Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2022

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन हमारे विद्यार्थियों के भविष्य को सुरक्षित करता है - कुलपति प्रो पांडेय

कुलपति के साथ शैक्षणिक संवाद का आयोजन सम्पन्न विद्यार्थियों को अपने उज्ज्वल भविष्य के लिए एक निश्चित लक्ष्य का निर्धारण आवश्यक है। लक्ष्य निर्धारण में अनुभवी विषय विशेषज्ञों के द्वारा मार्गदर्शन प्रदान करने हेतु शेषषायी महाविद्यालय, नागदा द्वारा शैक्षणिक संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में प्रोफेसर अखिलेश कुमार पांडेय, कुलपति, विक्रम विश्वविद्यालय उपस्थित थे। इस कार्यक्रम में नागदा में स्थित समस्त महाविद्यालय के विद्यार्थी, प्राचार्य, प्राध्यापक एवं कर्मचारी उपस्थित थे। शैक्षणिक संवाद कार्यक्रम में कुलपति ने विद्यार्थियों द्वारा पूछे गए प्रश्नों का जवाब देते हुए उन्हें मार्गदर्शन प्रदान किया। शेषशायी महाविद्यालय, नागदा द्वारा शैक्षणिक संवाद कार्यक्रम का आयोजन दिनांक 30 जुलाई 2022 को किया गया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य विद्यार्थियों को अनुभवी प्राध्यापकों द्वारा लक्ष्य निर्धारण हेतु मार्गदर्शक उपलब्ध करवाना था। शैक्षणिक संवाद कार्यक्रम में स्वामी विवेकानंद शासकीय महाविद्यालय, शासकीय कन्या महाविद्यालय, वर्धमान कॉलेज ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज की सहभागिता थी।

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा बृहद् कैरियर काउंसलिंग और व्यक्तित्व विकास सेमिनार में शामिल हुए छह सौ से अधिक विद्यार्थी

कुलपति के साथ संवाद कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने किया अपनी जिज्ञासाओं का समाधान विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा की गई अभिनव पहल उज्जैन । विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन द्वारा विद्यालयीन विद्यार्थियों के स्वर्णिम भविष्य को ध्यान में रखते हुए नगर के विभिन्न विद्यालयों में अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिए बृहद् कैरियर काउंसलिंग और व्यक्तित्व विकास सेमिनार तथा कुलपति जी के साथ संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। विक्रम कीर्ति मंदिर में दिनांक 29 जुलाई को आयोजित इस आयोजन में 600 से अधिक विद्यार्थियों ने भाग लिया तथा अनेक विद्यार्थियों ने कुलपति के साथ संवाद करते हुए प्रश्न किए, जिनका समाधान कुलपति जी द्वारा किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय द्वारा की गई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ आनंद शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी, विशिष्ट अतिथि कार्यपरिषद् सदस्य श्री संजय नाहर, कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक, शिक्षाविद श्री वरुण गुप्ता एवं कुलानुशासक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा थे। विभिन्न विद्यालयों में अध्ययनरत छोटे आयु वर्ग के विद्यार्थियों को अपने भविष्य निर्धारण

संचेतना समाचार पत्र एवं वंशवृक्षम का विमोचन होगा

राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना का मुखपत्र संचेतना समाचार एवं डॉ अनिल चतुर्वेदी मुंबई की पुस्तक वंशवृक्षम का विमोचन मुंशी प्रेमचंद जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में अतिथियों द्वारा किया जावेगा। यह जानकारी राष्ट्रीय महासचिव डॉक्टर प्रभु चौधरी ने देते हुए बताया कि, संचेतना समाचार पत्र को 1 वर्ष पूर्ण होने पर द्वितीय वर्ष के प्रथम अंक का विमोचन एवं राष्ट्रीय सचिव अनिल चतुर्वेदी की पुस्तक का विमोचन इस अवसर पर किया जाएगा । संचेतना समाचार पत्र के प्रधान संपादक अतिथि डॉक्टर अनुसूया अग्रवा,ल संपादक रशिम चौबे, प्रबंध संपादक मुक्ता कोशिक एवं सहयोगी संपादक श्रीमती मणि माला शर्मा का सहयोग रहा। समारोह को सफल बनाने की अपील राष्ट्रीय अध्यक्ष ब्रजकिशोर शर्मा, सुवणा जाधव, सुनीता राठौड़, प्रभा बैरागी, डॉक्टर जगदीश शर्मा, प्रगति बैरागी, अनिल जोशी, श्रीमती रिचा तिवारी, डॉक्टर अमृता अवस्थी , डॉक्टर मनीषा शर्मा, डॉ इंदु सिन्हा, सुंदर लाल जोशी, हरचरण सिंह चावला आदि ने प्रबुद्ध वर्ग से समारोह में उपस्थित होने की अपील की।

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन की समस्त अध्ययनशालाओं / संस्थानों / विभागों में संचालित विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश की तिथि में वृद्धि की जाकर प्रवेश की अंतिम तिथि 14 अगस्त निर्धारित की गई

उज्जैन । विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन की समस्त अध्ययनशालाओं / संस्थानों/विभागों में संचालित विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश की तिथि में वृद्धि की जाकर प्रवेश की अंतिम तिथि  दिनांक 14.08.2022 निर्धारित की गई हैं। कुलानुशासक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि, प्रवेश के इच्छुक विद्यार्थी विस्तृत जानकारी के लिए संबंधित अध्ययनशाला/ संस्थान/विभाग से सम्पर्क स्थापित कर सकते हैं। पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु विद्यार्थी पूर्ववत् एमपी अपॅनलाईन के माध्यम से प्रवेश एवं शुल्क जमा करा सकेंगे।

बृहद् करियर मार्गदर्शन एवं व्यक्तित्व विकास पर संगोष्ठी 29 जुलाई को विक्रम विश्वविद्यालय में

कुलपति जी से छात्र - छात्राओं के संवाद कार्यक्रम का आयोजन 29 जुलाई को विभिन्न विशेष क्षेत्रों से संबंधित पाठ्यक्रमों एवं जॉब अवसरों पर चर्चा होगी उज्जैन । विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन द्वारा करियर मार्गदर्शन एवं व्यक्तित्व विकास सेमिनार और कुलपति से संवाद कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। यह कार्यक्रम दिनांक 29 जुलाई 2022 को विक्रम कीर्ति मंदिर में प्रातः 9 बजे से होगा। कार्यक्रम में उज्जैन के विभिन्न विद्यालयों के हाल ही में हायर सेकेंडरी उत्तीर्ण और हायर सेकेंडरी में अध्ययनरत छात्र भाग लेंगे। विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा चलाये जा रहे विश्वविद्यालय चलो अभियान के अंतर्गत विगत एक माह से विद्यार्थियों को करियर मार्गदर्शन प्रदान करने का कार्य विश्वविद्यालय के शिक्षकों द्वारा सफलतापूर्वक किया जा रहा है। इसी शृंखला को आगे बढ़ाते हुए विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा दिनांक 29 जुलाई 2022 को कीर्ति मंदिर में प्रातः 9 बजे से करियर मार्गदर्शन एवं व्यक्तित्व विकास पर सेमिनार और कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय के साथ संवाद कार्यक्रम का आयोजन रखा गया है। इस कार्यक्रम में उज्जैन के विभिन्न विद्यालयों के

आयुर्वेद महाविद्यालय में इथिकल कमेटी के समक्ष स्नातकोत्तर अध्येताओं ने दिया प्रेजेंटेशन

उज्जैन। धन्वन्तरि आयुर्वेद महाविद्यालय उज्जैन में काय चिकित्सा, रचना शारीर, द्रव्य गुण विभाग के 11 अध्येताओं द्वारा नये सत्र में प्रारंभ होने वाले स्नातकोत्तर शोध कार्यों का सिनोप्सिस प्रेजेंटेशन संस्था को इथिकल कमेटरी के समक्ष किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के पूर्व प्राचार्य डॉ० श्याम लाल शर्मा द्वारा की गई। इथिकल कमेटी के सदस्यों के रूप में डॉ. एपी एस चौहान, डॉ. मनु गौतम, डॉ. रुचि सिंह बघेल, . एडवोकेट श्रीमती समता पटेल एवं संस्था के अध्यापक डॉ० ओ० पी० व्यास, डॉ० नृपेन्द्र मिश्र, डॉ० अजय कीर्ति जैन, डॉ. योगेश वाणे, डॉ. सुनीता डी राम, डॉ. शिरोमणि मिश्रा, डॉ० वंदना सराफ, डॉ. प्रकाश जोशी, डॉ. निरंजन सराफ, डॉ० रामतीर्थ शर्मा उपस्थित रहे।  संस्था के प्राचार्य डॉ० जे० वी० चौरसिया ने शोधकर्ताओं का उत्साहवर्धन किया एवं शोध कार्यों में महाविद्यालय एवं चिकित्सालय द्वारा आवश्यक सहयोग हेतु आश्वस्त किया । उक्त जानकारी मीडिया प्रभारी डॉ. प्रकाश जोशी ने दी।

उद्देश्य युवा सामाजिक एवं जन कल्याण समिति द्वारा विश्व प्रकृति दिवस मनाया गया

भोपाल - उद्देश्य युवा सामाजिक एवं जन कल्याण समिति द्वारा आज विश्व प्रकृति दिवस के अवसर पर पौधारोपण कर संस्था के सदस्यों को पर्यावरण संरक्षण की शपथ दिलाई गई। संस्था के लक्की चौबे ने बताया कि पर्यावरण दिवस केवल वर्तमान पीढ़ी को नहीं बल्कि आने वाली पीढ़ियों के लिए भी एक स्वस्थ पर्यावरण के महत्व की याद दिलाता है। विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस का उद्देश्य वनस्पतियों और जीवों जैसे प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के बारे में जनता के बीच जागरूकता पैदा करना है। संस्था के लक्की चौबे ने बताया है कि धरती को बचाने में संसाधनों के संरक्षण की महत्वपूर्ण भूमिका है । उसकी प्राकृतिक सुंदरता में संतुलन प्रकृति के कई हिस्सों जैसे पानी, हवा, मिट्टी, ऊर्जा, मिनरल्स, वनस्पति, पशु-पक्षियों को संरक्षित कर किया जा सकता है। चौबे ने बताया कि इस अवसर पर संस्था के रवि परमार, भव्य सक्सेना, भगवती घिरमिरे, मनीष कोली आदि सदस्य उपस्थित रहे।