Skip to main content

मालवी लोक संस्कृति यह सिखाती है कि मनुष्य को भूमि, जन और संस्कृति के प्रति अनुराग होना चाहिये - प्रो. शैलेंद्रकुमार शर्मा

मनुष्य जन्म से अनगढ़ है, उसे पशुत्व से दूर करने का काम संस्कृति करती है – प्रो शर्मा

मालवी लोक संस्कृति पर हुआ विशिष्ट परिसंवाद

मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय की लिखंदरा दीर्घा की परिसंवाद शृंखला में जनजातीय लोक कला एवं बोली विकास अकादमी, मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय, भोपाल एवं शासकीय महारानी लक्ष्मी बाई कन्या स्नाकोत्तर (स्वशासी) महाविद्यालय के सहयोग से दो दिवसीय परिसंवाद का आयोजन मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय के सभागार में किया जा गया है। इसके अंतर्गत शुभारम्भ दिवस पर 08 दिसंबर को मालवी लोक संस्कृति पर विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के कुलानुशासक एवं लोकसंस्कृति विद् प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा ने मालवी लोक संस्कृति पर व्याख्यान में अपने विचार प्रस्तुत किये।

मुख्य वक्ता प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा ने मालवी लोक संस्कृति पर व्याख्यान देते हुए कहा कि आज नई पीढ़ी को लोक संस्कृति सहेजने के लिये आगे आना चाहिये। मालवा अंचल शास्त्रकारों और लोक चिंतनशीलों का अंचल रहा है। यहां वैदिक ऋषियों ने जीवन यापन किया है। जब भी पुरातन की बात होती है, तब दो नगरों की बात होती है। जिसमें पहला उज्जयिनी और दूसरे पाटलिपुत्र की बात आती है। इन दोनों ही नगरों में अलग-अलग देश और विदेश के लोग आते रहे हैं। मालवा संस्कृति में स्थान स्थान की परंपराओं, संस्कृति, भाषा, कथा एवं लोकाचारों को आत्मसात किया है। मनुष्य जन्म से अनगढ़ है और उसे पशुत्व से दूर करने का काम संस्कृति करती है। हम बात करें भीमबेटका की तो वहां के प्रतीकों में भी मालवा की संस्कृति दिखाई देती है। वहां जो भी रहन-सहन, दिनचर्या पर आधारित चित्र एवं प्रतीक बनाये गये हैं, उनमें मालवा की संस्कृति देखने को मिलती है। यहां छह हजार शैलाश्रय देखने को मिलते हैं।

भारत देश की संस्कृति लोक संस्कृति है। बिना लोक और जनजातीय संस्कृति के भारत शून्य है। मालवी लोक संस्कृति यह सिखाती है कि मनुष्य को भूमि, जन, संस्कृति के प्रति अनुराग होना चाहिये। मालवा की माच शैली के बारे में बताया कि यह शैली 300 साल पुरानी है, जिसमें 150 से अधिक खेल प्रस्तुत हुए हैं। परिसंवाद के दौरान वक्ता श्री शर्मा ने लोक कथाएं सुनाई एवं विद्यार्थियों द्वारा उनसे मालवी लोक संस्कृति से जुड़े कई प्रश्न भी पूछे गये।

परिसंवाद का शुभारंभ दीप प्रज्वलन एवं वक्ता, अतिथियों के स्वागत से हुआ। इस दौरान मंच पर अकादमी निदेशक डॉ.धर्मेंद्र पारे, शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या स्नातकोत्तर (स्वशासी) महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. ममता चंसोरिया, हिंदी की विभागाध्यक्ष डॉ. प्रज्ञा थापक संगोष्ठी के समन्वयक डॉ.सुधीर कुमार एवं बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित रहे। परिसंवाद का संचालन श्री शुभम चौहान द्वारा किया गया।

अकादमी निदेशक डॉ धर्मेंद्र पारे ने कहा कि पहले जब भी लोक संस्कृति, विमुक्त एवं घुमंतू समुदाय पर बात करते थे, तो बात करने वाले को पिछड़ा माना जाता था। लोग इन विषयों पर बात नहीं करना चाहते थे, लेकिन वर्तमान में शासन, प्रशासन एवं अकादमी द्वारा इन विषयों पर चर्चा एवं मंथन किया जा रहा है। साथ ही इन पर काम भी किया जा रहा है। यह परिसंवाद हर माह आयोजित किया जाता है, जिसमें लोक संस्कृति एवं जनजातीय संस्कृति विषयों पर चर्चा की जाती है।

परिसंवाद में महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. ममता चंसोरिया ने कहा कि प्राचीन काल से ही मालवा की संस्कृति समृद्ध रही है। यहां की बोली, भाषा, परंपरा, संस्कृति सुभावन है। आज इस परिसंवाद के माध्यम से विद्यार्थियों को मालवा को समझने और नजदीक से जानने का अवसर मिलेगा। परिसंवाद के दौरान उन्होंने एक बुंदेली लोक कथा भी सुनाई।

दो दिवसीय परिसंवाद में आज 09 दिसंबर को बघेली लोक संस्कृति पर प्रो. उमेश कुमार सिंह अपने विचार प्रस्तुत करेंगे। यह परिसंवाद संग्रहालय सभागार में दोपहर 01 बजे से आयोजित किया जायेगा।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य