Skip to main content

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने मध्य प्रदेश के भोपाल में 48वीं अखिल भारतीय पुलिस विज्ञान कांग्रेस के उद्घाटन सत्र को संबोधित किया

  • मोदी सरकार ने कश्मीर में आतंकवाद, वामपंथी उग्रवाद और पूर्वोत्तर में ड्रग्स व हथियारबंद समूहों जैसी तीन समस्याओं के स्थाई समाधान की ओर बहुत बड़ी सफलता हासिल की है 
  • कई हथियारबंद समूह हथियार डालकर मुख्यधारा में शामिल हुए हैं,धारा 370 ख़त्म होने के बाद कश्मीर में नया उत्साह,उमंग और विकास के एक ऩए युग की शुरूआत हुई
  • ये परिवर्तन इसीलिए आया है कि समस्या का विश्लेषण और उसे समझ कर, इसके उपायों की गहन चर्चा कर एक रणनीति के आधार पर काम हुआ है
  • सभी पुलिस विभागों में 10 साल की पुलिस रणनीति और इसकी सालाना समीक्षा की प्रथा को इंस्टीट्यूश्नलाइज़ करना चाहिए
  • ये बहुत ज़रूरी है क्योंकि अब इस प्रकार के अपराध होने लगे हैं जिनसे पुलिस के मॉडर्नाइज़ेशन, ट्रेनिंग, राज्य पुलिस के बीच समन्वय, राज्य के बाहर पुलिस के बीच समन्वय और तकनीक को आत्मसात किए बिना लड़ पाना संभव नहीं है
  •  देशभर की पुलिस को एकवाक्यता और एक-दूसरे के साथ सामंजस्य से काम करना होगा
  • “डाटा नया विज्ञान है और बिग डाटा में सभी समस्याओं का समाधान है” इस वाक्य को देशभर की पुलिस ने आत्मसात करना चाहिए
  • पुलिस अपराधी से दो क़दम आगे रहे और इसके लिए पुलिस को भी आधुनिक, टेक-सेवी बनना होगा
  • मोदी सरकार में आतंकवाद पर हमारी सुरक्षा ऐजेंसियों का कमांडिग वर्चस्व दिखाई देता है
  • प्रोसेस और परफेक्शन सफलता के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं मगर सफलता केवल पैशन से ही आ सकती है और इस जज्बे को पुलिस बल में नीचे कांस्टेबल तक निर्माण करना चाहिए
  • क़ानून और व्यवस्था राज्य का विषय है, इसीलिए पुलिस राज्य की चुनी हुई सरकार के निर्देशन में चलती है, ऐसे में बहुत बड़ी चुनौती एकसमान रिस्पॉंस है
  • अगर राज्य की पुलिस आइसोलेशन में काम करती है तो इन सब चुनौतियों का हम ठीक से सामना नहीं कर पाएंगे
  • अखिल भारतीय पुलिस विज्ञान कांग्रेस और डीजी कांफ्रेंस जैसी बैठकों और व्यवस्था के माध्यम से राज्य यहां मिलकर अपने क्षेत्र विशेष की समस्याओं की चर्चा कर एकसमान नीति बना सकते हैं
  • आज विश्व में भारत एक बड़ी शक्ति के रूप में उभर रहा है, आज हमारे पास Democracy, Demographic Dividend, Demand, & Decisiveness और भारत की Destiny को बदलने वाला हमारा नेता भी है
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने पुलिस टेक्नोलॉजी मिशन की घोषणा की है, गृह मंत्रालय ने इसका ख़ाका बना लिया है जिसे हम BPR&D के ज़रिए राज्यों की पुलिस को भी सुझाव के लिए भेजेंगे, इसके माध्यम से देशभर की पुलिस एक ही प्रकार के उपकरणों और तकनीक से सुसज्जित हो सकेगी
  • पुलिस विज्ञान के दो पहलू हैं - साइंस फ़ॉर पुलिस और साइंस ऑफ़ पुलिस, इन दोनों पर विचार करने से ही हम देश के सामने खड़ी चुनौतियों का सामना कर पाएंगे
  • साइंस ऑफ पुलिस के लिए हमें  मेडिकल साइंस, फॉरेंसिक साइंस, मैनेजमेंट साइंस, आर्म साइंस और कम्युनिकेशन साइंस के उपयोग को आगे बढ़ाना होगा
  • अंग्रेजों के जमाने की पुलिसिंग का युग अब समाप्त हो गया है, अब नॉलेज- बेस्ड, एविडेंस- बेस्ड और तर्क के आधार पर पुलिसिंग करनी  पड़ेगी और हमें इसमें पुलिस के साइंस को भी बदलना पड़ेगा 
भोपाल । केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने आज 22 अप्रैल 2022 को मध्य प्रदेश के भोपाल में 48वीं अखिल भारतीय पुलिस विज्ञान कांग्रेस के उद्घाटन सत्र को संबोधित किया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, गृह राज्यमंत्री श्री अजय कुमार मिश्रा और श्री निशिथ प्रमाणिक, BPR&D के महानिदेशक श्री बालाजी श्रीवास्तव सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।


अपने संबोधन में केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि इस अखिल भारतीय पुलिस विज्ञान कांग्रेस का पूरे देश की पुलिसिंग में दो दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण योगदान है। एक समान चुनौतियों से निपटने के लिए देशभर की पुलिस के बीच समन्वय और दूसरा अपराधियों से दो कदम आगे बने रहने के लिए तकनीक का उपयोग। हमारे संविधान में पुलिस को राज्य का विषय़ माना गया है और संविधान बनने से लेकर आज तक देश की पुलिस के सामने कई बड़ी चुनौतियां आई हैं क्योंकि अपराध की दुनिया में नए-नए आयाम भी जुड़ गए हैं। इसमें कुछ ऐसी चीज़ें सामने आई हैं जिसमें देशभर की पुलिस को एकवाक्यता और एक-दूसरे के साथ सामंजस्य से काम करना होगा अन्यथा इन चुनौतियों का सामना संभव नहीं है। दूसरी ओर, चूंकि क़ानून और व्यवस्था राज्य का विषय है, इसीलिए पुलिस राज्य की चुनी हुई सरकार के निर्देशन में चलती है। ऐसे में बहुत बड़ी चुनौती एकसमान रिस्पॉंस की है। उदाहरण के लिए उत्तरपूर्व के आठ राज्यों में अलग-अलग सरकारें हैं और अलग-अलग पुलिस है, लेकिन उनके सामने एक समान चुनौती हथियारबंद समूहों की है। वामपंथी उग्रवाद वाले क्षेत्र में अलग-अलग राज्य हैं लेकिन चुनौती एकसमान है। ऐसी चुनौतियों का सामना करने के लिए समन्वय, नीति और एकवाक्यता की ज़रूरत है, अगर राज्य की पुलिस आइसोलेशन में काम करती है तो इन सब चुनौतियों का हम ठीक से सामना नहीं कर पाएंगे। संविधान को बदलने की ज़रूरत नहीं है लेकिन अखिल भारतीय पुलिस विज्ञान कांग्रेस और डीजी कांफ्रेंस जैसी बैठकों और व्यवस्था के माध्यम से कुछ राज्य मिलकर यहां अपने क्षेत्र विशेष की समस्याओं की चर्चा करके एकसमान नीति बना सकते हैं। उन्होने कहा कि देशभर की पुलिस के सामने ड्रग्स, हवाला ट्रांस्जेक्शन और  साइबर फ्रॉड जैसी कुछ एकसमान चुनौतियां हैं। इनके ख़िलाफ़ विचार-विमर्श, साझा रणनीति और एकवाक्यता के साथ काम करने के लिए पुलिस विज्ञान कांग्रेस एक आदर्श फ़ोरम है। BPR&D के तत्वाधान में होने वाली ऐसी बैठक इन कमियों को अच्छे तरीक़े से दूरकर एकसमान चुनौतियों का सामना करने के लिए देशभर की पुलिस को एक प्लेटफॉर्म उपलब्ध करवाती है। गृह मंत्री ने BPR&D से आग्रह किया कि वह अपने कार्यक्रमों और सत्रों की रचना, समान चुनौतियों का सामना करने के लिए देशभर की पुलिस की एक रणनीति को ध्यान में रखकर बनाए।

 

श्री अमित शाह ने कहा कि अपराधी दुनियाभर की नई तकनीक से लैस होते जा रहे हैं और ये बहुत ज़रूरी है कि पुलिस अपराधी से दो क़दम आगे रहे और इसके लिए पुलिस को भी आधुनिक, टेक-सेवी बनना होगा और तकनीक के उपयोग का बीट तक परकोलेशन करना होगा। जब तक कॉंस्टेबल और हेड कॉंस्टेबल तक तकनीक का उपयोग नहीं पहुंचता तब तक हम नए प्रकार के अपराधों के ख़िलाफ़ नहीं लड़ सकते। इसके लिए भी BPR&D ने एक प्लेटफ़ॉर्म उपलब्ध कराया है। इन दोनों उद्देश्यों से पुलिस कांग्रेस का महत्व भी है और इसके बिना हम देश की आंतरिक सुरक्षा को सुनिश्चित नहीं कर सकते।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत सरकार ने पिछले 8 साल में कश्मीर,वामपंथी उग्रवाद और पूर्वोत्तर में नारकोटिक्स और हथियारबंद समूहों जैसी तीन समस्याएँ जो कई सालों से आंतरिक सुरक्षा के लिए ख़तरा बनी हुई थीं उन्हे बहुत वैज्ञानिक तरीक़े से अड्रेस करते हुए इनके समाधान में बहुत बड़ी सफलता हासिल की है। कई हथियारबंद समूह हथियार डालकर मुख्यधारा में शामिल हुए हैं,धारा 370 ख़त्म होने के बाद कश्मीर में ऩए उत्साह,उमंग और विकास के एक ऩए युग की शुरूआत हुई और आज आतंकवाद पर हमारी सुरक्षा ऐजेंसियों का कमांडिग वर्चस्व दिखाई देता है, साथ ही वामपंथी उग्रवाद भी समाप्त होने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। ये परिवर्तन इसीलिए आया है कि समस्या का विश्लेषण और उसे समझ कर, इसके उपायों की गहन चर्चा करके एक रणनीति के आधार पर काम हुआ है। उन्होने कहा कि सभी पुलिस विभागों में 10 साल की पुलिस रणनीति और इसकी सालाना समीक्षा की प्रथा को इंस्टीट्यूश्नलाइज़ करना चाहिए। ये बहुत ज़रूरी है क्योंकि अब इस प्रकार के अपराध होने लगे हैं जिनसे पुलिस के मॉडर्नाइज़ेशन, ट्रेनिंग, राज्य में पुलिस के बीच समन्वय, राज्य के बाहर पुलिस के बीच समन्वय और तकनीक को आत्मसात किए बिना लड़ पाना संभव नहीं है। उन्होने कहा कि देशभर की पुलिस को “डाटा नया विज्ञान है और बिग डाटा में सभी समस्याओं का समाधान है”  वाक्य को आत्मसात करना चाहिए। श्री शाह ने कहा कि मोदी जी ने इसके लिए पुलिस टेक्नोलॉजी मिशन की घोषणा की है, गृह मंत्रालय ने इसका एक ख़ाका बना लिया है जिसे हम BPR&D के ज़रिए राज्यों की पुलिस को भी सुझाव के लिए भेजेंगे। इसके माध्यम से देशभर की पुलिस एक ही प्रकार के उपकरणों और तकनीक से सुसज्जित हो सकेगी।


श्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत सरकार ने बहुत सारी सुविधाएं उपलब्ध कराई हैं,लेकिन उनका बहुत ज़्यादा उपयोग नहीं हो रहा है। हमें डेटा इकट्ठा करने से संतोष नहीं होना चाहिए। गृह मंत्री ने कहा कि पुलिस पर कभी नो एक्शन और कभी एक्स्ट्रीम एक्शन का आरोप लगता है, लेकिन हमें स्वाभाविक प्रतिक्रिया की आदत डालनी चाहिए और वह तभी हो सकता है जब व्यक्ति सिस्टम पर निर्भर हो ना कि सिस्टम व्यक्ति पर। उन्होंने कहा कि पुलिस विज्ञान के दो पहलू हैं - साइंस फ़ॉर पुलिस और साइंस ऑफ़ पुलिस। इन दोनों पर विचार करने से ही हम देश के सामने खड़ी चुनौतियों का सामना कर पाएंगे। श्री शाह ने कहा कि आज विश्व में भारत एक बड़ी शक्ति के रूप में उभर रहा है, आज हमारे पास Democracy, Demographic Dividend, Demand, & Decisiveness और भारत की Destiny को बदलने वाला हमारा नेता भी है। उन्होंने कहा कि अभी हमारे 16 हज़ार से ज़्यादा पुलिस स्टेशन ऑनलाइन हो चुके हैं। सीसीटीएनएस (CCTNS) द्वारा नौ सेवाओं को राज्यस्तर पर उपलब्ध कराया गया है और अब इन्हें पॉपुलर बनाना ज़रूरी है।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि सीसीटीएनएस की सभी नौ सिटीज़न सेवाओं को हर थाने तक पहुंचाने का काम देशभर की पुलिस को करना चाहिए। सभी एफ़आईआर और डेटा पर स्टडी करने के लिए आतंकवादरोधी दस्ते को सक्रिय करना चाहिए, नारकोटिक्स के मामलों में एनसीबी को डेटाबेस तैयार करने के लिए कहा गया है और इंटरओप्रेटेबल क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम में भी काफी डाटा तैयार हुआ है, साथ ही यौन अपराधियों का राष्ट्रीय डेटाबेस (एनडीएसओ) भी तैयार किया है। साइंस ऑफ पुलिस के लिए हमें मेडिकल साइंस, फॉरेंसिक साइंस, मैनेजमेंट साइंस, आर्म साइंस और कम्युनिकेशन साइंस के उपयोग को आगे बढ़ाना होगा। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार ने नेशनल फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी और रक्षा शक्ति यूनिवर्सिटी की स्थापना कर दो बड़े कदम उठाए हैं, अब तक नेशनल फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी के 7 राज्यों में एफिलिएटिड कॉलेज खुल गए हैं। सभी राज्यों के पुलिस महानिदेशकों से अनुरोध है कि वे अपने राज्य में दोनों यूनिवर्सिटी के एफिलिएटिड कॉलेज का आग्रह राज्य सरकार को करें, जिससे आपको पुलिस के क्षेत्र में एक्सपर्ट्स उपलब्ध हों। श्री शाह ने कहा कि अंग्रेजों के जमाने की पुलिसिंग का युग अब समाप्त हो गया है। अब नॉलेज- बेस्ड, एविडेंस- बेस्ड और तर्क के आधार पर पुलिसिंग करनी पड़ेगी और इसमें हमें पुलिस के साइंस को भी बदलना पड़ेगा।


श्री अमित शाह ने कहा कि BPR&D एक मॉडस ऑपरेंडी ब्यूरो बना रहा है और इसका उपयोग भी आने वाले दिनों में बहुत अच्छे से हो सकता है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने कानूनी सुधार का इनीशिएटिव भी लिया है। कैदियों की शिनाख्त के लिए नया विधेयक अभी संसद में पारित किया इसको अभी लागू करना है। मॉडल जेल अधिनियम आपको भेजा है इसको लागू करना है, एफसीआरए के कठोर अनुपालन के लिए कानून बनाए गए हैं। हम सीआरपीसी, आईपीसी और एविडेंस एक्ट में भी सुधार ला रहे हैं। नारकोटिक्स की कोऑर्डिनेशन बैठक का जिम्मा राज्यों के पुलिस मुखियाओं को दिया गया है। हैकाथॉन आयोजित कर समस्याओं के समाधान के लिए भी प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रोसेस और परफेक्शन सफलता के लिए बहुत महत्वपूर्ण है मगर सफलता केवल पैशन से ही आ सकती है। हमारा दायित्व पैशन का जज्बा पुलिस बल में नीचे तक ले जाने का है।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि सदी की सबसे भीषण कोरोना महामारी का सामना देश और दुनिया ने किया है। दुनियाभर में लाखों लोगों की मृत्यु हुई और कोरोना के समय देश में लगभग 4 लाख से अधिक पुलिस और सीएपीएफ कर्मी संक्रमित हुए, 2700 से ज़्यादा जवानों की मृत्यु भी हुई। ऐसे समय देश की जनता के सामने पुलिस का मानवीय चेहरा आया और आपदा के समय पुलिस क्या कर सकती है सभी बलों ने उसके एक उत्कृष्ट और सराहनीय उदाहरण का प्रदर्शन किया। मैं ड्यूटी निभाते हुए प्रथम पंक्ति में महामारी का सामना करते हुए अपने प्राण गंवाने वाले 2712 जवानों को विनम्र श्रद्धांजलि देना चाहता हूँ।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह