Skip to main content

भारत की सुदृढ़ काव्यशास्त्रीय परंपरा के समर्थ संवाहक थे आचार्य त्रिपाठी – कुलपति प्रो मेनन

जयंती समारोह के अंतर्गत हुआ भारतीय काव्यशास्त्र और आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन 

कुलपति प्रो सी जी विजयकुमार मेनन आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी सम्मान से अलंकृत

उज्जैन। विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में प्रसिद्ध समालोचक एवं मनीषी आचार्यप्रवर डॉ राममूर्ति त्रिपाठी की जयंती के अवसर पर हिंदी अध्ययनशाला, वाग्देवी भवन में राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। हिंदी अध्ययनशाला एवं ललित कला अध्ययनशाला द्वारा आयोजित यह संगोष्ठी भारतीय काव्यशास्त्र और आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी पर केंद्रित थी। संगोष्ठी की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने की। मुख्य अतिथि महर्षि पाणिनि संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रोफेसर सी जी विजय कुमार मेनन थे। संगोष्ठी में कुलानुशासक एवं हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा, पूर्व विभागाध्यक्ष प्रो हरिमोहन बुधौलिया, प्रो प्रेमलता चुटैल, प्रो गीता नायक, प्रो जगदीश चंद्र शर्मा, डॉ विभा द्विवेदी, मिर्जापुर, आदि ने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर अतिथियों द्वारा संस्कृत के विद्वान एवं कुलपति प्रो सी जी विजयकुमार मेनन को शॉल, श्रीफल एवं सम्मान राशि अर्पित कर उन्हें आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी सम्मान से विभूषित किया गया।  

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि कुलपति प्रो सी जी विजयकुमार मेनन ने कहा कि आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी भारत की सुदृढ़ काव्य शास्त्रीय परंपरा के समर्थ संवाहक थे। भारत की समृद्ध गुरु शिष्य परंपरा के प्रतिनिधि विद्वान थे। यह परंपरा निरंतर दुर्बल होती जा रही है। भारतीय चिंतन में शिक्षक के छह प्रकार के धर्म बताए गए हैं जो सभी आचार्य त्रिपाठी के व्यक्तित्व में दिखाई देते हैं। वे प्रेरक, सूचक, वाचक, मार्गदर्शक, शिक्षक और बोधक - सभी रूपों में हमें प्रेरणा देते हैं। वेदांत सहित विभिन्न दर्शनों के आधार पर भारतीय काव्य चिंतन का विकास हुआ है। परमानंद की अनुभूति की चर्चा भारतीय काव्यशास्त्र में मिलती है, जिसे आचार्य त्रिपाठी ने आगे बढ़ाया। 

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने कहा कि साहित्यिक क्षेत्र में आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी द्वारा किया गया लेखन अविस्मरणीय है। उनके गंभीर व्यक्तित्व से हमें सीखने का सुअवसर मिलता है। भारतीय संस्कृति और रामचरितमानस सामाजिक एवं पारिवारिक व्यवस्था के मॉडल है। इस मॉडल को नए दौर में पुनः अपनाने की आवश्यकता है।  

हिंदी विभागाध्यक्ष एवं कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने कहा कि आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी ने भारतीय दर्शन और काव्यशास्त्र की चिंतन परम्परा को नए परिवेश में व्याख्यायित किया। इसके साथ पश्चिम से आने वाले मानदंडों के सामने तुलना करते हुए भारतीय काव्यशास्त्र के वैशिष्ट्य को प्रतिपादित किया। उन्होंने नई सर्जना के समीक्षण के लिए पारम्परिक मानदंडों का प्रयोग किया। वे जीवन और काव्य के केंद्र में सामाजिकता को रखते हैं। उनकी चिंता थी कि सामाजिकता का औचित्य है, तो उसकी कमी होती जा रही है और कलात्मक उपकरणों के लिए भी जो माँज-मंजाव है, अभ्यास के अभाव में उसकी भी कमी दृष्टिगत हो रही है। यह चिंता आज भी प्रासंगिक बनी हुई है।

प्रो हरिमोहन बुधौलिया ने आचार्य त्रिपाठी से जुड़े संस्मरण सुनाते हुए कहा कि वह अपने चिंतन में सदैव मनुष्य की ऊर्ध्वगामी संभावनाओं की चर्चा करते थे। 

प्रोफ़ेसर गीता नायक ने कहा कि आचार्य राम मूर्ति त्रिपाठी सादगी के साक्षात प्रतिमूर्ति थे। वे अपने आचरण के माध्यम से नई पीढ़ी को आजीवन सीख देते रहे।

प्रोफेसर जगदीश चंद्र शर्मा ने कहा कि आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी ने अलंकार सिद्धांत की विस्तृत विवेचना की है। उन्होंने अलंकारों के आलोक में आधुनिक काव्य की सटीक व्याख्या - विवेचना का प्रयास किया जो आज भी प्रासंगिक है। 

प्रारम्भ में आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी के चित्र पर अतिथियों एवं उपस्थित जनों द्वारा पुष्पांजलि अर्पित की गई। इस महत्वपूर्ण आयोजन में वरिष्ठ साहित्यकार प्रो उर्मि शर्मा, प्रो हरिसिंह कुशवाह, कृष्णगोपाल दुबे, झालावाड़, आचार्य त्रिपाठी के ज्येष्ठ पुत्र  श्री अमिताभ त्रिपाठी, श्री पद्मनाभ त्रिपाठी, प्रो डी डी बेदिया, श्री संतोष सुपेकर, डॉ प्रभु चौधरी आदि सहित अनेक सुधीजन, साहित्यकार, विभागाध्यक्ष, संकाय सदस्य, शोधकर्ता और विद्यार्थी उपस्थित थे।

संचालन प्रो जगदीश चंद्र शर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन प्रो प्रेमलता चुटैल ने किया।

Comments

मध्यप्रदेश समाचार

देश समाचार

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्

तृतीय पुण्य स्मरण... सादर प्रणाम ।

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1003309866744766&id=395226780886414 Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bkk News Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets -  http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साहित्य