Skip to main content

करियर मार्गदर्शन एवं व्यक्तित्व विकास पर सेमिनार होगा 29 जुलाई को विक्रम विश्वविद्यालय में

कुलपति से छात्र - छात्राओं के संवाद कार्यक्रम का आयोजन 29 जुलाई को

उज्जैन। विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन द्वारा दिनांक 29 जुलाई 2022 को विक्रम कीर्ति मंदिर में प्रातः 9 बजे से करियर मार्गदर्शन एवं व्यक्तित्व विकास सेमिनार और कुलपति से संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। कार्यक्रम में उज्जैन के समस्त विद्यालयों के हाल ही में हायर सेकेंडरी उत्तीर्ण और हायर सेकेंडरी में अध्ययनरत छात्र भाग ले सकेंगे।

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा चलाये जा रहे  विश्वविद्यालय चलो अभियान के अंतर्गत पिछले एक माह से विद्यार्थियों को करियर मार्गदर्शन प्रदान करने का कार्य विश्वविद्यालय के शिक्षकों द्वारा सफलतापूर्वक किया जा रहा है। इसी शृंखला को आगे बढ़ाते हुए विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा दिनांक 29 जुलाई 2022 को कीर्ति मंदिर में प्रातः 9 बजे से करियर मार्गदर्शन एवं व्यक्तित्व विकास पर सेमिनार  और  कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय के साथ संवाद कार्यक्रम का आयोजन रखा गया है। इस कार्यक्रम में उज्जैन के विभिन्न विद्यालयों के हाल ही में हायर सेकेंडरी उत्तीर्ण एवं हायर सेकेंडरी में अध्ययनरत छात्र छात्राएँ भाग ले सकेंगे। इस कार्यक्रम में विद्यार्थियों को अलग-अलग विषय के विशेषज्ञों से करियर संबधी मार्गदर्शन प्राप्त होगा। उन्हें विश्वविद्यालय में संचालित पाठ्यक्रमों की जानकारी दी  जाएगी और उनकी करियर सम्बन्धी शंकाओं का निराकरण किया जायेगा।  कार्यक्रम में विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय छात्रों से संवाद करते हुए उन्हें आशीर्वचन प्रदान करेंगे। 

कार्यक्रम की संकल्पना बताते हुए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पाण्डेय ने कहा कि विद्यार्थियों को सही करियर मार्गदर्शन देना, उनकी करियर सम्बन्धी  समस्याओं का निराकरण करना एवं उनके स्वर्णिम भविष्य के लिए एक स्वस्थ, सुदृढ़ और सशक्त आधारशिला रखना विश्वविद्यालय का परम उत्तरदायित्व है। विश्वविद्यालय अपने इस दायित्व को अपनी पूरी शक्ति से निभाने के पथ पर अग्रसर है। 

विक्रम विश्वविद्यालय के कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने बताया कि विश्वविद्यालय चलो अभियान के प्रथम चरण में विश्वविद्यालय के शिक्षक विद्यालयों में जा कर विद्यार्थियों को करियर मार्गदर्शन दे रहे थे और उनकी शंकाओं का निराकरण करते हुए उन्हें विश्वविद्यालय में संचालित विभिन्न विषय क्षेत्रों से जुड़े 243 से अधिक पाठ्यक्रमों की जानकारी उपलब्ध करवा रहे थे। इस अभियान के दूसरे चरण में उज्जैन शहर के हायर सेकेंडरी उत्तीर्ण एवं अध्ययनरत अधिकतम विद्यार्थियों को एक छत के नीचे ला कर विषय विशेषज्ञों द्वारा उनके मार्गदर्शन का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि कार्यक्रम के अंत में विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति छात्रों से सीधा संवाद करते हुए उनकी करियर सम्बन्धी समस्याओं का समाधान करेंगे और उन्हें आशीर्वचन प्रदान करते हुए उनका उत्साहवर्धन करेंगे। 

विक्रम विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रोफेसर प्रशांत पुराणिक ने बताया कि विश्वविद्यालय का प्रयास अपने परिक्षेत्र में अध्ययनरत विद्यार्थियों तक सही करियर मार्गदर्शन एवं विश्वविद्यालय में संचालित सभी पाठ्यक्रमों की जानकारी पहुंचाने  का है, जिससे अधिक से अधिक विद्यार्थी लाभान्वित हो सकेंगे। 

कार्यक्रम के आयोजक सचिव डॉ अरविन्द शुक्ल, डॉ शिवि भसीन, डॉ अजय शर्मा एवं डॉ अंजलि उपाध्याय ने बताया कि विद्यार्थी इस कार्यक्रम में  गूगल फॉर्म भर कर ऑनलाइन माध्यम से नि:शुल्क रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।  इस कार्यक्रम का उद्देश्य विद्यार्थियों को यह बताना है कि बारहवीं उत्तीर्ण करने के बाद कौन सा क्षेत्र उन्हें किस प्रकार से रोजगार उपलब्ध करवा सकेगा। कार्यक्रम की सह आयोजन सचिव डॉ गरिमा शर्मा, डॉ कंचन थूल, डॉ ब्रह्मदत्त शुक्ल, डॉ मोहित प्रजापति एवं डॉ शिवम् शर्मा ने बताया कि इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में विद्यार्थियों को जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है, जिसके लिए विद्यालयों से सीधा संपर्क साधा जा रहा है, जिससे कि विश्वविद्यालय कि इस पहल से अधिक से अधिक विद्यार्थी लाभान्वित हो सकें।

आवश्यक सूचना

Urgent

Vikram University is organizing a seminar on "Career Counselling and Personality Development" and "कुलपति के साथ संवाद" for class 12th and pass out students.  Date: 29th July 2022, Time: 9 am-12 PM (Students are requested to reach half hour before the program)

Venue: Vikram Kirti Mandir, Vikram University Campus, Ujjain

Students can register themselves after filling google form

https://forms.gle/aUuCEWNo5G9SohxA7

Kindly register to become a part of this seminar and join what's group via link

 https://chat.whatsapp.com/CjrUpD9bxYf5qHktu3g3wz

For Further Details Contact: 9893874704, 9826469362, 8319733566, 8770857902

करियर मार्गदर्शन और व्यक्तित्व विकास सेमिनार और संवाद कार्यक्रम विभिन्न विद्यालयों में इस वर्ष हायर सेकेंडरी उत्तीर्ण तथा वर्तमान में 12 वीं में अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिए आयोजित किया जा रहा है। अतः अधिकाधिक विद्यार्थियों के समूहों में इसे प्रसारित करने का निवेदन है।

Regards 

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

चौऋषिया दिवस (नागपंचमी) पर चौऋषिया समाज विशेष, नाग पंचमी और चौऋषिया दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति और अर्थ: श्रावण मास में आने वा ली नागपंचमी को चौऋषिया दिवस के रूप में पुरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "चतुरशीतिः" से हुई हैं जिसका शाब्दिक अर्थ "चौरासी" होता हैं अर्थात चौऋषिया समाज चौरासी गोत्र से मिलकर बना एक जातीय समूह है। वास्तविकता में चौऋषिया, तम्बोली समाज की एक उपजाति हैं। तम्बोली शब्द की उत्पति संस्कृत शब्द "ताम्बुल" से हुई हैं जिसका अर्थ "पान" होता हैं। चौऋषिया समाज के लोगो द्वारा नागदेव को अपना कुलदेव माना जाता हैं तथा चौऋषिया समाज के लोगो को नागवंशी भी कहा जाता हैं। नागपंचमी के दिन चौऋषिया समाज द्वारा ही नागदेव की पूजा करना प्रारम्भ किया गया था तत्पश्चात सम्पूर्ण भारत में नागपंचमी पर नागदेव की पूजा की जाने लगी। नागदेव द्वारा चूहों से नागबेल (जिस पर पान उगता हैं) कि रक्षा की जाती हैं।चूहे नागबेल को खाकर नष्ट करते हैं। इस नागबेल (पान)से ही समाज के लोगो का रोजगार मिलता हैं।पान का व्यवसाय चौरसिया समाज के लोगो का मुख्य व्यवसाय हैं।इस हेतू समाज के लोगो ने अपन