Skip to main content

कई पद्धतियों का उपयोग हो रहा है विदेशी भाषा के रूप में हिंदी को सिखाने के लिए

विश्व फलक पर हिंदी भाषा शिक्षण : प्रविधि और संभावनाएं विषय पर अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न

यूएसए के वरिष्ठ भाषावैज्ञानिक प्रो सुरेंद्र गंभीर का सारस्वत सम्मान हुआ

उज्जैन। विक्रम विश्वविद्यालय की हिंदी अध्ययनशाला एवं पत्रकारिता और जनसंचार अध्ययनशाला द्वारा विश्व फलक पर हिंदी भाषा शिक्षण : प्रविधि और संभावनाएं विषय पर केंद्रित अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। आयोजन के मुख्य अतिथि यूएसए की यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेन्सिल्वेनिया एवं यूनिवर्सिटी ऑफ़ विस्कन्सिन के पूर्व विभागाध्यक्ष वरिष्ठ भाषावैज्ञानिक प्रो सुरेंद्र गंभीर थे। अध्यक्षता प्रभारी कुलपति प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने की एवं विशिष्ट अतिथि कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक, प्रो गीता नायक, डॉ जगदीश चंद्र शर्मा, डॉ डी डी बेदिया, डॉ रमण सोलंकी थे। इस अवसर पर हिंदी भाषा एवं साहित्य के व्यापक प्रसार के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए वरिष्ठ भाषाविद प्रो सुरेंद्र गंभीर को अतिथियों ने शॉल, श्रीफल एवं साहित्य भेंट कर उनका सारस्वत सम्मान किया।

संगोष्ठी को संबोधित करते हुए के मुख्य अतिथि यूएसए के प्रो. सुरेंद्र गंभीर ने विदेशों में हिंदी शिक्षण की विभिन्न प्रविधियों पर विचार व्यक्त करते हुए कहा कि भाषा सीखने के लिए वातावरण का विशेष महत्व होता है। भारत के बाहर विदेशी भाषा के रूप में हिंदी को सिखाते हुए कई पद्धतियों का उपयोग किया जा रहा है। इनमें व्याकरण और अनुवाद आधारित प्रविधि, लैंग्वेज लैब आधारित विधि, मनोवैज्ञानिक प्रविधि, संप्रेषणात्मक प्रविधि आदि प्रमुख हैं। भाषा शिक्षण में संवादात्मक प्रविधि भी महत्त्वपूर्ण होती है। हर भाषा, हर बोली नियमों से बंधी होती है। उसका अपना महत्व होता है, किंतु आज अंग्रेजी शब्दों के आक्रमण से हिंदी शिक्षण पर जो असर हो रहा है वह चिंताजनक है। भारत की युवा पीढ़ी को यह समझना होगा कि वह विदेशी भाषा सीखे, लेकिन हमें प्राथमिकता हिंदी को देनी होगी। जितनी हम हिंदी की पुस्तकें पढ़ेंगे, हमारी शब्दावली और भाषा का ज्ञान बढ़ेगा।

अध्यक्षीय उद्बोधन में प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि विदेशों में सौ देशों में बसे सवा तीन करोड़ भारतवंशी अनेक चुनौतियों के बावजूद हिंदी एवं अन्य भारतीय भाषाओं को जीवित रखे हुए हैं। भाषा में निहित ध्वनि संकेत, विचारों और भावनाओं का संवहन करते हैं। इसलिए भाषा शिक्षण के लिए वैज्ञानिक पद्धति को अपनाना आवश्यक है। भाषा वैज्ञानिक हिंदी भाषा और देवनागरी लिपि को वैज्ञानिक मानते हैं, क्योंकि उनमें भ्रम की स्थिति उत्पन्न नहीं होती। हिंदी भाषा शिक्षण को विश्व पटल पर स्थापित करने के लिए जरूरी है कि विदेशी विश्वविद्यालयों की हिंदी की पाठ्य सामग्री भी वहाँ की स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप हो। प्रो सुरेंद्र गंभीर पचास वर्षों से प्रवासी भारतीय की तरह हिंदी शिक्षण के साथ उसे प्रचारित - प्रसारित करने का अद्वितीय कार्य कर रहे हैं। उनका जीवन प्रवासी भारतीयों की भाषा और संस्कृति के लिए समर्पित रहा है।

कुलसचिव प्रो. प्रशांत पुराणिक ने अपने उद्बोधन में विश्व पटल पर हिंदी प्रचार, प्रसार एवं शिक्षण विषय पर चर्चा करते हुए कहा कि आज हिंदी विश्व भर में महत्वपूर्ण स्थान बना चुकी है। वह हमारे देश का गौरव है। क्षेत्रीय भाषाओं के साथ हिंदी का महत्व निरंतर बढ़ रहा है। वृहत्तर भारत में ब्राह्मी लिपि और प्राकृत भाषा के माध्यम से भारत की संस्कृति का विस्तार हुआ, जो आज हिंदी के माध्यम से आगे बढ़ रहा है। यूके, रशिया, चाइना जैसे कई देशों में हिंदी का अपने विपुल साहित्य के कारण प्रचार - प्रसार निरंतर बढ़ता जा रहा है।

प्रो. गीता नायक ने अपने उद्बोधन में कहा कि भाषा और समाज एक दूसरे के पूरक हैं। भाषा का समाजवैज्ञानिक अध्ययन क्षेत्र, संस्कृति, लिंग आदि के आधार पर किया जा सकता है। किसी व्यक्ति के क्षेत्र की पहचान उसके द्वारा प्रयुक्त भाषा के शब्दों को समझ कर आसानी से की जा सकती है।


कार्यक्रम में डॉ जगदीश चंद्र शर्मा, संस्कृत विभाग के अध्यक्ष डॉ डी. डी. बेदिया और पुरातिहासविद् डॉ रमण सोलंकी ने प्रो सुरेंद्र गंभीर का अभिनंदन करते हुए कहा कि वे भारत के साथ साथ विदेशों में भी हिंदी का मान बढ़ा रहे हैं। आयोजन में डॉ प्रतिष्ठा शर्मा, डॉ सुशील शर्मा, डॉ अजय शर्मा, श्रीमती हीना तिवारी आदि सहित अनेक शिक्षक, शोधकर्ता, और विद्यार्थी उपस्थित थे।

कार्यक्रम का संचालन डॉ. जगदीश चन्द्र शर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन शोधार्थी मोहन तोमर ने किया।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य