Skip to main content

योग - देवता बनने का मार्ग

योग को हम केवल आसन-प्राणायाम के रूप में जानते हैं। हम योग के विषय में केवल इतना ही जानते हैं कि आसन एवं प्राणायाम द्वारा हम अपने शरीर एवं मन को स्वस्थ रखते हैं। वास्तव में योग इंद्रियों एवं मन पर पूर्ण नियंत्रण की विद्या है। जब तक व्यक्ति का मन अस्थिर होता है वह शांति नहीं पाता। मनुष्य अस्थिर मन की स्थिति में यह सोच ही नहीं पाता कि वह स्वस्थ है या नहीं, खुश है या नहीं, सुखी है या नहीं। अत: योग वह मार्ग है जो क्रमश: शरीर, इंद्रिय एवं मन पर नियंत्रण की ओर अग्रसर करता है।

हम सामान्य बोलचाल की भाषा में कहते हैं हम योग करते हैं वस्तुत: आप योग नहीं करते क्योंकि योग का अर्थ भगवत गीता में कार्य में कुशलता है एवं समस्त दुखों से निवृत्त हो जाता है। महर्षि पतंजलि ने मन को पूर्ण रूप से नियंत्रित करना योग कहा है। हम योग के अंग केवल आसन एवं प्राणायाम करते हैं वह भी कुशलता से नहीं करते क्योंकि यदि आप पूर्ण कुशलता से आसन एवं प्राणायाम ही करने लगेंगे तो हम सभी रोगों एवं सभी दुखों से काफी हद तक मुक्त हो जाएंगे।

योग का अर्थ हमारी जैविक शक्ति अर्थात् आत्मा का ईश्वरीय शक्ति या ब्रह्माण्ड की ऊर्जा के साथ एकत्व स्थापित कर लेना है। अर्थात् योग का परम लक्ष्य हमारी आत्मा रूपी ऊर्जा का ब्रह्माण्ड की ऊर्जा या पंचमहाभूतों के साथ मिल जाना है। आत्मा को शरीर से स्वैच्छिक रूप से पृथक् कर उसे ब्रह्माण्ड की ऊर्जा के संयुक्त करा लेना ही योग है एवं ऐसा कर पाने वाला व्यक्ति योगी है या ईश्वर है।

क्योंकि जो व्यक्ति अपनी आत्मा का ब्रह्माण्ड की ऊर्जा या पंचमहाभूतों से संयोग करा लेता है वह कुछ भी कर सकता है क्योंकि उसका पंचमहाभूतों पर नियंत्रण है अत: वह कभी पर्वत समान विशाल या भारी हो सकता है कभी आकाश के समान अनंत, कभी समुद्र को सुखा सकता है और कभी रेगिस्तान को समुद्र बना सकता है। पंचमहाभूतों पर नियंत्रण होने से योगी किसी भी कार्य में सक्षम हो जाता है क्योंकि इस ब्रह्माण्ड की समस्त वस्तुएँ या प्राणी पंचमहाभूतों से ही निर्मित है।

इस प्रकार योग देवता बनने का मार्ग है और योग केवल आसन-प्राणायाम नहीं है। योग के 8 अंग हैं यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, घारणा, ध्यान, समाधि। योग के इन 8 अंगों को क्रमश: पालन करते हुए समाधि तत्व की प्राप्ति होती है और मनुष्य देवता भी बन सकता है। यह एक अत्यन्त कठिन मार्ग है।

यम के द्वारा मानसिक शुद्धि की जाती है जैसे हिंसा न करना, हमेशा सच बोलना, चोरी न करना, मैथुन पर पूर्ण नियंत्रण एवं किसी भी वस्तु का संचय अनावश्यक रूप से न करना।

नियम के द्वारा शारीरिक एवं मानसिक शुद्धि की जाती है जैसे शरीर एवं मन को स्वच्छ रखना, हमेशा संतुष्ट रहना, बुरी आदतों को छोड़ने एवं अच्छी आदतों को अपनाने का कठिन परिश्रम अर्थात् तप करना, महापुरुषों के ग्रंथों को पढ़ना एवं उनका अनुसरण करना एवं स्वयं को पूर्ण रूप से ईश्वर को समर्पित कर देना।

यम एवं नियम के पालन के द्वारा आसनें के अभ्यास से शरीर दृढ़ हो जाता है। अर्थात् शरीर अत्यंत बलवान हो जाता है ऐसा व्यक्ति आसानी से रोगों से ग्रसित नहीं होता।

आसन के बाद प्राणायाम के अभ्यास से शरीर एवं मन में अत्यंत हल्कापन अनुभव होता है। प्राणायाम से व्यक्ति अत्यंत ज्ञानी हो जाता है। प्राणायाम से मन में धारणा की योग्यता भी आ जाती है अर्थात् मन कहीं भी आसानी से स्थिर किया जा सकता है।

प्राणायाम के बाद प्रत्याहार से मनुष्य अत्यंत धैर्ययुक्त हो जाता है। इंद्रियां पर नियंत्रण करना प्रत्याहार है। इंद्रियों पर नियंत्रण हो जाने से मन भी नियंत्रित होने लगता है।

यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार आदि में अभ्यस्त हो जाने पर योग के 6 अंग धारणा का अभ्यास किया जाता है। किसी भी सुखपूर्वक स्थिति में बैठकर अपने शरीर के भीतर किसी अंग या बाह्य सांसारिक किसी भी वस्तु में ध्यान केन्द्रित करना धारणा कहलाता है।

धारणा के पश्चात् ध्यान का अभ्यास किया जाता है। ध्यान हेतु किसी भी सुखपूर्वक स्थिति में बैठकर मन को किसी भी एक जगह स्थिर किया जाता है। मन का किसी एक वस्तु पर काफी देर तक स्थिर हो जाना ध्यान है।

ध्यान के पश्चात योग की अंतिम अवस्था समाधि होती है। जब योगी निरंतर अभ्यास से यम से लेकर ध्यान तक की अवस्था में अत्यन्त निपुण हो जाता है तब समाधि का अभ्यास किया जाता है। जब ध्यान में केवल ध्येय की ही प्रतीति होती है और मन का स्वरूप शून्य हो जाता है अर्थात् योगी को ध्येय से भिन्न स्वयं का ज्ञान भी नहीं रह जाता, तब वही ध्यान समाधि हो जाता है। समाधि की स्थिति में ही योगी अपनी आत्मा को शरीर से पृथक करने की क्षमतायुक्त हो जाता है।

इस प्रकार योग के 8 अंगों के द्वारा शरीर एवं मन पर पूर्ण नियंत्रण कर अंतत: अपनी आत्मा को शरीर से पृथक करना योग है।

अत: योग वास्तव में देवता बनने का मार्ग है। क्या वह मनुष्य जो सदैव झूठ नहीं बोलता, चोरी नहीं करता, हिंसा नहीं करता, शरीर एवं मन से पूर्ण शुद्ध हो, किसी भी वस्तु का संचय नहीं करता चाहे वह वस्तु उसके उपयोग की भी हो, कठोर तप करता है, बलवान शरीर युक्त हो, ज्ञानी हो, धैर्यशील हो साथ ही जहाँ भी ध्यान केन्द्रित करता हो वहाँ का ज्ञान कर लेता है अर्थात् देश, विदेश कहीं की बातें भी जान लेता है। आपके मन की बातें जान लेता है। किसी की मदद हेतु आत्मा को पृथक कर किसी भी शरीर में प्रविष्ट कराने की क्षमता युक्त हो।

अत: योग केवल आसन-प्राणायाम नहीं वास्तव में सुखों की उच्चतम अवस्था प्राप्ति का मार्ग या देवता बनने का मार्ग है।

डॉ. निरंजन सराफ

असिस्टेंट प्रोफेसर

शासकीय धन्वन्तरि आयुर्वेद महाविद्यालय, उज्जैन (म.प्र.)

मो. 9479852794

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक