Skip to main content

मातृभाषा हिन्दी से प्रेम होना चाहिये

  • प्रदेश में मेडिकल, इंजीनियरिंग के पाठ्यक्रम हिन्दी में भी लागू होंगे
  • उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव हिन्दी ग्रंथ अकादमी स्वर्ण जयन्ती वर्ष के समापन एवं पुरस्कार वितरण समारोह में शामिल हुए

उज्जैन 30 सितम्बर। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने कहा कि हमारी मातृभाषा हिन्दी से प्रेम होना चाहिये। प्रदेश में मेडिकल इंजीनियरिंग के पाठ्यक्रम अब हिन्दी में भी लागू होंगे। हम वर्तमान समय में अतीत की प्रेरणा से नये कीर्तिमान रच रहे हैं। यह राष्ट्रभाषा का सांस्कृतिक यज्ञ है, जिसे हिन्दी ग्रंथ अकादमी के स्वर्ण जयन्ती के अवसर पर सम्राट विक्रमादित्य के नगर में आयोजित किया गया है। हिन्दी ग्रंथ अकादमी द्वारा चिकित्सा, यांत्रिकी तथा प्रबंधन की पाठ्यक्रम पुस्तकें प्रथमत: प्रकाशित करने का गौरव प्राप्त हो रहा है।

इस आशय के विचार उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने शुक्रवार 30 सितम्बर को अपराह्न में विक्रम कीर्ति मन्दिर में आयोजित मप्र हिन्दी ग्रंथ अकादमी भोपाल एवं विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के संयुक्त तत्वावधान में स्वर्ण जयन्ती समारोह समारोह के कार्यक्रम में व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि उज्जयिनी कालगणना की नगरी है। हिन्दी ग्रंथ अकादमी का भी यही काम हिन्दी से है। हमारी हिन्दी भाषा राष्ट्रभाषा है। कार्यक्रम में विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय ने प्रतियोगिता में विजेता छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए कहा कि वे हिन्दी का व्यापक प्रचार-प्रसार करें। हिन्दी का महत्व अधिक है। बहुभाषाएं भी विक्रम विश्वविद्यालय में एक-दूसरे छात्र को सीखाई जा रही है। राष्ट्रीय नई शिक्षा नीति को प्रदेश में अपनाकर विक्रम विश्वविद्यालय में नये-नये पाठ्यक्रमों को प्रारम्भ किया है। देश के प्रधानमंत्री के 11 अक्टूबर को उज्जैन में महाकाल लोक के लोकार्पण के पूर्व एक हफ्तेभर विक्रम विश्वविद्यालय के द्वारा शिव के विविध प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। शिव मन्दिरों में पूजा-पाठ होगी। इसका ऑनलाइन कार्यक्रम भी होगा। मप्र हिन्दी ग्रंथ अकादमी के संचालक श्री अशोक कड़ेल ने कहा कि मप्र हिन्दी ग्रंथ अकादमी का स्वर्ण जयन्ती का समापन वर्ष 2020 में होना था, परन्तु कोविड महामारी के चलते हुए उक्त कार्यक्रम अब मना रहे हैं। इसी तरह अकादमी में अभी तक स्थापना दिवस नहीं मनाया था, परन्तु इस वर्ष 21 जून को स्थापना दिवस मनाया गया, जो हमारे लिये गर्व की बात है। उन्होंने बताया कि मप्र हिन्दी ग्रंथ अकादमी ने अपना सफर 1970 से प्रारम्भ किया था, जो निरन्तर चल रहा है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति देश में सर्वप्रथम मध्य प्रदेश में लागू की है। श्री कड़ेल ने कहा कि एक प्रान्त का ज्ञान दूसरे प्रान्त को मिले, इसका भी प्रयास अकादमी के द्वारा किया जा रहा है। अकादमी द्वारा ज्ञान सम्पदा पुस्तक प्रकाशित की है, जो विद्यार्थियों को इससे लाभ मिलेगा। अधिक से अधिक विद्यार्थी उक्त पुस्तक का अध्ययन कर ज्ञानवर्धन करें। प्रदेश में जिला स्तर, संभाग स्तर एवं राज्य स्तर पर निबंध प्रतियोगिताएं आयोजित की गई थी। निबंध प्रतियोगिता में विषय ‘भारत की प्राचीन ज्ञान परम्परा और राष्ट्रीय शिक्षा नीति’ था। निबंध प्रतियोगिता के परिणाम में प्रथम कु.विरती चौहान शासकीय संस्कृत महाविद्यालय रामबाग इन्दौर एवं द्वितीय स्थान पर कु.सुरूचि काले जयवंती हक्सर शासकीय महाविद्यालय बैतूल और तृतीय स्थान पर श्री संजय केवट शासकीय महाविद्यालय गोहवास जिला शहडोल रहे। विजेता छात्रों को अतिथियों के द्वारा प्रशंसा-पत्र, प्रोत्साहन राशि आदि भेंटकर पुरस्कृत किया गया। विजेताओं की घोषणा स्वामी विवेकानन्द कैरियर मार्गदर्शन योजना के निदेशक डॉ.उमेश कुमार सिंह ने की। कार्यक्रम के प्रारम्भ में स्वागत भाषण विक्रम विश्वविद्यालय के कुल सचिव डॉ.प्रशांत पुराणिक ने दिया। कार्यक्रम में ‘स्वर्णिम रचना’ नामक पुस्तक का अतिथियों के द्वारा विमोचन किया गया। स्वर्णिम रचना ग्रंथ का परिचय उच्च शिक्षा उत्कृष्ट संस्थान भोपाल के प्राचार्य डॉ.प्रज्ञेश अग्रवाल ने दिया। लोकार्पित स्वर्णिम रचना ग्रंथ का सम्पादन प्रो.शैलेंद्र कुमार शर्मा, डॉ.राकेश ढंड, डॉ प्रज्ञेश अग्रवाल एवं डॉ अल्पेश चतुर्वेदी ने किया है।


कार्यक्रम के प्रारम्भ में अतिथियों ने मां वाग्देवी के चित्र पर पुष्पांजली अर्पित की। अतिथियों का स्वागत एवं सम्मान कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय, कुल सचिव डॉ.प्रशांत पुराणिक, प्राचार्य श्री अर्पण भारद्वाज, डॉ.रमण सोलंकी, श्री राकेश ढंड, श्री रामविश्वास कुशवाह आदि ने किया। अतिथियों को स्मृति चिन्ह, शाल, श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया।
उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव ने सम्राट विक्रमादित्य इंस्टिट्यूट ऑफ हैल्थ साइंस भवन का लोकार्पण किया

विक्रम विश्वविद्यालय परिसर में अनुमानित दो करोड़ रुपये की लागत से नवनिर्मित सम्राट विक्रमादित्य इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ साइंस भवन का उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने लोकार्पण किया। इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय, मप्र हिन्दी ग्रंथ अकादमी के संचालक श्री अशोक कड़ेल, कुलसचिव डॉ.प्रशांत पुराणिक, श्री गोविन्द प्रसाद शर्मा, श्री राजेश कुशवाह, श्री उमेश कुमार सेंगर आदि की उपस्थिति में लोकार्पण कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो.रामराजेश मिश्र सहित प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों के प्रोफेसर, कुल सचिव, कुलपति, छात्र-छात्राएं आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन विक्रम विश्वविद्यालय के कुलानुशासक प्रो.शैलेंद्र कुमार शर्मा ने किया और अन्त में आभार श्री रामविश्वास कुशवाह ने प्रकट किया।
पुस्तक बिक्री केन्द्र का शुभारम्भ

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने विक्रम कीर्ति मन्दिर परिसर में विक्रम विश्वविद्यालय के सौजन्य से पुस्तक बिक्री केन्द्र का फीता काटकर शुभारम्भ किया।
राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारतीय समाज को पाश्चात्य आभा मण्डल से बाहर निकालेगी
स्वर्ण जयन्ती का उद्घाटन सत्र पूर्वाह्न 11 बजे से विक्रम कीर्ति मन्दिर में हुआ। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, नईदिल्ली के अध्यक्ष डॉ.गोविन्द प्रसाद शर्मा ने कहा कि भारत में पिछले कई वर्षों में सैंकड़ों भाषाएं, बोलियां विलुप्त हो चुकी हैं। हम एक समृद्ध सुसंस्कृत सभ्यता के उत्तराधिकारी होने के बावजूद यह वेदना का विषय होना चाहिये। राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारतीय समाज को पाश्चात्य आभा मण्डल से बाहर निकालेगी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पुस्तक न्यास नईदिल्ली द्वारा शीघ्र ही साल के अन्त तक विक्रम विश्वविद्यालय एवं मप्र हिन्दी ग्रंथ अकादमी के सहयोग से पुस्तक मेले का आयोजन उज्जैन में होगा। उद्घाटन सत्र के परिसंवाद को सम्बोधित करते हुए मप्र हिन्दी ग्रंथ अकादमी के संचालक श्री अशोक कड़ेल ने कहा कि भाषा के बिना शिक्षा का प्रचार-प्रसार नहीं हो सकता। भाषा से संवेदना उत्पन्न होती है। भाषा मन की मिठास है। भाषा संस्कृति की संवाहक है, भाषा के बिना व्यक्तित्व विकास संभव नहीं है। हिन्दी जन-मानस से विश्व भाषा बन गई है। उद्घाटन सत्र में विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय ने कहा कि भाषा राष्ट्र का गौरव होती है। व्यक्तित्व की पहचान के लिये विदेशी भाषा अनिवार्य नहीं है। शोधार्थी इस भ्रम को मिटायें कि विदेशी भाषा से ही शोध पहचाना जाता है। पाणिनी संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.विजय कुमार सीजी ने कहा कि समाज में भाषा की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। कौशल जीवनशैली मातृ भाषा से ही आती है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पहली बार भाषा पर जोर दिया गया है।

उद्घाटन सत्र के अवसर पर स्वामी विवेकानन्द योजना के निदेशक डॉ.उमेश कुमार सिंह, यूके नाटिंघम से श्रीमती जय वर्मा, आस्लो नार्वे से डॉ.सुरेशचंद्र शुक्ल ने भी परिसंवाद में अपने विचार व्यक्त किये। इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो.रामराजेश मिश्र, प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा, डॉ.सत्यनारायण शर्मा, श्री राकेश ढंड, डॉ.जफर मेहमूद, डॉ.प्रेमलता चुटेल आदि उपस्थित थे। स्वागत वक्तव्य श्री रामविश्वास कुशवाह ने किया और अन्त में आभार विक्रम विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ.प्रशांत पुराणिक ने व्यक्त किया।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य