Skip to main content

पर्यावरण संरक्षण हमारा दायित्व

 प्राणिकी एवं जैव-प्रौद्योगिकी अध्ययनशाला में पर्यावरण संरक्षण का संकल्प किया गया

उज्जैन विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून के अवसर पर प्राणिकी एवं जैव-प्रौद्योगिकी अध्ययनशाला द्वारा पर्यावरण संरक्षण का संकल्प प्रो अखिलेश कुमार पाण्डेय कुलपति, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन की अध्यक्षता में किया गया। इस अवसर पर विद्यार्थियों, शिक्षकों, तथा शोधकर्ताओं ने पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया। पर्यावरण दिवस के अवसर पर विद्यार्थियों, शिक्षकों तथा कर्मचारियों द्वारा परिसर की साफ-सफाई एवं पौधों को जल द्वारा सिंचाई कार्य तथा पर्यावरण संरक्षण के महत्त्व पर प्रकाश डाला गया।
हमारे चारों ओर स्थित प्राकृतिक परिवेश जैसे वायु, जल, मृदा, वनस्पति, जीव-जंतु आदि सभी पर्यावरण के घटक हैं तथा इनसे मिलकर पर्यावरण की रचना होती है। पर्यावरण को ही वृहत्तर अवधारणा के रूप पारिस्थिकी की संज्ञा दी जाती है। औद्योगिक क्रांति के परिणामस्वरूप संम्पूर्ण विश्व में विकास की ऐसी दौड़ शुरू हुई कि पर्यावरण को व्यापक पैमानों पर नष्ट किया जाने लगा। बड़ी-बड़ी नदियों, घाटी परियोजनाएं, जंगल का कटाव, जीवाश्म ईंधन का अधिक दोहन, भूगर्भीय जल का अधिक उपयोग, ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन और इसी प्रकार के मानवीय स्वार्थ पूर्ति हेतु अन्य परियोजनाएं का अधिक विकास किया जा रहा है जो पर्यावरण के लिए घातक है। भारत जैसे विकासशील देश में गरीबी,जनसंख्या और बेरोजगारी भी पर्यावरण प्रदूषण का एक कारण है। ऐसे अनेक कारण हैं जिनसे पर्यावरण एवं जैव-विविधता नष्ट होने के कगार पर है। पर्यावरण असंतुलन के कारण अनेक समस्याएँ विकराल रूप धारण कर रही हैं, जैसे सुनामी, ग्लोबल वार्मिंग, ओजोन परत का शीर्ण होना, भूकंप, बाढ़, तापमान में वृद्धि, मौसम परिवर्तन, अनेक जैवविविधता का लुप्त होना तथा नई-नई बीमारियों आम जन- जीवन को प्रभावित कर रहे है। केवल एक ही धरती है, हमारा सामूहिक भविष्य उसी पर निर्भर करता है, इसलिए पर्यावरण संरक्षण को लेकर वैश्विक चेतना जागृति किया जाना आवश्यक है । अतः पर्यावरण दिवस 5 जून 2022 को प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्ययनशाला, विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन में कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में शिक्षकों, विद्यार्थियों एवं कर्मचारियों के द्वारा पर्यावरण संरक्षण हेतु संकल्प किया गया। इस अवसर पर सभी के द्वारा पौधों की सिंचाई तथा अध्ययनशाला परिसर की साफ-सफाई की गयी। पर्यावरण संरक्षण संकल्प कार्यक्रम में कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय ने अपने उद्बोधन में बताया गया की भारत में पर्यावरण संरक्षण का इतिहास पुराना है, हड़प्पा संस्कृति पर्यावरण से समृद्धि थी, तो वैदिक संस्कृति पर्यावरण संरक्षण का परिचय बनी रही। भारतीय मनीषियों ने समूची प्रकृति ही क्या, सभी प्राकृतिक शक्तियों को देवता स्वरूप माना। आपने बताया की पर्यावरण है तो हमारा जीवन है पर्यावरण सुरक्षा और उसमे हमेशा असंतुलन बना रहे इसके लिए हममे जागरूक एवं सचेत रहना होगा।

विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक ने बताया कि पर्यावरण की सुरक्षा से ही भविष्य में जीवन की सुरक्षा हो सकती है। इसके लिए स्थानीय स्तर पर आमजन में पर्यावरण सुरक्षा की जागरूप विकसित करने हेतु कार्यक्रमों का आयोजन किया जाना आवश्यक है।
विक्रम विश्वविद्यालय के कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा, ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण हेतु वर्त्तमान में किये गए छोटे-छोटे प्रयासों से ही भविष्य में भावी पीढ़ी पर्यावरण से लाभान्वित हो पायेगी इसके लिए वैश्विक स्टार पर आमजन की सहभागिता आवश्यक है। प्राणिकी एवं जैव प्रौद्योगिकी अध्ययनशाला के अध्यक्ष डॉ सलिल सिंह ने बताया कि पर्यावरण दिवस मानाने की सार्थकता तभी है जब पर्यावरण संरक्षण की भावना हम सभी के दिलों में समाहित हो जाये। हमे विद्यार्थियों एवं युवा पीढ़ी को भी पर्यावरण संरक्षण के महत्त्व से परिचित करवाना होगा।
कार्यक्रम के आयोजन सचिव डॉ अरविन्द शुक्ल ने बताया कि विश्व में गत वर्षो से हो रहे पर्यावरणीय परिवर्तनों जैसे बढ़ते पर्यावरणीय प्रदूषण, तापमान वृद्धि, हरित गैसों का ह्रास होना तथा वातावरणीय मौसम परिवर्तन आदि जीवन के लिए गंभीर चुनौतियां हैं। इनके निवारण हेतु भारत द्वारा कई सार्थक प्रयास किये जा रहे है। भारत सरकार ने पर्यावरण संरक्षण हेतु कई महत्वपूर्ण अधिनियम 1974 तथा 1977 वायु प्रदूषण अधिनियम 1972, वन जीव संरक्षण अधिनियम 1972, वन संरक्षण अधिनियम 1980 तथा पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 प्रमुख हैं।

कार्यक्रम की दूसरी आयोजक सचिव डॉ शिवि भसीन ने पर्यावरण संरक्षण हेतु विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा किये जा रहे प्रयासों पर प्रकाश डालते हुए बताया की प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्ययनशाला द्वारा पिछले 30 वर्षों से क्षिप्रा, चम्बल, नर्मदा, नदियों, गांधीसागर, इन्द्रसागर, सरदार सरोवर तथा ओंकारेश्वर एवं महेश्वर डैम आदि सहित अनेक जल पारिस्थितिकी संरचनाओं का विस्तृत जल गुणवत्ता तथा जैवविविधता का अध्ययन किया जा रहा है एवं इस क्षेत्र में कार्यों पर पीएच डी की गयी एवं परियोजनाओं को पूर्ण किया गया है। आपने बताया कि मेरे द्वारा स्वयं क्षिप्रा नदी में "मॉस-बाथिंग" सूक्ष्मजीव जैवविविधता तथा नदी के स्वयं स्वच्छता क्षमता का अध्ययन करते हुए एक माडल विकसित किया गया है एवं जल-जनित बीमारियों का अध्ययन तथा कई शोध पत्र प्रकाशित किये गए हैं। विश्वविद्यालय द्वारा जल संरक्षण, जैव-विविधता संरक्षण, पौधारोपण, साफ-सफाई, गाजर घास उन्मूलन तथा जान जागृत अभियान द्वारा पर्यावरण संरक्षण हेतु सार्थक प्रयास किये जा रहे हैं।
इस कार्यक्रम में विभाग के शिक्षक डॉ संतोष कुमार ठाकुर ने पर्यावरण संरक्षण के लिए एन जी ओ तथा मीडिया के प्रयासों का उल्लेख करते हुए कहा कि जन-जागृति अभियान के लिए यह दोनों अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। कार्यक्रम का सञ्चालन विभाग की शिक्षिका डॉ गरिमा शर्मा ने पर्यावरण संरक्षण हेतु जैवप्रौद्योगिकी की भूमिका पर प्रकाश डाला तथा अपशिष्ट ठोस एवं जल पदार्थों को उपचलित करने की विधियों से विद्यार्थियों को परिचित कराया। इस अवसर विभाग के विद्यार्थी तथा कर्मचारीगण उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य