Skip to main content

रैली, जुलूस, गैर, फाग उत्सव, मिलन समारोह, प्रदर्शन, मेलों का आयोजन, धरने आदि पर प्रतिबंध, उज्जैन कलेक्टर ने धारा-144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये

रैली, जुलूस, गैर, फाग उत्सव, मिलन समारोह, प्रदर्शन, मेलों का आयोजन, धरने आदि पर प्रतिबंध, कलेक्टर ने धारा-144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये

 उज्जैन 26 मार्च। कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण आमजन के स्वास्थ्य एवं जीवन को लेकर प्रतिकूल परिस्थितियां निर्मित होने की संभावनाओं को देखते हुए कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री आशीष सिंह ने दण्ड प्रक्रिया संहिता-1973 की धारा-144 के तहत पूर्व में जारी आदेश दिनांक 22 मार्च 2021 को अधिक्रमित करते हुए उज्जैन जिले की सम्पूर्ण राजस्व सीमाओं के अन्तर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये हैं। आदेश के तहत क्षेत्र में किसी भी प्रकार के सामाजिक, सांस्कृतिक एवं धार्मिक त्यौहारों/कार्यक्रम में निकलने वाली रैली, जुलूस, गेर, फाग उत्सव, शब बरात, ईस्टर एवं अन्य पर्वों पर किसी प्रकार का जुलूस, मिलन समारोह, किसी भी प्रकार के प्रदर्शन, मेलों के आयोजन, धरना आदि का आयोजन एवं सार्वजनिक रूप से लोगों का एकत्रित होना प्रतिबंधित रहेगा। 


 कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी द्वारा जारी किये गये आदेश अनुसार-


• सभी दुकानों एवं अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर उनके संचालकों द्वारा मास्क, सेनीटाइजर का उपयोग और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जायेगा। सभी संस्थानों के संचालकों द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने के लिये अपने प्रतिष्ठान/दुकान के आगे (बाहर) दो-दो गज की दूरी पर आवश्यक संख्या में गोले बनवाये जायेंगे। शासन के निर्देशों का पालन करना एवं करवाना सम्बन्धित प्रतिष्ठान के संचालक का उत्तरदायित्व होगा।

• भारत सरकार एवं मप्र शासन के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण के सम्बन्ध में जारी एडवायजरी के अनुसरण में भारत के बाहर से आने वाले नागरिकों को जिला चिकित्सालय द्वारा संचालित कोरोना आइसोलेशन सेन्टर में जांच उपरान्त ही जिले में प्रवेश की अनुमति प्रदान की जायेगी।

• आमजन को सार्वजनिक स्थानों पर जन-सुरक्षा की दृष्टि से चेहरे पर मास्क धारण करना अनिवार्य होगा।

• आमजन को सार्वजनिक स्थानों पर सुरक्षा की दृष्टि से चेहरे पर मास्क धारण करना अनिवार्य होगा।

• समस्त धार्मिक स्थानों पर आने वाले व्यक्तियों/दर्शनार्थियों को आवश्यक संक्षिप्त जांच के पश्चात स्वस्थ होने की स्थिति में ही प्रवेश दिया जायेगा।

• सभी प्रकार के धार्मिक स्थलों पर सम्बन्धित धार्मिक स्थान के संचालक, पदाधिकारी या पुजारी द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने के लिये निर्धारित दूरी पर गोले निर्मित किये जायेंगे।

• सभी धार्मिक स्थानों में एक समय में एक स्थान पर 100 व्यक्ति ही दर्शन हेतु उपस्थित रह सकेंगे। निर्धारित अधिकतम दर्शनार्थियों की संख्या का पालन सम्बन्धित धार्मिक संस्थान के संचालक द्वारा करवाया जायेगा।

• विवाह या अन्य सामाजिक कार्यक्रम में एक स्थान पर 50 से अधिक व्यक्ति शामिल नहीं हो सकेंगे।

• शमशान, कब्रस्तान इत्यादि में होने वाले विभिन्न धार्मिक संस्कार के कार्यक्रम के तहत अधिकतम 20 व्यक्ति ही उपस्थित रहेंगे।

• किसी भी शवयात्रा में 20 से अधिक व्यक्ति सम्मिलित नहीं हो सकेंगे। उठावना के कार्यक्रम चलित स्वरूप के होंगे। इस तरह के कार्यक्रम में 20 से अधिक व्यक्ति उपस्थित नहीं हो सकेंगे।

• उज्जैन जिले में आगामी आदेश तक प्रतिदिन रात्रि 10 बजे से प्रात: 6 बजे तक समस्त दुकानें एवं अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान बन्द रहेंगे। अत्यावश्यक सेवाओं जैसे स्वास्थ्य सेवाएं, मेडिकल स्टोर, राशन एवं खानपान तथा पेट्रोल पम्प आदि पर यह प्रतिबंध लागू नहीं होगा।

• बन्द हॉल में होने वाले कार्यक्रमों में दो गज की दूरी के अनुसार हॉल की कुल क्षमता के 50 प्रतिशत व्यक्ति ही सम्मिलित हो सकेंगे तथा यह संख्या किसी भी स्थान पर अथवा किसी भी स्थिति में 100 से अधिक नहीं होगी।

• जिले के समस्त स्वीमिंग पुल, जिम, सिनेमा घर पूर्णत: बन्द रहेंगे।

• जिले के सभी रेस्टोरेंट में बैठकर खाने पर प्रतिबंध रहेगा, परन्तु वह टेकअवे (पार्सल) भोजन सुविधा प्रदाय कर सकेंगे।

• कोविड संक्रमित होने या कोविड संक्रमण की जानकारी का ज्ञान होने पर सम्बन्धित पैथालॉजी/मेडिकल संस्थान/व्यक्ति विशेष की जानकारी समान दिन सीएमएचओ को उपलब्ध करायेंगे।


       उक्त प्रतिबंधात्मक आदेशों का पालन अनिवार्य होगा, किन्तु आवश्यक होने पर विशेष एवं विषम परिस्थितियों में सम्बन्धित क्षेत्र के अनुविभागीय दण्डाधिकारी अपनी अधिकारिता अन्तर्गत सम्बन्धित क्षेत्र के पुलिस अधिकारी से आवश्यक परामर्श कर आवश्यक छूट/अनुमति जारी करने के लिये सक्षम प्राधिकारी होंगे, किन्तु अनुमति की पूर्व सूचना जिला दण्डाधिकारी को प्रदान करना आवश्यक होगी। उक्त आदेश का उल्लंघन भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा-188 के अन्तर्गत दण्डनीय अपराध होगा। यह आदेश 25 मार्च से आगामी दो माह तक प्रभावशील रहेगा।

-------------------------------------------------------------

आने वाले पर्वों के मद्देनजर एडीएम ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था के सम्बन्ध में बैठक ली


उज्जैन 26 मार्च। शुक्रवार को अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी श्री नरेन्द्र सूर्यवंशी और एएसपी श्री अमरेन्द्र सिंह ने पुलिस कंट्रोल रूम के सभाकक्ष में आने वाले पर्वों के मद्देनजर कानून व्यवस्था, कोविड-19 की गाईड लाइन के सुचारू रूप से पालन और अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के उद्देश्य से पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की।


बैठक में एडीएम श्री सूर्यवंशी ने जिले में धारा-144 के तहत जारी प्रतिबंधात्मक आदेश के बारे में सभी अधिकारियों को विस्तार से जानकारी दी। बैठक में बताया गया कि अधिकारी आमजन को कोविड-19 की गाईड लाइन के तहत अनिवार्यत: मास्क लगाना तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाना सुनिश्चित करेंगे। पर्वों को ध्यान में रखते हुए निकलने वाली रैली, जुलूस, गेर, शब बरात, ईस्टर, मिलन समारोह आदि में सार्वजनिक रूप से लोगों का एकत्रित होना प्रतिबंधित रहेगा। प्रोसेशन निकालने पर भी पूर्णत: प्रतिबंध रहेगा।


बैठक में कब्रस्तान के बाहर बैनर और बेरिकेटिंग करने के निर्देश दिये गये। साथ ही एडीएम श्री सूर्यवंशी ने राजस्व अधिकारी और पुलिस अधिकारियों की संयुक्त टीम बनाई जाने के निर्देश दिये। एएसपी श्री सिंह ने पुलिस विभाग के अधिकारियों को उनके सम्बन्धित अधिकार क्षेत्रों में निरन्तर पैदल गश्त करने और पेट्रोलिंग करने के लिये कहा। एडीएम श्री सूर्यवंशी ने निर्देश दिये कि पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी समन्वय बनाकर ड्यूटी करें। थाना क्षेत्रों में भी समय-समय पर पुलिस अधिकारी बैठक आयोजित करें।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग