Skip to main content

युवाओं को रोजगार अवसर दिलाने के लिए जॉब फेयर का आयोजन 16 जुलाई को

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित जॉब फेयर में प्रतिष्ठित कंपनियां देंगी युवाओं को सैकड़ों जॉब अवसर


उज्जैन विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा युवाओ को रोजगार के अवसर उपलब्ध करने हेतु रोजगार मेले का आयोजन किया जा रहा है। इसमें कई प्रतिष्ठित कम्पनियों में स्नातक एवं स्नातकोत्तर स्तर के युवाओं के लिए सैकड़ों रोजगार अवसर प्राप्त होंगे। युवा अक्सर अपने लिए ऐसी नौकरी की तलाश में रहते हैं, जो उन्हें पढ़ाई करते हुए ही मिल जाए। इसी बात को ध्यान में रखते हुए विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन द्वारा एक दिवसीय जॉब फेयर - रोजगार मेले का आयोजन दिनांक 16 जुलाई 2022 को प्रातः 11 बजे विश्वविद्यालय के शैक्षणिक परिसर स्थित गणित अध्ययनशाला, विश्वविद्यालय परिसर देवास रोड उज्जैन में किया जा रहा है। इस जॉब फेयर में मुख्यतः स्नातक एवं स्नातकोत्तर उत्तीर्ण एवं कंप्यूटर की जानकारी रखने वाले छात्रों के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।


विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पांडेय ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा रोजगार मेले के आयोजन से विद्यार्थियों को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। विश्वविद्यालय द्वारा कंपनियों का डाटा बैंक तैयार किया जा रहा है, ताकि भविष्य में कंपनियों की मांग के अनुसार विद्यार्थियों में कौशल विकास करते हुए मानव संसाधन विकसित किये जाएँगे।
विक्रम विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रोफेसर प्रशांत पुराणिक ने बताया कि रोजगार मेले से हमारे विद्यार्थियों को नौकरी के बेहतर अवसर प्राप्त होंगे।

विक्रम विश्वविद्यालय के कुलानुशासक प्रोफेसर शैलेन्द्र कुमार शर्मा एवं समन्वयक, रोजगार मेला डॉ संदीप तिवारी ने बताया कि इस रोजगार मेले में कम्पनियों की आवश्यकता अनुसार व्यवस्था का प्रयास किया गया है तथा यह कार्यक्रम विद्यार्थियों को ज्यादा से ज्यादा रोजगार के अवसर उपलब्ध करने के उद्देश्य से आयोजित किया जा रहा है। जॉब फेयर में सम्मिलित होने के लिए छात्र ऑनलाइन लिंक प्राप्त करके या उसी समय आयोजन स्थल पर पहुंच कर पंजीयन करवा सकते हैं। सभी विद्यार्थियों को अपने साथ कम से कम 5 - 5 बायोडाटा एवं फोटोग्राफ्स लाने होंगे

Kindly register yourself for the upcoming job fair on 16th July 2022 organized by Vikram University, Ujjain (M.P) https://forms.gle/5sYLxtXoqjJGtQXx5

जॉब फेयर में सम्मिलित होने के लिए व्हाट्सएप लिंक https://chat.whatsapp.com/LLKvC9nS7quJN8fTNEbaA6 What's group link

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

चौऋषिया दिवस (नागपंचमी) पर चौऋषिया समाज विशेष, नाग पंचमी और चौऋषिया दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति और अर्थ: श्रावण मास में आने वा ली नागपंचमी को चौऋषिया दिवस के रूप में पुरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "चतुरशीतिः" से हुई हैं जिसका शाब्दिक अर्थ "चौरासी" होता हैं अर्थात चौऋषिया समाज चौरासी गोत्र से मिलकर बना एक जातीय समूह है। वास्तविकता में चौऋषिया, तम्बोली समाज की एक उपजाति हैं। तम्बोली शब्द की उत्पति संस्कृत शब्द "ताम्बुल" से हुई हैं जिसका अर्थ "पान" होता हैं। चौऋषिया समाज के लोगो द्वारा नागदेव को अपना कुलदेव माना जाता हैं तथा चौऋषिया समाज के लोगो को नागवंशी भी कहा जाता हैं। नागपंचमी के दिन चौऋषिया समाज द्वारा ही नागदेव की पूजा करना प्रारम्भ किया गया था तत्पश्चात सम्पूर्ण भारत में नागपंचमी पर नागदेव की पूजा की जाने लगी। नागदेव द्वारा चूहों से नागबेल (जिस पर पान उगता हैं) कि रक्षा की जाती हैं।चूहे नागबेल को खाकर नष्ट करते हैं। इस नागबेल (पान)से ही समाज के लोगो का रोजगार मिलता हैं।पान का व्यवसाय चौरसिया समाज के लोगो का मुख्य व्यवसाय हैं।इस हेतू समाज के लोगो ने अपन