Skip to main content

भारत का संवत् विक्रम संवत् हो ऐसी गूंज उठी आवाज अंतरराष्ट्रीय स्तर पर

उज्जैन विक्रमादित्य शोध पीठ द्वारा इतिहास संकलन योजना, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन और मैपकास्ट, भोपाल के सहयोग से आयोजित तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय शोध संगोष्ठी में विक्रमादित्य की ऐतिहासिकता, पुरा सामग्री, लोक साक्ष्य और वैश्विक प्रभाव से जुड़े विविध पक्षों पर गहन मंथन हुआ। संगोष्ठी में द्वितीय दिवस पर हुए तीन सत्रों में सम्मिलित विद्वानों द्वारा अनेक शोध पत्रों का वाचन एवं व्याख्यान दिए गए।

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलानुशासक डॉ. शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने उल्लेखित किया कि विक्रमादित्य एक ऐतिहासिक चरित्र है, जो शास्त्रों से लेकर लोक तक प्रसिद्ध है। वे राम-कृष्ण के पश्चात सबसे ज्यादा लोक जीवन में प्रसिद्ध हैं। आपने बताया कि सोमदेव के ग्रंथों में दो भिन्न भिन्न विक्रमादित्य की जानकारी उल्लेखित है। विक्रमादित्य के संबंध में विभिन्न लोक अंचलों में महत्वपूर्ण लोक कथा, गाथा और किंवदंतियों प्रचलित हैं, जिनके माध्यम से अनेक ऐतिहासिक तथ्य उद्घाटित होते हैं। लोक अनुश्रुतियों के अनुसार विक्रमादित्य अद्वितीय हैं, जिनके सिंहासन पर कोई दूसरा नहीं बैठ पाया। उनके जाने के बाद वह सिंहासन कांतिहीन हो गया था। अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी के विशेष सत्र में नार्वे से जुड़े डॉ. सुरेशचंद्र शुक्ल शरद आलोक एवं नॉटिंघम, ब्रिटेन से जुड़ीं डॉ. जय वर्मा ने ऊँचे स्वरों में मांग की कि विक्रम संवत को राष्ट्रीय संवत् बनाना चाहिये। नेपाल का राष्ट्रीय संवत् विक्रम संवत् है। नॉर्वे जैसे राष्ट्र में भी अपने तीज त्यौहार विक्रम संवत् से मनाते हैं, जबकि भारत भूमि के चक्रवर्ती सम्राट संवत् प्रर्वतक विक्रमादित्य इसके जनक हैं। ठा. नरेंद्र सिंह पँवार ने अपने शोध पत्र में सम्राट विक्रमादित्य की वंश परम्परा पर चर्चा हो, ऐसी इच्छा जाहिर की। आपने पुराणों के माध्यम से विशेषकर भविष्यपुराण का उल्लेख करते हुए विक्रमादित्य की वंशावली की चर्चा की। साथ ही राजस्थान, हरियाणा तथा गुजरात से प्राप्त ग्रंथों के परिप्रेक्ष्य में विक्रमादित्य की वंशावली प्रस्तुत की। शोधपत्र का वाचन करते हुये कहा कि इनके वंश में कालान्तर में परमार वंश से जुड़ाव है। आपने राजस्थान के मंदसौर में भी विक्रमादित्य के अस्तित्व की चर्चा की और साथ ही अरब में भी विक्रमादित्य के विजय का उल्लेख किया। आपने ब्रिटेन से प्राप्त दुर्लभ साक्ष्यों में विक्रमादित्य के संवत् का भी उल्लेख किया।

डॉ. ज्योति दीपिका, नई दिल्ली ने मध्यकालीन साहित्य में विक्रमादित्य की प्रसिद्धि को भी उल्लेखित किया। साथ ही तमिल साहित्य, चोलपर्व पट्यम, नवखण्डम तथा इस्लामिक साहित्य में अलबरूनी, अबुल फजल के ग्रंथों में विक्रमादित्य उनके युग एवं तिथि उल्लेखित है। आपने जैन ग्रंथों और कालकाचार्य ग्रंथों में विक्रमादित्य की कृति का निष्पादन किया है। डॉ. पूरन सहगल, मनासा ने अपने शोध पत्र में जानकारी से अवगत कराया कि लोक की प्रामाणिकता तो सर्वमान्य है। वह सर्वत्र व्याप्त सर्वशक्तिमान निर्गुण- सगुण है। लोक साहित्य उसकी व्यापकता का गुणनायक है और भाषा उसकी प्रवक्ता है। घटना से कथा बनती है और कथा गेय होकर गाथा का रूप ग्रहण कर लेती है। कथा में महाकाव्य के बीज निहित रहते हैं। डॉ. नारायण व्यास पुराविद, भोपाल ने अपने शोधपत्र विक्रमादित्यकालीन शैलचित्रों को पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से विद्वानों एवं शोधार्थियों को पुरातात्त्विक जानकारी से परिचत करवाया। साथ ही प्राचीन काल में किस प्रकार के अस्त्र-शस्त्र तथा सैनिकों की वेश-भूषा होती थी, इस पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में देश दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों के विद्वान, इतिहासकार और संस्कृति कर्मी भाग ले रहे हैं।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक