योगिता पाटीदार, नाजमीन मंसुरी, पायल सेन, दुर्गेशसिंह

साहित्यकार, लेखको एवं समाजसेवीयों को सम्मानित करेंगे

राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना केन्द्र उज्जैन के वार्षिक अधिवेशन 25 एवं 26 दिसंबर को राष्ट्रीय संचेतना समारोह में पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिवस पर अनेक आयोजन होंगे। यह जानकारी राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. कृष्णा जोशी ने देते हुए बताया कि प्रतिवर्षानुसार वर्ष के अन्तिम सप्ताह में राष्ट्रीय अधिवेशन आयोजित होगा इस अवसर पर देश के साहित्यकार जिनका शिक्षा, साहित्य एवं संस्कृति के विकास में विशिष्ट योगदान रहा उन्हें 5 राष्ट्र रत्न अलंकरण हेतु चयन समिति नाम घोषित करेगी। समारोह में राष्ट्रीय संगोष्ठी में विद्वान, प्राध्यापक एवं शोधार्थी पत्रो का वाचन करेंगे। समारोह में राष्ट्रीय महासचिव डॉ. प्रभु चौधरी की नवीन पुस्तक ‘देवतुल्य मानव‘ के लेखकॊ को सम्मानित किया जावेगा। अतिथियों द्वारा पुस्तक का विमोचन होगा। अटल श्री काव्य  समारोह रात्रि में कवि श्री अटल जी की कविताओं का कविता पाठ एवं भारतमाता के गीत प्रस्तुत किये जावेंगे। दि. 26 दिसम्बर प्रातः अटलश्री काव्य सम्मान समारोह एवं संगठन कार्यविस्तार पर चर्चा गोष्ठी के साथ समारोह का समापन होगा।