Skip to main content

प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा डॉ शिवमंगलसिंह सुमन सारस्वत सम्मान से अलंकृत

सुमनजी के काव्य से गुजरना सम्पूर्ण रागात्मक प्रवृत्ति को अनुभव करना है - प्रो शर्मा 

उज्जैन। डॉ. शिवमंगलसिंह सुमन स्मृति शोध संस्थान द्वारा आयोजित पद्मभूषण डॉ. शिवमंगलसिंह सुमन स्मृति सम्मान समारोह में समालोचक विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलानुशासक डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा को सुमनजी के गीतों की  सांगीतिक अनुगूंज के साथ सारस्वत सम्मान से सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में डॉ. शैलेन्द्र कुमार शर्मा का संस्थान द्वारा शॉल, श्रीफल, स्मृति चिन्ह,  पुष्प माला, मणि माला के साथ पट्टाभिषेक साफा बांधकर एवं सम्मान पत्र अर्पित कर सारस्वत अभिनन्दन किया गया। सदन में विराजित सुधीजनों ने भी भाव भरा अभिनन्दन किया।

मुख्य आतिथ्य प्रदान कर रहे प्रो. शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कहा कि वाल्मीकि की वाणी का नव संस्करण हैं सुमनजी। कालिदास, भास, भवभूति, माघ आदि का दिग्दर्शन करता है सुमनजी का काव्य। डॉ. शर्मा ने कहा कि नागपंचमी शाश्वत मूल्य प्रणाली है जिससे जातीय चेतना एवम कई मिथक जुड़े है किंतु यह दिन हमारे युग के ऐसे युगपुरुष पद्मभूषण सुमनजी को अर्पित होता है। सुमनजी को याद करना एक युग को याद करना है। सुमनजी की मानस पुत्री शोभना का यहाँ होना , सुमनजी की पुत्री का यहाँ होना है। सुमनजी को याद करना एक शताब्दी से रूबरू होना है।  सुमनजी के काव्य में छायावाद की प्रेरणा पाथेय बनी है। सुमनजी का पथ चेतना का पथ है , प्रगति का पथ है। सुमनजी का अनुभव सम्पूर्ण रागात्मक प्रवृत्ति को अनुभव करना है। वे निवृत्ति मार्ग के दर्शन के विरुद्ध खड़े दिखाई देते हैं। सुमनजी की सांसों का हिसाब  कविता जीवन की सार्थकता की कसौटी के क्रम में सम्पूर्ण युग प्रवाह से हमें जोड़ती है।

समारोह का शुभारंभ अजय मेहता एवम संस्कृति सुमन सौरभ समूह की ओर से  सुमनजी के गीतों की  सस्वर सांगीतिक प्रस्तुति  कर किया गया। मैं क्षिप्रा सा ही तरल सरल बहता हूं, तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार, कई बार टूटे जुड़े तार सारे तुम्हारे हमारे, ये हार एक विराम है जीवन महा संग्राम है, तुमने मेरे अभिनन्दन की ठानी, यह दिन बार बार आए, आदि गीतों की सांगीतिक अनुगूंज ने उपस्थित जनों को मंत्र मुग्ध किया।  

इस अवसर पर समारोह की अध्यक्षता कर रहे डॉ. मुरलीधर चाँदनीवाला एवम् विशिष्ट आतिथ्य प्रदान कर रहे आशीष दशोत्तर एवम् अजय मेहता का भी उनकी साहित्यिक यात्रा पर सारस्वत अभिनंदन मणि माला एवम स्मृति कि चिह्न भेंटकर डॉ दिनेश तिवारी ने एवम डॉ शैलेंद्र कुमार शर्मा ने मारवाड़ी पगड़ी पहना कर अभिनन्दन किया। 

समारोह के प्रथम सत्र में संस्कृति सुमन सौरभ अजय मेहता एवम् समूह ने सुमनजी के मैं क्षिप्रा सा ही तरल सरल बहता हूं, तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार, तुमने मेरे अभिनन्दन की ठानी, कई बार टूटे जुड़े तार तुम्हारे हमारे, वरदान मांगूगा नहीं ,यह दिन बार बार आये आदि गीतों की सांगीतिक प्रस्तुति की। 

विशिष्ट आतिथ्य प्रदान कर रहे सुप्रसिद्ध व्यंग्यकार आशीष दशोत्तर ने कहा कि हमारा विश्वास सुमनों के प्रति है , कांटों के प्रति नहीं। सुमनजी प्रकृति प्रेम एवम रस के कवि हैं सुमनजी स्वभाव के कवि हैं ,वे अपने समय के प्रभाव के कवि हैं। 

समारोह की अध्यक्षता कर रहे डॉ. मुरलीधर चाँदनी वाला ने कहा कि अपने युग की चेतना के संरक्षक थे सुमनजी। सुमनजी ने मंच को जीता।  महाकवि कालिदास के बाद प्रगतिशील धारा के कवि सुमनजी के आगे ही कवि कुलगुरु लगा। आपने सुमनजी की स्वर्ण जयंती समारोह के संस्मरण को याद करते हुए कई संस्मरण सुनाए। 

पंडित मुस्तफा आरिफ ने सुमनजी के संस्मरणों से अभिभूत करते हुए इस अवसर पर डॉ शोभना तिवारी का सम्मान किया। संस्थान द्वारा संस्कृति सुमन सौरभ के कलाकारों का भी सम्मान किया गया।

सदन में उपस्थित डॉ. सुलोचना शर्मा डॉ. मंगलेश्वरी जोशी डॉ. अर्चना सक्सेना आर एस केसरी ऋषि शर्मा अखिल स्नेही सीमा राठौर रश्मि उपाध्याय आदि ने डॉ. शैलेन्द्र कुमार शर्मा का स्वागत किया।  साहित्य सुधीजनों में विष्णु बैरागी, अब्दुल सलाम खोखर सिद्धिक रतलामी, डॉ. सौरव गुर्जर, डॉ. मोहन परमार, प्रिया  उपाध्याय, कृतिका पंवार, नूतन भट्ट निर्मला उपाध्याय, सविता तिवारी,  अनुराधा खरे, आभा गौड़, उषा व्यास  आदि सहित अनेक गणमान्य सुधीजन उपस्थित थे।  

संचालन डॉ. शोभना तिवारी ने किया। आभार अखिल स्नेही ने माना। 

Comments

मध्यप्रदेश समाचार

देश समाचार

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

तृतीय पुण्य स्मरण... सादर प्रणाम ।

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1003309866744766&id=395226780886414 Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bkk News Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets -  http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar

खाटू नरेश श्री श्याम बाबा की पूरी कहानी | Khatu Shyam ji | Jai Shree Shyam | Veer Barbarik Katha |

संक्षेप में श्री मोरवीनंदन श्री श्याम देव कथा ( स्कंद्पुराणोक्त - श्री वेद व्यास जी द्वारा विरचित) !! !! जय जय मोरवीनंदन, जय श्री श्याम !! !! !! खाटू वाले बाबा, जय श्री श्याम !! 'श्री मोरवीनंदन खाटू श्याम चरित्र'' एवं हम सभी श्याम प्रेमियों ' का कर्तव्य है कि श्री श्याम प्रभु खाटूवाले की सुकीर्ति एवं यश का गायन भावों के माध्यम से सभी श्री श्याम प्रेमियों के लिए करते रहे, एवं श्री मोरवीनंदन बाबा श्याम की वह शास्त्र सम्मत दिव्यकथा एवं चरित्र सभी श्री श्याम प्रेमियों तक पहुंचे, जिसे स्वयं श्री वेद व्यास जी ने स्कन्द पुराण के "माहेश्वर खंड के अंतर्गत द्वितीय उपखंड 'कौमारिक खंड'" में सुविस्तार पूर्वक बहुत ही आलौकिक ढंग से वर्णन किया है... वैसे तो, आज के इस युग में श्री मोरवीनन्दन श्यामधणी श्री खाटूवाले श्याम बाबा का नाम कौन नहीं जानता होगा... आज केवल भारत में ही नहीं अपितु समूचे विश्व के भारतीय परिवार ने श्री श्याम जी के चमत्कारों को अपने जीवन में प्रत्यक्ष रूप से देख लिया हैं.... आज पुरे भारत के सभी शहरों एवं गावों में श्री श्याम जी से सम्बंधित संस्थाओं द