Skip to main content

उज्जैन में कोविड टीकाकरण के लिये महाअभियान 27 जुलाई को, प्रिकॉशन डोज हेतु 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी नागरिक पात्र

उज्जैन 26 जुलाई। 18 वर्ष की उम्र से अधिक आयुवर्ग के ऐसे सभी नागरिक, जिन्होंने कोविड-19 वेक्सीन की दूसरी डोज ले ली है और दूसरी डोज लेने के बाद छह माह की अवधिपूर्ण कर ली है, वे सभी कोविड प्रिकॉशन डोज के पात्र हैं। ऐसे सभी लोगों के लिये टीकाकरण का महाअभियान 27 जुलाई को प्रात: 9 बजे से प्रारम्भ हो रहा है। जिले में प्रिकॉशन डोज का लक्ष्य 54 हजार दो रखा गया है। 54002 हितग्राहियों को कोविड वेक्सीन लगाने के लिये कुल 476 टीकाकरण केन्द्र बनाये गये हैं। उज्जैन शहर में 54 टीकाकरण केन्द्र बनाये गये हैं। इनमें से किसी भी टीकाकरण केन्द्र पर जाकर पात्र व्यक्ति टीका लगवा सकता है।

कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने 18 वर्ष की आयु से अधिक आयु के पात्र सभी युवाओं से कोविड वेक्सीन के प्रिकॉशन डोज लगवाने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि वर्तमान में कोरोना पॉजिटिव के प्रकरण फिर से आने लगे हैं। इसके मद्देनजर सभी लोग प्रिकॉशन डोज लगायें। प्रिकॉशन डोज लगाने से सभी लोगों की कोरोना से मुकाबले के लिये इम्युनिटी और अधिक बढ़ जायेगी।

उज्जैन शहर में स्थापित किये गये टीकाकरण केन्द्र की सूची

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.केसी परमार ने बताया कि उज्जैन शहर में कुल 54 टीकाकरण केन्द्र स्थापित किये गये हैं। शहर में स्थापित टीकाकरण केन्द्र इस प्रकार हैं- भैरवगढ़ कम्युनिटी हॉल वीर सांवरकर नगर, मोजमखेड़ी, सरस्वती स्कूल पीपली नाका, कम्युनिटी हॉल राधामोहन की गली, संजीवनी खिलचीपुर, बापू नगर, विराट नगर, गायत्री नगर, अतिरिक्त विश्व बैं कॉलोनी, गणेश नगर, इंदिरा नगर शासकीय स्कूल, शिवशक्ति नगर, कम्युनिटी हॉल पटेल नगर, मीणा धर्मशाला, नामदारपुरा, नयापुरा-2, साकड़िया सुल्तान, जीवाजीगंज-1 व 2, पूनमचंद का भट्टा, अ.जा.बस्ती भेरूनाला, हम्मालवाड़ी-1 व 2, कम्युनिटी हॉल अनंतपेठ, संजीवनी हॉस्पिटल जूना सोमवारिया, चेरिटेबल हॉस्पिटल, गीता कॉलोनी गुरूद्वारा, सोंधिया राजपूत धर्मशाला जीवाजीगंज, कुमावत धर्मशाला अवंतिपुरा, स्टेट बैंक बुधवारिया, कम्युनिटी हॉल फिश मार्केट छत्रीचौक, हीरा मिल की चाल, कैंसर युनिट हॉस्पिटल, फाजलपुरा, छत्रीचौक, मिर्ची नाला, सोनी धर्मशाला छत्री चौक, पानदरिबा, कालिदास स्कूल, तिलक स्मृति धर्मशाला, सेठी बिल्डिंग फ्रीगंज, महामना औदिच्य धर्मशाला, यूनानी दवाखाना लोहे का पुल, रेलवे प्लेटफार्म नं-1, रेलवे हॉस्पिटल, रामी माली धर्मशाला, शासकीय स्कूल हरिफाटक ब्रिज, बेगमबाग मकबरा-2, संजीवनी हॉस्पिटल कोट मोहल्ला, नलिया बाखल, चारधाम मंदिर, जयसिंहपुरा, आदर्श राजीव नगर, पुरवैया समाज धर्मशाला, शासकीय उत्कृष्ट स्कूल, संजीवनी हॉस्पिटल प्रकाश नगर, दवा बाजार, कम्युनिटी हॉल विष्णुपुरा, जाल सेवा निकेतन, वाल्मिकी कम्युनिटी हॉल माधव नगर, झोन-5 देसाई नगर, पंवासा, सेंट थॉमस स्कूल, गर्ल्स मीडिल स्कूल पंवासा, कम्युनिटी हॉल विद्या नगर, आईटीआई गर्ल्स कॉलेज, सहर्ष हॉस्पिटल, निपुण मांगलिक परिसर, आईटीआई बॉयज कॉलेज, सिविल हॉस्पिटल माधव नगर, जीडीसी कॉलेज, जेके नर्सिंग होम, कम्युनिटी हॉल विद्या नगर, शास्त्री नगर कम्युनिटी हॉल, रविदास धर्मशाला, मॉडल स्कूल, मित्र नगर, प्रजापत धर्मशाला मित्र नगर, आनंद भवन वेद नगर, पुष्पा मिशन हॉस्पिटल, पानी की टंकी ऋषि नगर, कॉसमोस मॉल, पोलिटेक्निक कॉलेज, दमदमेश्वर महादेव मंदिर, संजीवनी हॉस्पिटल दमदमा, पुलिस लाइन हॉस्पिटल टीम-1 व 2, नेहरू नगर, पंचायतीराज मुद्रणालय।




Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य