Skip to main content

Sharadkumar Radhakrishna Dandge have composed historical rhythmic show named Om Panchnaad (One man rhythmic concert) which is one and only concert in whole history of Indian rhythm

I am Sharadkumar Radhakrishna Dandge from Aurangabad (M.S.), i am priest (Pujari) 12th jyotirlig shri ghrushneshwar mahadev tempal, Ellora, Dist. Aurangabad (maharashtra)I have composed historical rhythmic show named Om Panchnaad (One man rhythmic concert) this is one and only concert in whole history of Indian rhythm.

In India their are different states having their own regional musical instruments, which vary in size , shape, style and sound which comes out of it, in the program Om Panchnaad, I have made sound from 10 types of tablas & dhol (Instruments sound which comes out from 10 tables & one dhol). 1] Pakhawaj; 2] South Indian Mruduggam; 3] Tabla; 4] U.P.,M.P., Bihar’s Dholak; 5] Maharashtrian Dholaki; 6] West Bengol’s Khol; 7] Khanjiri; 8] Daff; 9] Maharashtrian Sambal; 10] Assam ’s Bihu Dhol Style; 11] Keral’s Chanda; 12] Rajstani Nagara; 13] Panjab’s Dhol Style; 14] Gujrat’s Kacchi Dhol Style; 15] Maharastrian Pawli Dhol Style; 16] West Bengol’s Dhak Style (Dhol); 17] Gadhwal Dhol Style; 18] Bongo (Westrn Instruments); 19] Jambe (Westrn Instruments); 20] Sneare Drum; 21] kongo; 22] Base Drum; 23] Tasha; 24] Odisi Mardal; 25] Damru. Near about more than 25 different instruments.

This instrumental jugalbandi will be played by me only. This Programme was invented on 21 Feb. 2003 and I was registered in LIMCA BOOK OF RECORD 2006 and 2011. INDIA BOOK OF RECORD-2010, ASIA BOOK OF RECORDS-2011, WORLD AMAZING RECORDS-2011, WORLD RECORDS OF INDIA-2011, Recorded in the TOP 120 TALENTS IN INDIA 2012. I was play on Tedx (Ted talk show)
I have invent 25 different instruments with some Western Patterns, presently doing research on ‘TAAL THERAPY’. I have done more than 500 programes all over India . Recently TIMES MUSIC COMPANY has released an AUDIO CD worldwide of my program. Aim: Tabla is played in Hindu’s mandir, Muslim’s Kawwali, Sheekh Grudwara, Issai’s church. Tabla is played every where. Tabla never said that I played in Hindu’s mandir then why I do in others? Tabla never do Castism then why do we? If one man can play different musical instruments which belongs to different states different country which has there own culture; if one man can play all the musical instruments from all states then how can we be different? We are one and the same. Now a days youth of India is looking towards western music so our intention is to make them know that we can play western music from our own classical and regional instruments. Regards Sharadkumar Radhakrishna Dandge Aurangabad ( chh.SambhajiNagar ) 9822769597
















Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य