Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2022

विश्वविद्यालय की कीर्ति पताका को आगे बढ़ाने में अविस्मरणीय योगदान दिया प्रो मिश्र ने - उच्च शिक्षा मंत्री डॉ यादव

विक्रम कीर्ति मंदिर में आयोजित सम्मान पर्व में किया गया पूर्व कुलपति प्रो मिश्र का सारस्वत सम्मान   उज्जैन। विक्रम विश्वविद्यालय के विक्रम कीर्ति मंदिर सभागार में संस्था अश्विनी शोध संस्थान द्वारा विक्रम विश्वविद्यालय एवं रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर के पूर्व कुलपति प्रो रामराजेश मिश्र का सारस्वत सम्मान किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मध्य प्रदेश  के माननीय उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने की। विशिष्ट अतिथि संस्था नवसंवत नव विचार के अध्यक्ष डॉ योगेश शर्मा थे। पूर्व कुलपति प्रो मिश्र को साफा बांधकर, शॉल, श्रीफल एवं सम्मान पत्र अर्पित कर उनका सम्मान अतिथियों द्वारा किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव ने कहा कि विक्रम विश्वविद्यालय की कीर्ति पताका को आगे बढ़ाने में पूर्व कुलपति प्रो मिश्र का अविस्मरणीय योगदान रहा है। उन्होंने विपरीत परिस्थितियों में कार्य किया। अपने पुरुषार्थ और प्रतिभा से उन्होंने अपना लोहा मनवाया। विश्वविद्यालय के साथ नगर को एक रस करने का प्रयास उन्होंने किया।

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन द्वारा एमसीए सहित 20 परीक्षाओं के परिणाम घोषित

उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने बताया कि, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन द्वारा  एमसीए सहित 20 परीक्षाओं  के परिणाम घोषित हुए हैं, जिसे विद्यार्थी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर जाकर देख सक ते हैं...  

पर्यावरण संतुलन के लिए विश्वविद्यालय परिसर को स्वच्छ एवं हरा-भरा बनाए रखने के लिए सहयोग करने की पेशकश की

उज्जैन । विश्वविद्यालय अकादमिक परिसर में पौधारोपण एवं उनके संरक्षण व्यवस्था का निरीक्षण करने के लिए कुलपति प्रो पांडेय ने दिनांक 31 अगस्त 2022 को प्रातः कालीन भ्रमण किया। प्रातः कालीन भ्रमण करने वाले आम नागरिकों एवं समाजसेवियों ने कुलपति से परिसर में मवेशियों के प्रवेश को पूर्णतः प्रतिबंधित करने की मांग करते हुए परिसर की को हरा भरा रखने में सहयोग करने की पेशकश की। दिनांक 31 अगस्त 2022 गणेश चतुर्थी के दिन विश्वविद्यालय परिसर में रोपित किए गए पौधों की सुरक्षा व्यवस्था का निरीक्षण करने के लिए कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने अकादमिक परिसर का भ्रमण किया। प्रातःकालीन भ्रमण के समय कुछ विभागों में गाय और भैंस चरते हुए देखी गई , जिसके नियंत्रण हेतु सुरक्षा गार्डों को सख्त निर्देश दिए गए हैं । प्रातः कालीन भ्रमण करने वाले उज्जैन के गणमान्य नागरिक एवं समाजसेवियों ने कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पांडेय से चर्चा करते हुए विश्वविद्यालय परिसर को स्वच्छ एवं हरा-भरा बनाए रखने के लिए परिसर में मवेशियों के प्रवेश पर पाबंदी लगाने की मांग की है तथा परिसर को हरा-भरा बनाए रखने तथा स्वच्छता हेतु सहयोग

विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय राष्ट्रीय स्तर के वाई. एस. रिसर्च एक्सेलेंस अवार्ड से सम्मानित

  उज्जैन । विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय को वाई. एस. सिंह रिसर्च फाउंडेशन फॉर पालिसी एंड एडमिनिस्ट्रेशन, देहरादून द्वारा दिनांक 30 अगस्त 2022 को राष्ट्रीय स्तर के वाई. एस. रिसर्च एक्सेलेंस अवार्ड से पुरस्कृत किया गया। देहरादून स्थित वाई. एस. रिसर्च फाउंडेशन फॉर पालिसी एंड एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा 30 अगस्त 2022 को आयोजित राष्ट्रीय वार्षिक सुशासन संगोष्ठी में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के यशस्वी कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय को राष्ट्रीय स्तर के वाई. एस. रिसर्च एक्सेलेंस अवार्ड से सम्मानित किया गया। उक्त संस्था द्वारा प्रति वर्ष राष्ट्रीय सुशासन संगोष्ठी का आयोजन किया जाता है, जिसमें देश के विभिन्न क्षेत्रो में हो रहे उत्कृष्ट कार्यों को पुरस्कृत किया जाता है। उक्त राष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रोफेसर डी. के. नॉरियल आई आई टी रुड़की, प्रोफेसर राम करण सिंह, कुलपति आई सी एफ ए आई विश्वविद्यालय देहरादून, प्रोफेसर नरेंद्र प्रताप सिंह, कुलपति बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, उत्तर प्रदेश उपस्थित थे। विक्रम विश्वविद्या

राष्ट्रीय नागरी लिपि शोध संगोष्ठी तथा सम्मान का आयोजन इन्दौर में होगा

नागरी लिपि परिषद नई दिल्ली इकाई मध्य प्रदेश के द्वारा इंदौर के शिवाजी भवन सभागृह में प्रथम राष्ट्रीय नागरी लिपि शोध संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है । समारोह में मार्गदर्शक मुख्य अतिथि डॉक्टर अशोक कुमार भार्गव आई ए एस पूर्व संभाग आयुक्त शहडोल रीवा एवं वरिष्ठ साहित्यकार भोपाल सारस्वत अतिथि डॉ. कृष्णकुमार अष्ठाना प्रधान सम्पादक देवपुत्र इन्दौर, मुख्य वक्ता डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा कुलानुशासक विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन, अध्यक्षता श्री हरेराम वाजपेयी अध्यक्ष हिन्दी परिवार इन्दौर, स्वागत अध्यक्ष श्री ब्रजकिशोर शर्मा अध्यक्ष राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना, विशेष अतिथि श्री विमलकुमार जैन पूर्व प्राचार्य सहित विद्वान, साहित्यकार, लेखक एवं पदाधिकारी को आमंत्रित है। यह जानकारी नागरी लिपि परिषद मध्य प्रदेश के संयोजक डॉ प्रभु चौधरी ने देते हुए बताया कि नागरी लिपि के संस्थापक आचार्य विनोबा भावे के जन्म दिवस 11 सितंबर को नागरी दिवस के रूप में मनाया जाने हेतु समारोह आयोजित किया जा रहा है। राष्ट्रीय संगोष्ठी विश्व मे नागरी लिपि की स्थिति रहेगा । प्रदेश मे प्रथम अवसर है कि नागरी सम्मान वरिष्ठ साहित्यका

राष्ट्रीय खेल दिवस पर पुस्तकालय एवं सूचना विज्ञान अध्ययनशाला, विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन में खेल प्रतियोगिताएं आयोजित

उज्जैन  । राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर पुस्तकालय एवं सूचना विज्ञान अध्ययनशाला में विद्यार्थियों को खेलों के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए विभिन्न खेल प्रतियोगिताएं आयोजित की गई । इस अवसर पर डॉ.राज बोरिया, विभागाध्यक्ष ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए जीवन में खेलों के महत्व पर अपने विचार व्यक्त किए तथा किसी एक खेल को जीवन में अनिवार्य रूप से अपनाने की सलाह दी । परंपरागत खेल रस्सी कूद, सितोलिया तथा खेल आधारित क्विज प्रतियोगिता आयोजित की गई । जिसमें विभाग के विद्यार्थियों ने उत्साह के साथ प्रतिभागीता की । सितोलिया खेल में अध्ययन शाला की छात्रा पूजा खत्री का दल विजेता तथा छात्र गौरव वाघेला का दल उपविजेता रहा । रस्सी कूद प्रतियोगिता में जानेद्र शर्मा प्रथम तथा अनिल मेहता द्वितीय स्थान पर रहे । खेल पर आधारित क्विज प्रतियोगिता में छात्र वर्ग में यस अजमेरी प्रथम तथा चयन तिवारी द्वितीय स्थान पर रहे तथा छात्राओं में खुशबू वर्मा प्रथम तथा कर्मा परमार द्वितीय स्थान पर रही। कार्यक्रम में शिक्षक, कर्मचारी एवं छात्र/छात्राएं दीपशिखा वर्मा, रजनी प्रभा, नेहा गहलोत, पूजा

विक्रम विश्वविद्यालय मे राष्ट्रीय खेल दिवस पर सद्भावना दौड संपन्न

उज्जैन  ।  विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन में शारीरिक शिक्षा एवं खेल विभाग द्वारा मेजर ध्यान चन्द्र स्मृति में राष्ट्रीय खेल दिवस पर सद्भावना दौड़ में विभिन्न अध्ययनशालाओं के लगभग 100 विद्यार्थियों ने सहभागिता की। माननीय कुलपति जी प्रो. अखिलेश कुमार पाण्डेय और शारीरिक शिक्षा एवं खेल विभाग के निदेशक डॉ. वीरेन्द्र चावरे द्वारा खिलाडियों को संबोधित किया गया। दौड के नियम कीडा विभाग के क्रीडा प्रशिक्षक विक्रम डाबी द्वारा बताए गए। इसके पशचात् माननीय कुलपति जी प्रो. अखिलेश कुमार पाण्डेय द्वारा झंडी दिखाकर दौड को प्रारंभ किया गया। जिसमें विभिन्न अध्ययनशालाओं के लगभग 100 विद्यार्थियों ने सहभागिता की। इनमें प्रथम दस विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र प्रदान किए गए। इनमें 01 अजय परमार, 02 सूरज मीणा, 03 मनोहर जाडिया, 04 सागर, 05 हरिओम, 06 संदीप सोलकी, 07 विरेन्द्र मकवाना, 08 योगेश कुमावत, 09 कल्पेश, 10 विजय लोनिया, एंव छात्राओं में सीमा व यति जाटवा ने प्रमाण पत्र प्राप्त किए।  इस अवसर पर निदेशक शारीरिक शिक्षा डॉ वीरेन्द्र चावरे पूर्व खेल निदेशक डॉ राज बोरिया, एन.सी.सी. अधिकारी लेफ्टीनेंट डॉ कनिया मेडा,

कड़ी मेहनत का कोई दूसरा विकल्प नहीं - श्री ब्रजेन्द्र प्रताप सिंह, खनिज साधन एवं श्रम मंत्री

उज्जैन । 29 अगस्त 2022 को विक्रम यूनिवर्सिटी के कैंपस में वृक्षारोपण कार्यक्रम में पधारे मुख्य अतिथि श्री ब्रजेन्द्र प्रताप सिंह, खनिज साधन एवं श्रम मंत्री म. प्र. ने कंप्यूटर विज्ञान संस्थान के स्टूडेंट्स को सम्बोधित किया, जिसमें माननीय मंत्री जी ने स्टूडेंट्स को कड़ी मेहनत करके भविष्य निर्माण करने की बात कही। इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय ने विद्यार्थियों को प्रोत्साहित किया। अतिथियों का स्वागत उद्बोधन संस्थान के निदेशक डॉ. उमेश कुमार सिंह ने दिया। कुलसचिव प्रोफेसर प्रशांत पुराणिक तथा संस्थान के डॉ. कमल बुनकर सहित सभी प्राध्यापकगण उपस्थित रहे। कार्यक्रम का कोर्डिनेशन सुश्री प्रज्ञा सिंह तोमर ने किया तथा डॉ. ब्रह्मदत्त शुक्ला ने आभार व्यक्त किया।

रसायन शास्त्र अध्ययनशाला में पौधों के संरक्षण के लिए पूर्व छात्रों ने करवाया फेंसिंग कार्य

उज्जैन। जहाँ से ज्ञान मिला, जहाँ से शिक्षा मिली, जहाँ से संस्कार मिले, जिसके कारण आजीविका मिली, नाम मिला, शोहरत मिली, यश मिला, वैभव मिला ऐसे संस्था को हराभरा देखने का, सुरम्य देखने की संस्था के प्रति अपनी कृतज्ञता ज्ञापित करने का भाव रखना और उसके लिए सहयोग करना महत्वपूर्ण है। यह सब सम्भव हुआ   रसायन अध्ययनशाला, विक्रम विश्वविद्यालय परिसर के पूर्व छात्रों द्वारा, जिनके सहयोग से आज लगभग 1 लाख रुपए की फेंसिंग कर इस सम्पूर्ण परिसर को सुरक्षित किया है ।  इस कार्य के लिए संस्था के पूर्व छात्र श्री रविप्रकाश लंगर और पूर्व छात्रा एवं वर्तमान विभागाध्यक्ष डॉक्टर शुभा जैन की सक्रिय सहभागिता रही । वृक्षमित्र सेवा समिति उज्जैन ने रसायन अध्ययनशाला के सम्मुख तार, जाली एवं पोल फेंसिंग करवाने में सहयोग किया । यहां स्वच्छता करवाई ।  परिसर में आज नक्षत्र वाटिका के पौधे जैसे जामुन, कटहल, कवीट, आम, बेलपत्र इत्यादि का रोपण किया । साथ ही शानदार चम्पा, नागचंपा, नीम, गुड़हल, पारिजात इत्यादि के पौधे लगाए है ।  इस शुभ अवसर पर माननीय डॉ अखिलेश कुमार पांडेय, कुलपति विक्रम विश्वविद्यालय, डा. शुभा जैन, डॉ उम

खनिज संसाधन एवं श्रम मंत्री द्वारा विक्रम विश्वविद्यालय परिसर में पौधरोपण किया गया

उज्जैन। विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के अकादमिक परिसर में पर्यावरण एवं जैव विविधता संरक्षण के उद्देश्य से मध्य प्रदेश शासन के खनिज संसाधन एवं श्रम मंत्री श्री बृजेंद्र प्रताप सिंह द्वारा पौधारोपण विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफ़ेसर अखिलेश कुमार पांडेय की उपस्थिति में दिनांक 29 अगस्त 2022 को किया गया। वायुमंडल में लगातार बढ़ते प्रदूषण से मानव जीवन के साथ-साथ जीव जंतु भी प्रभावित होते हैं। परिणाम स्वरूप प्राकृतिक असंतुलन की संभावनाओं का खतरा बढ़ता जाता है। बढ़ते हुए प्रदूषण के कारण वातावरण में ऑक्सीजन की मात्रा भी धीरे-धीरे कम हो जाती है। पौधारोपण पर्यावरण संरक्षण के लिए एक उत्तम विधि है, जिसके द्वारा वायुमंडल में ऑक्सीजन की मात्रा में वृद्धि होती है। साथ ही जैव विविधता का संरक्षण भी होता है। पेड़ पौधों के पर्याप्त घनत्व के कारण क्षेत्र के वायुमंडल में नमी बनी रहती है तो बरसात भी अधिक होती है। अतः विद्यार्थियों को प्राकृतिक संतुलन को बनाए रखने के लिए वायुमंडल प्रदूषण के स्रोत एवम कारको तथा पौधारोपण के महत्व की जानकारी उपलब्ध कराया जाना तथा इनमें पौधारोपण एवं जैव विविधता संरक्षण की भावनाओं का