Skip to main content

ब्रह्माकुमारी में आजादी के अमृतमहोत्सव के तहत् “स्वर्णीम भारत की और बढ़ते नन्ने कदम” 7 दिवसीय बाल व्यक्तित्व विकास शिविर का आयोजन सम्पन्न

उज्जैन। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के वेदनगर स्थित शिवदर्शन धाम सेवाकेन्द्र के प्रागण में आजादी के अमृतमहोत्सव के तहत् “स्वर्णीम भारत की और बढ़ते नन्ने कदम” 7 दिवसीय बाल व्यक्तित्व विकास शिविर का आयोजन किया गया इसका उद्घाटन बड़े ही धुम धाम से किया गया।

प्रतिदिन बच्चों को एक्ससाइज एवं प्रार्थना कराया गया.....

2 दिन:- बच्चों को ट्रैफिक पुलिस द्वारा ट्राफिक से संबंधित छोटे-छोटे नियमों से अवगत कराया गया ।

1. रेड लाइट में रूकना चाहिए, 

2. पैद यात्रीयो को फुटपाथ पर चलना चाहिए

3. 18 साल के बाद वाहन चलाना चाहिए

साथ ही साथ ब्र. कु. मंजू दीदी द्वारा आध्यात्मिक विकास हेतू स्व की पहचान इस शरीर रूपी गाड़ी को चलाने वाले हम एक चैतन्य शक्ति आत्मा है। जो हमारे मस्तक के बीच भ्रकूटी में निवास करती है आदी आदी।

3 दिन:- डेंटिस्ट द्वारा दातो की देख रेख एवं उनकी सुरक्षा कैसे कि जाए इस विषय पर डॉ. प्रद्म, डॉ. अभीलाष मलीक ने बताया की जैसे-हमें सुबह और रात्री सोने से पहले ब्रश करना चाहिए।

2. कुछ खाने के बाद कुला जरूर करना चाहिए। जिससे हमारे दाँतो में चिपके भोज्य पदार्थ निकल जाते हैं और दांत मजबूत बन जाते है।

3. मीठा कम से कम खाना चाहिए जिससे केविटिज की समस्या नहीं होती। तथा 

ब्र. कु. मीना दीदी द्वारा राजयोग की शिक्षा देते हुए कहा की जैसे हमारे शरीर के पिता होते है। वैसे हम सभी आत्माओ के पिता एक निराकार परमपिता परमात्मा शिव है जो परमधाम में रहते है।

4. दिनः- बच्चो को डायटिशीयन मेघा चन्देल द्वारा हेल्थ डाईट सम्बन्धित जानकारी दी गई जिसमें बताया गया की बच्चों को सात रंग के फल व सब्जीयों का सेवन करना चाहिए बाहरी फास्ट फुड नहीं खाने चाहिए और साथ ही साथ  बताया की हमारे उम्र के हिसाब से वेट और टाईट कितना होना चाहिए इसके साथ ब्र. कु. लक्ष्मी दिदि ने गुड मैन्सं विषय पर बच्चों को समझाते हुए कहा कि छोटी छोटी अच्छी आदतो से ही हम महान बनते है।

बडो की बात माननी चाहिए आज्ञाकारीता होना चाहिए।

सुबह जल्दी उठ कर प्रार्थना करना चाहिए

सबकी मदद करनी चाहिए आदी।

5. दिनः- बच्चो क मानसीक एंव बौद्धिक विकास के लिए अभिषेक गुप्ता भाई से बच्चों को बड़े ही सरल तरिके से एक्ससाइज करवाया जैसे गणेश आसन, स्पाइनल पिन्लीनीग, प्रिरीदीग एक्सशाइज और बच्चों को पढ़ने का सही तरिका भी बताया।

6. दिनः- बच्चो के मेमोरी पॉवर बढाने के लिए क्यूज कॉमपिटिशन का आयोजन किया गया सभी बच्चो को चार ग्रुप में बाटॉ गया और G/S & G/K  तथा जो क्लास  हुए थे उनमें से प्रश्न पूछा गया। इसके बाद उनकी फ्यूजीकर स्ड्रेन्थ के लिए बच्चों को स्पोटस कॉमपिटिशन भी रखा जैसे, नीबू रेस, बोरी रेस, रूमाल झपटा आदि।

7. दिनः- बच्चों को डांस और ड्रामा कल्चर एक्ट्रीविटीज का भी कॉमपिटिशन कराया गया जो बच्चों ने अलग-अलग थीम पर डांस और ड्रामा प्रस्तुत किया तथा उसके साथ-साथ स्पीच, दोहा, श्लौक, कविता का भी कॉमपीटीशन हुआ।

इस शिविर में 8 से 15 वर्ष के लगभग 90 बच्चों ने भाग लिया, जिसका समापन रविवार 25/5/22 को हुआ, समापन समारोह में मुख्य अतिथी बहन अर्चना वनसोड जी, भ्रता ललीत श्रीमाल जी (दैनिक मध्यांचल न्यूज के ऐडिटर व पव लिशर संस्कार पब्लिक स्कुल के प्रेसीडेंट) एवं उज्जैन संभाग की क्षेत्रिय निदेशिका राजयोगीनी ब्र. कु. उषा दीदी जी, ब्र. कु. मजू दीदी  ने मिलकर नन्ने नन्ने फुलो का उमंग-उत्साह बढ़ाते हुए पुरूस्कार किया। 

अन्तिम दिवस बच्चों के पालकगण को बुलाया गया जिनके आगे बच्चों ने अपनी अपनी प्रस्तुती दी।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य