Skip to main content

प्रवासी साहित्य एवं संस्कृति : धरोहर और संवेदना पर केंद्रित अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी सम्पन्न

संकटग्रस्त मानवता को बचाने की चेष्टा प्रवासी साहित्य में है – डॉ मीरा सिंह

प्रवासी साहित्य बोध कराता है कि भारत की जड़ें गहरी हैं - प्रो शर्मा

प्रवासी साहित्य एवं संस्कृति : धरोहर और संवेदना पर केंद्रित अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी सम्पन्न
अंतरराष्ट्रीय हिंदी साहित्य प्रवाह, अमेरिका द्वारा प्रो शर्मा साहित्य गौरव सम्मान से अलंकृत


उज्जैन विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन की हिंदी अध्ययनशाला, पत्रकारिता एवं जनसंचार अध्ययनशाला और गांधी अध्ययन केंद्र द्वारा एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। अमेरिका की वरिष्ठ शिक्षाविद् एवं साहित्यकार प्रो. मीरा सिंह, फिलाडेल्फिया के मुख्य आतिथ्य में आयोजित यह संगोष्ठी प्रवासी साहित्य एवं संस्कृति : धरोहर और संवेदना पर केंद्रित थी। अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के प्रभारी कुलपति प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने की। विशिष्ट अतिथि शिक्षाविद् श्री गौरीशंकर दुबे, इंदौर एवं वरिष्ठ लघुकथाकार श्री संतोष सुपेकर थे।


कार्यक्रम में अंतरराष्ट्रीय हिंदी साहित्य प्रवाह, अमेरिका द्वारा प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा को उनके द्वारा साहित्य एवं संस्कृति के क्षेत्र में किए गए विशिष्ट योगदान के लिए साहित्य गौरव सम्मान से अलंकृत किया गया। सम्मानस्वरूप संस्थाध्यक्ष डॉ मीरा सिंह द्वारा उन्हें शॉल, प्रशस्ति पत्र एवं प्रतीक चिन्ह द्वारा अर्पित किए गए।

कार्यक्रम में प्रभारी कुलपति प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा, डीएसडब्ल्यू डॉ एस के मिश्रा एवं एसओईटी के निदेशक डॉ डी डी बेदिया ने शॉल, श्रीफल एवं साहित्य अर्पित कर यूएसए से पधारीं डॉ मीरा सिंह को विश्व हिंदी सेवा सारस्वत सम्मान से सम्मानित किया। कार्यक्रम में अतिथियों द्वारा डॉ मीरा सिंह के हाल ही में प्रकाशित काव्य संग्रह उद्गार का विमोचन किया गया।

संगोष्ठी को संबोधित करते हुए डॉ मीरा सिंह, यूएसए ने कहा कि प्रवासी व्यक्ति की पीड़ा उसी प्रकार की होती है जैसे लड़की का विवाह के बाद ससुराल में जाकर नए परिवेश में ढलना। वर्तमान दौर में मानवता संकट में है, उसे बचाने की चेष्टा प्रवासी साहित्य करता है। भारत के बाहर का परिवेश प्रवासी भारतीयों को अपने अनुरूप ढालता है, लेकिन हमारी संस्कृति हमें सजग बनाए रखती है। भारतीय संस्कृति सदैव मानवता की ओर प्रवृत्त करती है। भारतीय संस्कृति भीड़ में भी हमारी अलग पहचान कराती है। भारत की सांस्कृतिक धरोहर और संवेदनाओं का प्रारूप बहुत व्यापक है। प्रवासी भारतीय अपनी सभी प्रकार की धरोहरों के प्रति सजग हैं। समय के प्रवाह में विचार मंथन न होने के कारण मानवता समाप्त होती जा रही है। संस्कारों को विकसित करने का दायित्व स्त्रियों का है। मानवीय रिश्तों में आई रिक्तता में पीयूष डालने का कार्य जारी कर सकती है।

प्रभारी कुलपति प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि प्रवासी भारतीयों ने अपने लेखन एवं कार्यों के माध्यम से सिद्ध किया है कि भारत की जड़ें पर्याप्त गहरी हैं। विश्व संस्कृति का निर्माण करने में भारत की संस्कृति का योगदान अद्वितीय है। भारत में रचे जा रहे साहित्य की तुलना में प्रवासी साहित्य में परिवेश के अंतराल से उपजी चिंताओं, सूनेपन, एकाकीपन और अलगाव के साथ जीवन संघर्ष, मूल्य और संस्कृतिगत अंतर दिखाई देता है। उनके साहित्य में जड़ों से दूर होने, भावनात्मक और सांस्कृतिक स्तर पर बहुत कुछ खोने का जीवंत चित्रण मिलता है। महात्मा गांधी ने अनेक दशकों पहले प्रवासी भारतीयों का नेतृत्व करते हुए अहिंसा, शांति और परस्पर प्रेम का संदेश दिया, जो आज भी प्रासंगिक है। भारतवंशी जहां भी गए उन्होंने उस भूमि को समृद्ध बनाने में अविस्मरणीय योगदान दिया।

साहित्यकार श्री गौरीशंकर दुबे, इंदौर ने कहा कि अमेरिका जैसे सम्पन्न देशों में शिक्षा, पर्यावरण और स्वास्थ्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य हुए हैं। दूसरी ओर वहां के जीवन में बंदूक की संस्कृति, अतिशय भोग विलासिता और विशृंखलित व्यवस्था संकट भी खड़े कर रही है। भारत में जिस प्रकार की शांति है, वह दुनिया के किसी भी देश में नहीं मिलती।

साहित्यकार श्री संतोष सुपेकर ने मैं उनसा नहीं और आंकड़े शीर्षक कविताएं सुनाईं। डीएसडब्ल्यू डॉ एस के मिश्रा एवं डॉक्टर डी डी बेदिया ने भी संबोधित किया।


6 जनवरी को मध्याह्न में आयोजन में प्रो गीता नायक, डीएसडब्ल्यू डॉ एस के मिश्रा, डॉ डी डी बेदिया, डॉ भोलेश्वर दुबे, इंदौर, डॉ सुशील शर्मा, डॉ अजय शर्मा, श्रीमती हीना तिवारी आदि सहित अनेक शोधार्थी एवं सुधीजन उपस्थित रहे। वाग्देवी भवन स्थित हिंदी अध्ययनशाला में सम्पन्न इस महत्वपूर्ण संगोष्ठी के प्रारंभ में श्री मोहन तोमर ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की।


संगोष्ठी का संचालन श्रीमती हीना तिवारी ने किया। आभार प्रदर्शन युगेश द्विवेदी ने किया।






Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य