Skip to main content

भारतीय लोक संस्कृति कभी न समाप्त होने वाली संस्कृति है

विक्रम विश्वविद्यालय में लोक की अवधारणा और स्वरूप पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न 

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन की हिंदी अध्ययनशाला, पत्रकारिता एवं जनसंचार अध्ययनशाला तथा गांधी अध्ययन केंद्र के संयुक्त तत्वावधान में लोक की अवधारणा और स्वरूप पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जबलपुर के प्रो रंगनाथ शुक्ल थे। अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने की। इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय के कला संकायाध्यक्ष प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा, प्रो गीता नायक, प्रो प्रेमलता चुटैल, डॉ जगदीश चंद्र शर्मा, डॉ प्रतिभा सक्सेना,  इंदौर आदि ने अपने विचार प्रस्तुत किए।

मुख्य अतिथि प्रो रंगनाथ शुक्ल, जबलपुर ने अपने व्याख्यान में कहा कि भारतीय लोक संस्कृति कभी न समाप्त होने वाली संस्कृति है। भारत की लोक संस्कृति  अनेकता में एकता को प्रत्यक्ष  करती है। वर्तमान समय में लोक साहित्य और संस्कृति की व्यापकता को देखने की आवश्यकता है। भारतीय लोक संस्कृति में सामाजिकता और आध्यात्मिकता के प्रति सजगता दिखाई देती है।

अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने कहा कि युवा पीढ़ी भारतीय लोक संस्कृति के विभिन्न पक्षों से जुड़े शोध कार्य के लिए आगे आएँ। आधुनिकता की चकाचौंध के कारण हम अपनी लोक संस्कृति से विमुख होते जा रहे हैं। विवाह जैसा महत्वपूर्ण संस्कार शोरगुल में डूब रहा है। हमारे लोक संगीत में अपार क्षमता है। शैक्षिक समुदाय और साहित्यकारों का दायित्व है कि वे लोक संस्कृति के महत्वपूर्ण पक्षों को नई पीढ़ी में हस्तांतरित करने के लिए प्रयास करें। वर्तमान लोक संगीत के दस्तावेजीकरण के लिए भी पर्याप्त प्रयास आवश्यक हैं। 

कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि लोक की संज्ञा अत्यंत व्यापक और असीम है। लोक एवं जनजातीय साहित्य और संस्कृति जीवन की अक्षय निधि के स्रोत हैं। इनकी धारा कभी सूखती नहीं है। लोकाभिव्यक्तियाँ जीवन की जड़ता और एकरसता को तोड़ती हैं। भारतीय लोक का आशय पश्चिम के फोक की तर्ज पर असंस्कृत, अविकसित या रूढ़िग्रस्त जनसमूह नहीं है, उसका अपना वैशिष्ट्य है। भारत में लोक परम्परा कथित विकसित सभ्यताओं की तरह भूली हुई विरासत या पुरातन नहीं है, वह सतत वर्तमान है। हमारे जीवन का हिस्सा है। आज लोक-साहित्य और संस्कृति को सामाजिक और ऐतिहासिक विज्ञान के रूप में देखने की आवश्यकता है।

कार्यक्रम में प्रो रंगनाथ शुक्ल,  जबलपुर को अतिथियों द्वारा साहित्य शॉल एवं पुष्प अर्पित कर उनका सारस्वत सम्मान किया गया। इस अवसर पर डॉ प्रतिष्ठा शर्मा, डॉ विश्वजीतसिंह परमार, डॉ अजय शर्मा, श्रीमती हीना तिवारी आदि शिक्षक, शोधार्थी एवं विद्यार्थी बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

कार्यक्रम का संचालन डॉ जगदीश चंद्र शर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन डॉ प्रतिभा सक्सेना, इंदौर ने किया।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य