Skip to main content

पत्र प्रधानमंत्री जी के नाम – महाकाल लोक उज्जैन और मुलभुत सेवाओं में सुधार विषयक, जिससे एन आर आई का विश्वास भारत जीत सके।


माननीय प्रधान मंत्री जी सादर जय श्री क्रष्णा/जय श्री महाकाल आपके द्वारा विभिन्न धार्मिक स्थानों की सेवाओं में निरन्तर सुधार किया जा रहा है। आपको साधुवाद, धन्यवाद । पूरा प्रशासन अपनी पीठ थपथपाने में लगा है। किन्तु प्रशासन आम व्यक्ति की मुलभुत सेवाओ के सुधार पर ईमानदारी से ध्यान कब देगा ? सभी जगह कही न कही सेवाओ की कमी है । हम विदेशी बंधुओ के लिए भारत के द्वार खोलना चाहते है। किन्तु निम्न असुविधा/ सेवाओ पर किसी का ध्यान नही है ।
निम्न पर आपका ध्यानाकर्षण आवश्यक है - (1) उज्जैन की लोक परिवहन सेवा सबसे बेकार है यहा लुट मची हुई है ऑटो रिक्शा, टैक्सी आदि सभी के मनमाने दाम है। सिटी बस बंद है। प्रशासन केवल फार्मालिटी करता है. लोक परिवहन सुधार पर कोई सख्ती नही है।
(2) मंदिर स्थल के आसपास एवं पुरे नगर में बड़ते होटलों का निर्माण चिंतनीय है कोई रूल्स रेगुलेशन नही है प्रशासन द्वारा इनके लिए निश्चित नियम हो। हर धर्मशाला एवं होटल का पंजीयन होकर उसकी जानकारी प्रशासन की अधिक्रत वेबसाईट/मोबाइल एप्लीकेशन पर हो जिससे किसी भी विदेशी/देशी पर्यटक के साथ धोका न हो। वर्तमान में होटल के टैरिफ ट्रैफिक के हिसाब से कभी भी बड़ जाते है। हर धर्मशाला और होटल के लिए फिक्स रेट व्यवस्था नही है। हर होटल के प्रवेश पर डायरेक्टर/प्रोपराईटर का स्पस्ट उल्लेख हो एवम रूल्स रेगुलेशन लिखे हो कोई भी हिडन चार्ज या व्यवस्था दंडनीय हो ।

(3) फूड सेफ्टी स्टेंडर्ड नही है । होटल से लगाकर फुटपाथ तक फ़ूड के ठेले स्टाल मिल जायेगे. जहां कोई रेट लिस्ट नही होती. फ़ूड क्वालिटी का प्रमाणन नही मिलता। यहाँ तक की वेज और नानवेज का स्पस्ट उल्लेख नही मिलता।यहाँ का प्रसिद्ध पोहा,जलेबी,कचोरी अनेक होटलों में अखबारी कागज पर मिलता है।
(4) रात्रि में अनके लोग आवारा घूमते मिल जायेगे. शराबी और आवारागर्दी पर कठोर कार्यवाही नही।
(5) अनेक देशो में पर्यटकों के लिए निशुल्क सेवा है जेसे पैकेज कार्ड में फ़ूड, लोक परिवहन आदि सभी शामिल है हमारे यहाँ विदेश से आने वाले पर्यटक सबसे ज्यादा विभिन्न चार्जेस और दुर्व्यवहार का शिकार होते है।
(6) उज्जैन नगर की सबसे बड़ी समस्या ड्रिंकिंग वाटर है।यहाँ शासन द्वारा करोड़ो रुपया बर्बाद किया गया पर आम जनता मिट्टी युक्त गन्दा जल पीने को मजबूर है ।
(7) स्वास्थ्य सेवाओ का स्टैंडर्डराइजेशन नही है।यदि कोई भी देश विदेश का पर्यटक हो उसे स्वास्थ्य सेवाएं पूरी जिम्मेदारी के साथ उपलब्ध हो।शासकीय सेवाओ में रैफरल और चीटिंग न हो ।
(8) विदेशी पर्यटकों के लिए एक ऐसा कार्यालय हो जहॉ उसे अपने देश की भाषा मे सरलता से दुभाषिया मिल सके और उसे सुनिश्चित सेवा मिले।विभिन्न देशों की भाषाओं में जानकारी उपलब्ध हो ।
(9) सड़को पर आवारा कुत्ते,आवारा पशु आम बात है जिससे हर आम व्यक्ति असुरक्षित है।
(10) पार्किंग व्यवस्था का युक्तिकरण,स्टेण्डराईजेशन जरूरी है ।यहाँ हर जगह अलग अलग दरें है ।निर्धारित शुल्क से अधिक वसूला जाता है ।
(11) शहर में भले ही मास्टर प्लान है किन्तु हर जगह बेतरतीब निर्माण हो रहे है ।घरों के बाहर तक गेट/बाउंड्री निकालकर कालोनियों में पार्किंग और व्यवसाय स्थल बनाये जा रहे है ।
(12) शिप्रा नदी में खान का प्रदूषण आम है जो अरबो के खर्च के बाद भी यथावत है।शिप्रा का दर्शन और पर्यटन में महत्व है । (13) सरकार द्वारा केवल महाकाल लोक पर ध्यान दिया जा रहा है जबकि पर्यटक अन्य स्थल पर भी जाते है वहाँ की गंदगी और अव्यवस्था अच्छा संदेश नहीं देती ।
(14) महाकाल नगरी में यत्र /तंत्र भिखारियों की भीड़ है जिस पर नियंत्रण जरूरी है शासन और निजी स्तर पर भरपूर भोजन और कपड़ो की सेवाएं उपलब्ध है ।फिर भिखारियों पर नियंत्रण क्यो नहीं। इससे अपराधो को भी प्रश्रय मिलता है ।
(15) सिंहस्थ क्षेत्र(भूमि) में अतिक्रमण आम है जिस पर कोई नियंत्रण नही है ।पूरी तरह राजनीतिक सरंक्षण प्राप्त है ।
(16) उज्जैन धार्मिक और पर्यटक नगरी के लिए निश्चित गाइडलाइन बने और उल्लंघन पर सख्त कार्यवाही हो ।
(17) प्राचीनतम नगरी में प्राकृतिक सौंदर्य स्थलों के विकास पर विशेष ध्यान दिया जाय ।विशेष रूप से यहाँ अनेक औषधीय पौधे है ।आयुर्वेद और प्राकतिक चिकित्सा सेवा का विशिष्ट प्रकोष्ठ हो।
(18) उज्जैन के योगदान और इतिहास का वृतांत हर जगह उपलब्ध हो ।विक्रमादित्य का योगदान,काल गणना, विक्रम संवत,सम्राट अशोक से जुड़ाव , कालिदास आदि पर भी ध्यान दिया जावे ।
(19) बाजारों का युक्तयुक्त विकास ।जिससे स्थानीय उत्पादों का व्यापार और ब्रांड विकसित हो। आशा ही नही वरन विश्वास है आप उक्त बिंदुओं पर उचित कार्यवाही के निर्देश प्रदान करेंगे । और की गई कार्यवाही से अवगत कराएंगे ।

(प्रधानमंत्री के नाम पत्र अशोक खण्डेलवाल (संपादक -चिकित्सासंसार) , समाजसेवी, प्रदेश सचिव -राष्ट्रीय मानवाधिकार एसोसिएशन, मोबाइल - 9425092492 / 9399008071 द्वारा वॉट्स्ऐप पर प्रकाशन हेतु भेजा गया था। उसी आधार पर यह खबर प्रकाशित हैं। )

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य