Skip to main content

आयुर्वेद रत्नाकर के प्रथम रत्न मंथन का संदेश लेकर जिनका अवतार हुआ, सतत गतिशीलता और सुनियोजन से लक्ष्य प्राप्ति के देवता आदि धन्वंतरि को नमन

आयुर्वेद रत्नाकर के प्रथम रत्न मंथन का संदेश लेकर जिनका अवतार हुआ

सतत गतिशीलता और सुनियोजन से लक्ष्य प्राप्ति के देवता आदि धन्वंतरि को नमन

यद्यपि वैद्यक शास्त्र के जन्मदाता के रूप में धन्वंतरि जी का नाम जनसाधारण में प्रचलित है। इतिहास में धन्वंतरि नाम के तीन आचार्यों का वर्णन प्राप्त होता है । सर्वप्रथम धनवंतरी प्रथम देवलोक में जो स्थान मधु कलश लिए हुए अश्विनीकुमारों को प्राप्त होता है उसी प्रकार मृत्यु लोक में अमृत कलश लिए हुए आयुर्वेद के जनक भगवान धन्वंतरि को प्राप्त है। पुराणों में विवरण प्राप्त होता है कि क्षीरसागर के मंथन से अमृत कलश लिए हुए धन्वंतरि उत्पन्न हुए।

धन्वंतरि समुद्र से निकले हुए 14 रत्नों में गिने जाते हैं
श्री मणि रंभा वारुणी अमिय शंख गजराज कल्पद्रुम शशि धेनू धनु धनवंतरी विष वाजि
देवता और असुर समुद्र के मंथन का निश्चय करके वासुकि नाग को रज्जू बनाकर व मंदराचल पर्वत को मथनी बनाकर पूर्ण शक्ति लगाकर समुद्र मंथन किए। तत्पश्चात धर्मात्मा आयुर्वेदमय पुरुष दंड और कमंडल के साथ प्रगट हुए। मंथन के पूर्व समुद्र में विविध प्रकार की औषधियां डाली गई थी और मंथन से उनके संयुक्त रसों का स्राव अमृत के रूप में निकला फिर अमृत युक्त श्वेत कमंडल धारण किए धन्वंतरी प्रगट हुए । इस प्रकार धनवंतरी प्रथम का जन्म अमृत उत्पत्ति के समय हुआ। इनका काल समुद्र मंथन काल है।
वास्तव में समुद्र मंथन एक युक्ति प्रमाण का उदाहरण है। जब औषध रोगी परिचारक और वैद्य अपने गुणों से युक्त होती हैं तब रोग का निर्मूलन होता है। आयुर्वेद के प्रथम अंग शल्यशास्त्र में पारंगत भगवान धनवंतरी का आविर्भाव निरोग सुख के लिए रोग-शोक के निवारण के लिए दैवीय शक्ति का विस्तार है।
धनवंतरी द्वितीय से तात्पर्य उस धनवन्तरी से है जिन्होंने काशी के चंद्रवंशी राजकुल में सुनहोत्र की वंशावली में चौथी और पांचवी पीढ़ी में जन्म ग्रहण किया था । भागवत पुराण और गरुण पुराण में दीर्घतपा के पुत्र को धनवंतरी माना जाता है।
शल्य प्रधान आयुर्वेद परंपरा की जनक के रूप में धनवंतरी तृतीय काशीराज दिवोदास धन्वंतरि का नाम लिया जाता है । धन्वंतरी संप्रदाय की प्रतिष्ठा इनकी क्रिया कुशलता का ही परिणाम है। ये शल्य कर्म विशेषज्ञ के रूप में चिकित्सा जगत में प्रतिष्ठित है । दिवोदास वाराणसी नगर के संस्थापक थे । काशी राज के कुल में आयुर्वेद की परंपरा रही है। उन्होंने अपने यहां विद्यापीठ के रूप में आयुर्वेद की शिक्षा दीक्षा देना प्रारंभ किया। दिवोदास धनवंतरी अष्टांग आयुर्वेद के विद्वान महा ओजस्वी शास्त्रों के अर्थ विषयक संदेह को दूर करने वाले, वह अनेक शास्त्रों के ज्ञाता के रूप में माने जाते हैं। यह पूर्व में देव वैद्य थे। सुश्रुत संहिता में स्पष्ट वर्णन आता है कि, इन्होंने देवताओं की जरा रुजा मृत्यु को दूर कर अजर अमर तथा निरोगी किया। मृत्यु लोक में शल्य प्रधान आयुर्वेद के जनक के रूप में मानव रूप में अवतरण हुआ। उनके यहां दूरस्थ देशों के शिष्य विद्या अध्ययन के लिए आते थे। दिवोदास के शिष्यों में सुश्रुत के अतिरिक्त औपधेनव.वैतरण औरभृ पौषकलावत करवीय. गोपुररक्षित भी थे। काशी के राजा दिवोदास धन्वंतरि जब वानप्रस्थ आश्रम में थे तब उनके शिष्य कहने लगे ।
हे भगवान शारीरिक मानसिक आगंतुक व्याधियों से पीड़ित तथा परिजनों के रहते हुए भी व्याकुल मनुष्यों को देखकर हमारे मन में पीड़ा हो रही है। आतुर जनों की पीड़ा के प्रतिकार के लिए तथा जिससे इहलौकिक तथा पारलौकिक दोनों ही प्रकार का कल्याण प्राप्त हो सकता है। अतः हमें उपदेश दीजिए हम शिष्य बनने के लिए आपकी सेवा में उपस्थित हुए हैं ।
धन्वंतरी जी का उपदेश आयुर्वेद अथर्ववेद का उपवेद है यह अष्टांग है। इन अंगों में से किस अंग का उपदेश करें। शिष्यों ने फिर भगवान धनवंतरी से कहा कि, हम सबको शल्य प्रधान आयुर्वेद का उपदेश करें। धन्वंतरि जी ने एवमस्तु कहकर उपदेश का प्रारंभ किया ।
आयुर्वेद का प्रयोजन है रोगियों के रोग की मुक्ति, स्वस्थ व्यक्ति के स्वास्थ्य की रक्षा करना । यह शास्त्र शास्वत और नित्य है, पवित्र है, स्वर्ग दायक सुखदायक है और आयुका वर्धक जीविका का संचालक है ।आदि काल में ब्रह्मा ने इस शास्त्र का प्रवचन किया था । उसे प्रजापति ने प्राप्त किया, उससे अश्विनीकुमारों ने प्राप्त किया, उनसे इंद्र ने ग्रहण किया और इंद्र से मैंने इस शास्त्र को प्राप्त किया और मेरा यह पवित्र कर्तव्य है कि, मैं विद्यार्थियों को इस शास्त्र का उपदेश दूं क्योंकि मैं आदिदेव धन्वंतरि हूं स्पष्ट होता है कि, आयुर्वेद का संबंध तृतीय धन्वंतरि से सर्वाधिक है। आगम प्रमाण से भगवान धनवंतरी के अवतरण दिवस को आयुर्वेदिक समाज धन्वंतरि जयंती के रुप में मनाते चले आ रहे हैं ।
भारत सरकार ने धन्वंतरि जयंती को राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस (National Ayurveda Day) की शुरुआत साल 2016 में हुई थी। इस साल देश सातवां राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस मना रहा है। इस बार राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस हर घर आयुर्वेद हर दिन आयुर्वेद रखी गई है। इसका उद्देश्या आयुर्वेद क्षेत्र से जुड़े हितधारकों और उद्यमियों को कारोबार के नए अवसरों के प्रति जागरूक करना है। इस वर्ष भी सम्पूर्ण भारतवर्ष में धन्वंतरि जयंती बड़े उत्साह से मनाई जाऐगी।

॥ धनवंतरी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं ॥
✍️डॉ जितेंद्र कुमार जैन, व्याख्याता, संहिता सिद्धांत विभाग ✍️डॉ प्रकाश जोशी, व्याख्याता, रचना शारीर विभाग शासकीय धनवंतरी आयुर्वेदिक महाविद्यालय एवं चिकित्सालय उज्जैन

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य