Skip to main content

श्री वाजपेई का कानपुर में अभिनंदन, पदाधिकारीयों में हर्ष

राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के मार्गदर्शक, वरिष्ठ साहित्यकार हिन्दी परिवार इंदौर के अध्यक्ष हरेराम वाजपेयी एवं 2 सदस्यों का कानपुर में हुआ भव्य स्वागत-काव्य गोष्ठी में गूँजे उनके गीत

भाषायी एकता की साहित्यिक संस्था हिंदी परिवार इंदौर के अध्यक्ष हरेराम वाजपेयी का कानपुर की विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं ने भव्य स्वागत किया। कान्य कुब्ज मंच हिंदी त्रैमासिक पत्रिका के संस्थापक कीर्ति शेष आचार्य पं. बालकृष्ण पाण्डेय की जन्म शताब्दी अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में श्री वाजपेयी का संस्था द्वारा शॉल, श्रीफल, सम्मान पत्र देकर पं. अजय शुक्ल मुंबई, डॉ. संजय द्विवेदी भोपाल, श्री शिवशंकर अवस्थी लखनऊ, पं. अरुण शुक्ल रायपुर, डॉ. डी.एस. शुक्ल लखनऊ संपादक कान्य कुब्ज वाणी एवं कान्य कुब्ज पत्रिका के संपादक पं. आशुतोष पाण्डे ने सम्मान किया। श्री वाजपेयी ने इस अवसर पर सारगर्भित उद्बोधन भी दिया। इसी मंच पर हिंदी परिवार इंदौर के 2 सदस्य डॉ. मुकेश दुबे एवं पं. रामचंद्र दुबे को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में देश के कई शहरों के वरिष्ठ साहित्यकार उपस्थित थे। 

हिंदी परिवार उज्जैन के संयोजक डॉ प्रभु चौधरी  ने बताया कि दिनांक 09 अक्टूबर को कानपुर की साहित्यिक संस्था विद्योत्तमा फाउंडेशन के तत्वावधान में आयोजित काव्य गोष्ठी और सम्मान समारोह में श्री वाजपेयी का भव्य अभिनंदन किया गया। संस्था के महासचिव श्री अशोक बाजपेयी ने अतिथि परिचय दिया। प्रस्ताव साहित्यिक संस्था के अध्यक्ष श्री कैलाश वाजपेयी, स्वैच्छिक दुनियाँ के संपादक डॉ. राजीव मिश्र, वरिष्ठ साहित्यकार श्री सुरेश अवस्थी एवं अन्य साहित्यकारों ने शॉल, हार एवं स्मृति चिन्ह देकर श्री वाजपेयी का भावभीना अभिनंदन किया। इस अवसर पर इन कवियों के अलावा उदय नारायण उदय श्री धीरपाल सिंह, डॉ. जयप्रकाश प्रजापति, श्री अक्षत व्योम आदि ने भी काव्य पाठ किया। अतिथि कवि हरेराम वाजपेयी के गीत ‘‘कैसे मैं लौट जाऊँ’’, ‘‘सारा सागर तुम रख लेना’’ और ‘‘राह तेरी रही’’ खूब सराहे गये। 

कार्यक्रम की अध्यक्षता कानपुर के वरिष्ठ गीतकार श्री लोकेश शुक्ल ने की। संचालन हास्य व्यंग्य के कवि श्री चक्रधर शुक्ल, अध्यक्ष बाल साहित्य संस्था ने किया। अंत में आभार संस्था अध्यक्ष सुपरिचित बाल साहित्यकार डॉ. अजीत सिंह राठौर ने व्यक्त किया। करीब 3 घंटे चले इस साहित्यिक अनुष्ठान में श्रोताओं ने जहाँ विविध विषयों की रचनाओं का आनंद लिया, वहीं उन्हें इंदौर की श्री मध्यभारत हिंदी साहित्य समिति एवं देश की प्राचीनतम पत्रिका ‘वीणा’ के बारे में जानकारी प्रदान की गई।

Comments

मध्यप्रदेश समाचार

देश समाचार

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्

तृतीय पुण्य स्मरण... सादर प्रणाम ।

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1003309866744766&id=395226780886414 Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bkk News Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets -  http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar

चौऋषिया दिवस (नागपंचमी) पर चौऋषिया समाज विशेष, नाग पंचमी और चौऋषिया दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति और अर्थ: श्रावण मास में आने वा ली नागपंचमी को चौऋषिया दिवस के रूप में पुरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "चतुरशीतिः" से हुई हैं जिसका शाब्दिक अर्थ "चौरासी" होता हैं अर्थात चौऋषिया समाज चौरासी गोत्र से मिलकर बना एक जातीय समूह है। वास्तविकता में चौऋषिया, तम्बोली समाज की एक उपजाति हैं। तम्बोली शब्द की उत्पति संस्कृत शब्द "ताम्बुल" से हुई हैं जिसका अर्थ "पान" होता हैं। चौऋषिया समाज के लोगो द्वारा नागदेव को अपना कुलदेव माना जाता हैं तथा चौऋषिया समाज के लोगो को नागवंशी भी कहा जाता हैं। नागपंचमी के दिन चौऋषिया समाज द्वारा ही नागदेव की पूजा करना प्रारम्भ किया गया था तत्पश्चात सम्पूर्ण भारत में नागपंचमी पर नागदेव की पूजा की जाने लगी। नागदेव द्वारा चूहों से नागबेल (जिस पर पान उगता हैं) कि रक्षा की जाती हैं।चूहे नागबेल को खाकर नष्ट करते हैं। इस नागबेल (पान)से ही समाज के लोगो का रोजगार मिलता हैं।पान का व्यवसाय चौरसिया समाज के लोगो का मुख्य व्यवसाय हैं।इस हेतू समाज के लोगो ने अपने