Skip to main content

Posts

दसवें अंतर्राष्ट्रीय विश्व योग दिवस पर शासकीय धन्वन्तरि आयुर्वेद महाविद्यालय परिसर में प्रातः सामुहिक योगाभ्यास किया गया

उज्जैन। मंगलनाथ मार्ग में स्थित शासकीय धन्वंतरि आयुर्वेद महाविद्यालयीन चिकित्सालय, उज्जैन में 21 जून 2024 को आयोजित दसवें अंतर्राष्ट्रीय विश्व योग दिवस को सामुहिक योगाभ्यास किया गया। उक्त योगाभ्यास कार्यक्रम में महाविद्यालय के समस्त शिक्षक अधिकारी, चिकित्सा अधिकारी, कर्मचारी, बीएएमएस छात्र/छात्रायें एवं एम.डी. प्रशिक्षणार्थी द्वारा भारत सरकार, आयुष विभाग मंत्रालय के प्रोटोकाल अनुसार प्रातः 6:00 बजे से प्रातः 7:45 बजे तक योगाभ्यास किया गया। उक्त योगाभ्यास में योगाभ्यासी द्वारा अनुमानित 200 की संख्या में भाग लेकर योगाभ्यास किया गया।  योगाभ्यास का संचालन डॉ. राकेश कुमार निमजे, रीडर एवं विभागाध्यक्ष, स्वस्थवृत्त विभाग द्वारा सम्पूर्ण कार्यक्रम का संचालन किया गया साथ ही डॉ. निरंजन सराफ व्याख्याता, श्री शेखर बारापात्रे योग प्रशिक्षक द्वारा प्रदर्शन किया गया। उक्त कार्यक्रम पश्चात डॉ. जे.पी. चौरसिया प्रधानाचार्य द्वारा समस्त योगाभ्यासी को अपने उद्बोधन द्वारा विचार प्रस्तुत किये गये। साथ ही सभी को बधाईयां दी। डॉ. ओ.पी. व्यास द्वारा आभार प्रदर्शन किया गया। उक्त जानकारी प्रधानाचार्य डॉ.

लिपिका, वैदिक एवं आनंद ने जीता शतरंज खिताब

उज्जैन। महाकवि कालिदास जयंती समारोह समिति के तत्वावधान में बुद्धि बल चेस अकैडमी के सहयोग से शतरंज प्रतियोगिता का आयोजन नटखट प्ले स्कूल, लक्ष्मी नगर, उज्जैन पर किया गया। यह प्रतियोगिता तीन आयु वर्गों अंडर 15, अंडर 11 एवं अंडर 7 में खेली गई। स्पर्धा का शुभारंभ महाकवि कालिदास समारोह समिति के उपेंद्र दीक्षित, अनूप दीक्षित, गिरीश अवस्थी, शरद चंद्र व्यास, चितरंजन दीक्षित, अंकित व्यास, अपूर्व दीक्षित, महेश त्रिवेदी एवं राजेश सिंह कुशवाहा की उपस्थिति में हुआ। अंडर 15 आयु वर्ग में तीन चक्र के पश्चात आनंद सिंह कुशवाह प्रथम स्थान, सिया नीरज कुशवाह द्वितीय स्थान एवं देवांश ठाकुर ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। अंडर 11 आयु वर्ग में वैदिक मोहिते ने प्रथम स्थान, अनेकांत सेठी ने द्वितीय स्थान एवं प्रावि सिंह तोमर तृतीय स्थान प्राप्त किया। अंडर 7 आयु वर्ग में लिपिका माहेश्वरी ने प्रथम स्थान, धीर चेतनानी ने द्वितीय स्थान एवं फाल्गुन पांडे ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। सभी खिलाड़ियों को 22 जून को त्रिवेणी संग्रहालय पर होने वाले महाकवि कालिदास जयंती समारोह में ट्रॉफी एवं प्रमाण पत्रों के द्वारा सम्मान

योग स्वयं की, स्वयं के माध्यम से, स्वयं तक की यात्रा है - प्रो. सी. सी. त्रिपाठी

  भोपाल। एनआईटीटीटीआर भोपाल परिसर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योगाभ्यास का आयोजन किया गया। इस अवसर पर संस्थान के संकाय सदस्य, अधिकारीयों, कर्मचारियों और बच्चों ने योगाभ्यास में शामिल होकर स्वस्थ्य रहने का सन्देश दिया।  योग दिवस पर संस्थान के निदेशक प्रो. सी. सी. त्रिपाठी ने अपने सन्देश में कहा कि इस वर्ष के अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की थीम, ‘स्वयं और समाज के लिए योग’ है जिसका उद्देश्य समाज में शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को बढ़ावा देना है। यह दर्शाता है कि कैसे योग मनुष्यों को मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के प्रति स्पष्टता प्रदान कर सकता है, जिससे हम जीवन की चुनौतियों का अधिक प्रभावी ढंग से सामना कर सकते है। योग स्वयं की, स्वयं के माध्यम से, स्वयं तक की यात्रा है। योग अपने दोहरे लाभों के लिए जाना जाता है: शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाना और असाधारण मानसिक शक्ति विकसित करना। आजकल, भागदौड़ भरी ज़िंदगी में जहाँ स्वास्थ्य के लिए समय कम होता है और तनाव का स्तर बहुत ज़्यादा होता है, लोग कई तरह की बीमारियों के शिकार हो जाते हैं।  ऐसे में, योग के लिए सिर्फ़ आधे घंटे से लेकर

योग स्वास्थ्य एवं कल्याण का पूर्णता वादी दृष्टिकोण है

21 जून 2024 को दसवे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर पूरे विश्व में एक साथ योग दिवस मनाया गया। योग प्राचीन भारतीय परंपरा एवं संस्कृति की अमूल्य देन है। आचार्य पतंजलि के अनुसार योग चित्त वृत्ति निरोध: चित्त की वृत्तियों का निरोध ही योग कहलाता है। योग स्वस्थ जीवन की कला एवं विज्ञान है, योग अभ्यास शरीर एवं मन ,विचार एवं कर्म ; आत्म संयम एवं पूर्णता की एकात्मकता तथा मानव एवं प्रकृति के बीच सामंजस्य प्रदान करता है।  योग केवल व्यायाम नहीं है बल्कि स्वयं के साथ विश्व और प्रकृति के साथ एकत्व खोजने का भाव है। योग हमारी जीवन शैली में परिवर्तन लाकर हमारे अंदर जागरूकता उत्पन्न करता है तथा प्राकृतिक परिवर्तनों से शरीर में होने वाले बदलावों को सहन करने में सहायक होता है। योग एक विज्ञान है जो शारीरिक मानसिक आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ रहने का ज्ञान करता है । यह किसी प्रजाति , आयु , लिंग, धर्म, जाति के प्रतिबंधन से मुक्त है। योग के अनुसार अधिकांश रोग मानसिक मनो शारीरिक एवं शारीरिक होते हैं जो सोच विचार रहन-सहन तथा खान-पान की गलत आदतों के कारण मन में उत्पन्न होते हैं जिसका कारण स्वयं से लगाव है । यो

आईसीएआर-केंद्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान, भोपाल ने “स्वयं और समाज के लिए योग” थीम के साथ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-24 मनाया

🙏 द्वारा, राधेश्याम चौऋषिया, वरिष्ठ पत्रकार 🙏 भोपाल। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के निर्देशों के अनुरूप, आईसीएआर-केंद्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान, भोपाल ने 21 जून 2024 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन किया । “स्वयं और समाज के लिए योग” थीम पर आयोजित इस कार्यक्रम में संस्थान के कर्मचारी और अतिथि बहुत उत्साह और सक्रिय भागीदारी के साथ सम्मिलित हुए।  अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस -24 के नोडल अधिकारी डॉ. एम.के. त्रिपाठी ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी कर्मचारियों और अतिथियों का स्वागत किया और अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के महत्व और लाभों पर जोर देते हुए इसकी जानकारी भी दी। डॉ. पूर्णिमा नायक, श्री प्रतीक श्रीवास्तव, श्रीमती नीरजा पारे, श्रीमती सुषमा चौरे, श्रीमती हेमलता शर्मा और श्रीमती सुपर्णा कुमार सहित सहज योग फाउंडेशन, भोपाल के विशेषज्ञों ने योग सत्र का संचालन किया। उन्होंने समग्र स्वास्थ्य के लिए दैनिक जीवन में योग और ध्यान को शामिल करने के महत्व पर प्रकाश डाला।  योग सत्र में सामान्य योग अभ्यास, ध्यान, विभिन्न आसन (मुद्राएँ), प्राणायाम (श्वास व्यायाम) को शामिल कर योग अभ्यास किया

योग एक विज्ञान है इसे दिनचर्या का हिस्सा बनाएँ : श्री अवधेश प्रताप सिंह, प्रमुख सचिव

🙏 द्वारा, राधेश्याम चौऋषिया, वरिष्ठ पत्रकार 🙏 भोपाल । अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर मध्यप्रदेश विधानसभा के प्रमुख सचिव श्री अवधेश प्रताप सिंह जी ने बातचीत में कहा कि योग शरीर, मन और आत्मा को जोड़ने का विज्ञान है ।  आपने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सभी को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए कहा कि, योग हमारे जीवन में आनंद और आंतरिक शांति लाने का एक तरीका है। रोगमुक्त जीवन के लिए योग हमारी दिनचर्या में शामिल होना चाहिए । योग से जीवन में आनंद लाने के साथ शारीरिक और आंतरिक सशक्तिकरण का माध्यम है। रोगमुक्त जीवन के लिए योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करें। आज विश्व संगीत दिवस भी है सभी को अंतर्राष्ट्रीय योग एवं विश्व संगीत दिवस की भी हार्दिक शुभकामनाएं। ✍  राधेश्याम चौऋषिया  Radheshyam Chourasiya Radheshyam Chourasiya II ● सम्पादक, बेख़बरों की खबर ● राज्य स्तरीय अधिमान्य पत्रकार, जनसम्पर्क विभाग, मध्यप्रदेश शासन ● राज्य मीडिया प्रभारी, भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश ● मध्यप्रदेश ब्यूरों प्रमुख, दैनिक निर्णायक ● मध्यप्रदेश ब्यूरों प्रमुख, दैनिक मालव क्रान्ति "बेख़बरों की खबर&quo

मध्यप्रदेश समाचार

देश समाचार