Skip to main content

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने मध्य प्रदेश के भोपाल में वन समिति सम्मेलन को संबोधित किया

  • जब 2014 में देश में श्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार बनी थी तब उन्होंने कहा था कि हमारी सरकार ग़रीबों, आदिवासियों, दलितों और पिछड़ों की सरकार है और ग़रीब कल्याण इसका मुख्य उद्देश्य है
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की विचारधारा है कि ग़रीब से ग़रीब व्यक्ति देश में अधिकार के साथ जिए, उसे दो वक़्त की रोटी और रोज़ग़ार दोनों मिलें, वो स्वप्न आज साकार हो रहा है
  • श्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार ने पहले ही दिन किए गए वादों को पूरा किया है
  • पहली बार देश में कोई राज्य सरकार आदिवासी भाईयों को जंगलों का मालिक़ बनाने का काम कर रही है, पहली बार जंगलों से जो भी कमाई होती है, उसका 20% वन समिति को सौंप कर आपको इसका सीधा मालिक़ बनाने का फ़ैसला किया गया है
  • मध्य प्रदेश में 21% अनुसूचित जनजाति आबादी रहती है और जब तक इस आबादी, विशेषकर आदिवासी भाई-बहनों का कल्याण नहीं होता, मध्य प्रदेश का विकास नहीं हो सकता
  • शिवराज जी ने मध्य प्रदेश को बिमारू से विकसित राज्य बनाया, हर घर में बिजली, पानी पहुंचाया, और, अब आदिवासियों को समृद्ध बनाने की योजना लाए हैं
  • मोदी जी ने 2022 के अंत से पहले हर व्यक्ति को अपना घर देने का संकल्प किया है, हर घर में बिजली पहुंचाने और शौचालय बनाने का काम समाप्त हो गया है
  • 13 करोड़ ग़रीबों के घरों में फ्री गैस सिलिंडर पहुंचाने का काम नरेन्द्र मोदी सरकार ने किया है, हर घर में नल से जल पहुंचाने का काम भी शुरू हो चुका है जो 2024 से पहले समाप्त हो जाएगा
  • देश के 80 करोड़ लोगों को पांच लाख रूपए तक का सभी आरोग्य का ख़र्चा मोदी सरकार उठा रही है, कोरोना महामारी के दो साल तक मोदी सरकार ने प्रति व्यक्ति पांच किलो अनाज उनके घर पहुंचाकर उनका चूल्हा जलता रखने का काम किया
  • मध्य प्रदेश में शिवराज जी के नेतृत्व में और केन्द्र में मोदी जी के मार्गदर्शन के कारण आज बहुत बड़ा परिवर्तन आया है
  • वर्ष 2021- 22 में 19.7% विकास दर हासिल करना बहुत बड़ी बात है और पूंजीगत व्यय 31,000 करोड़ रूपए था, इसे बढ़ाकर 40,000 करोड रूपए करने का काम मध्यप्रदेश सरकार ने किया है
  • भारत सरकार ने आदिवासियों के वार्षिक बजट में, जो पिछली सरकार के कार्यकाल में 4295 करोड़ रूपए था, बढ़ोतरी कर इसे 7524 करोड़ रूपए किया है
  • केंद्र में आदिवासी कल्याण के लिए पिछली सरकार सिर्फ 21000 करोड़ रूपए खर्च करती थी, लेकिन मोदी सरकार ने इसे बढ़ाकर 78000 करोड़ रूपए कर दिया है

भोपाल । केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने आज 22 अप्रैल 2022 को मध्य प्रदेश के भोपाल में वन समिति सम्मेलन को संबोधित किया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान,केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिर्रादित्य सिंधिया,श्री प्रहलाद सिंह पटेल,श्री एल मुरुगन और श्री फग्गन सिंह कुलस्ते  सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।


इस अवसर पर केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि जब 2014 में देश में श्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार बनी थी तब उन्होंने कहा था कि हमारी सरकार ग़रीबों,आदिवासियों,दलितों और पिछड़ों की सरकार है और ग़रीब कल्याण इसका मुख्य उद्देश्य है। जब मैं जबलपुर आया था तब शिवराज जी ने आदिवासी समाज के लिए 17 घोषणाएं की थी, आज मुझे हर्ष है कि सभी 17 योजनाओं पर काम शुरू हो गया है। पहली बार देश में कोई राज्य सरकार आदिवासी भाईयों को जंगलों का मालिक़ बनाने का काम कर रही है। पहली बार जंगलों से जो भी कमाई होती है, उसका 20% वन समिति के हाथ में सौंप कर आपको इसका सीधा मालिक़ बनाने का फ़ैसला किया है। मध्य प्रदेश सबसे बड़ी आदिवासी आबाद़ी वाला प्रांत है और 21% अनुसूचित जनजाति आबादी यहां रहती है, जब तक यहां की 21% आबादी, विशेषकर आदिवासी भाई-बहनों का कल्याण नहीं होता, मध्य प्रदेश का विकास नहीं हो सकता। शिवराज जी ने मध्य प्रदेश को बिमारू राज्य से विकसित राज्य बनाया, हर घर में बिजली व  पानी पहुंचाया और अब वे आदिवासियों को समृद्ध बनाने की योजना लाए हैं।
 
  
श्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की विचारधारा है कि ग़रीब से ग़रीब व्यक्ति देश में अधिकार के साथ जिए,उसे दो वक़्त की रोटी और रोज़ग़ार दोनों मिले, वो स्वप्न आज साकार हो रहा है। वन समितियों में काष्ठ और बांस के लाभांश की 55 करोड़ रूपए की राशि आज वितरित की गई। 12 लाख से ज़्यादा तेंदु पत्ता संग्रहकों को 68 करोड़ रूपये सीधे उनके बैंक खातों में भेजने का काम किया गया। 925 में से 827 वन ग्राम को राजस्व ग्राम में परिवर्तित किया गया है और ये आपके जीवन में बहुत बड़ा परिवर्तन लाने वाला फ़ैसला है। आज ये 827 वन ग्राम स्वाभिमान के साथ कह सकते हैं कि राज्य में हमारा भी अधिकार है।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि 15600 से ज़्यादा ग्राम सभाओं में वन समितियां गठित की गई हैं,4800 वन समितियों में 2000 करोड़ रूपए बांटे गए हैं,5000 वन समितियों का माइक्रो-डेवलपमेंट प्लान भी बन चुका है,2600 वन समितियों का प्लान लागू हो गया है और साढ़े सात लाख हेक्टेयर वन क्षेत्र को विकास के काम में लगाने का फ़ैसला शिवराज सरकार ने किया है।

  

श्री अमित शाह ने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार ने पहले ही दिन किए गए वादों को पूरा किया है। इस देश में कोई व्यक्ति घर के बिना ना रह जाए,इसके लिए मोदी जी ने 2022 के अंत से पहले हर व्यक्ति को अपना घर देने का संकल्प किया है। हर घर में बिजली पहुंचाने और शौचालय बनाने का काम समाप्त हो गया है। 13 करोड़ ग़रीबों के घरों में फ्री गैस सिलिंडर पहुंचाने का काम नरेन्द्र मोदी सरकार ने किया है। हर घर में नल से जल पहुंचाने का काम भी शुरू हो चुका है जो 2024 से पहले समाप्त हो जाएगा। देश के 80 करोड़ लोगों को पांच लाख रूपए तक का सभी आरोग्य का ख़र्चा मोदी सरकार उठा रही है। कोरोना महामारी के दो साल तक मोदी सरकार ने प्रति व्यक्ति पांच किलो अनाज उनके घर में पहुंचाकर उनके घर का चूल्हा जलता रखने का काम किया।

 
केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि आज वन अधिकार पट्टों का वितरण भी हुआ है। मुख्यमंत्री राशन आपके ग्राम योजना भी शुरू हो चुकी है, आहार अनुदान योजना भी शिवराज जी ने लागू कर दी है, हर घर के मुखिया के खाते में 1000 रूपए सीधा पहुंचता है और वनों में रहने वाले आदिवासी भाइयों के लिए बहुत बड़ा परिवर्तनकारी कार्यक्रम आज शुरू किया गया है। मध्य प्रदेश में शिवराज जी के नेतृत्व में और केन्द्र में मोदी जी के मार्गदर्शन के कारण आज बहुत बड़ा परिवर्तन आया है। वर्ष 2021- 22 में 19.7% विकास दर हासिल करना बहुत बड़ी बात है और पूंजीगत व्यय 31 हजार करोड़ रूपए था,इसे बढ़ाकर 40,000 करोड रूपए तक करने का काम मध्यप्रदेश सरकार ने किया है। 10 वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद में 200% की वृद्धि मध्य प्रदेश ने की है और भारत सरकार ने भी लगभग 11,000 करोड रुपए दिए हैं।

 

श्री अमित शाह ने कहा कि भारत सरकार ने आदिवासियों के वार्षिक बजट में,जो पिछली सरकार के कार्यकाल में 4295 करोड़ रूपए था,बढ़ोतरी कर इसे 7524 करोड़ रूपए किया है। केंद्र में आदिवासी कल्याण के लिए पिछली सरकार सिर्फ 21,000 करोड़ रूपए खर्च करती थी, लेकिन मोदी सरकार ने इसे बढ़ाकर 78,000 करोड़ रूपए कर दिया है। लगभग 1418 करोड़ रुपये एकलव्य स्कूलों के लिए रखे गए हैं और डिस्ट्रिक्ट मिनरल फ़ंड के माध्यम से देशभर में 51,000 करोड रूपए आदिवासी कल्याण के लिए देने का काम नरेन्द्र मोदी सरकार ने किया है। उन्होंने कहा कि आज का दिन न केवल मध्य प्रदेश बल्कि पूरे देश के आदिवासी कल्याण के इतिहास में एक ऐतिहासिक दिन है क्योंकि आज आदिवासी को जंगल का मालिक बनाने का काम किया गया है।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह