Skip to main content

भारत के राष्ट्रीय कैलेंडर पर द्विदिवसीय संगोष्ठी और प्रदर्शनी का आयोजन वैशाख 2 और 3, 1944 (22-23 अप्रैल, 2022) को उज्जैन और डोंगला (कर्क रेखा पर एक जगह) में होगा

आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर होगा भारत के राष्ट्रीय कैलेंडर पर मंथन

उज्जैन । 'भारतीय राष्ट्रीय कैलेंडर', भारत की पहचान की एक वैज्ञानिक अभिव्यक्ति है और इसे 1957 में हमारी संसद द्वारा संवैधानिक रूप से अपनाया गया था। यह स्वतंत्रता प्राप्त करने के तुरंत बाद हमारी पहचान को बहाल करने का एक स्पष्ट संकेत था। हालांकि, अफसोस की बात है कि यह लोगों के मानस में किसी का ध्यान आकषित नहीं कर पाया । 'आजादी का अमृत महोत्सव' के अवसर पर विज्ञान भारती, संस्कृति मंत्रालय; विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद, मध्य प्रदेश विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद, IUCAA पुणे, IIA बैंगलूरू, IIT इंदौर , विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन, महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वविद्यालय उज्जैन, राष्ट्रीय दिनदर्शिका प्रचार मंच औरंगाबाद जैसे कई अन्य वैज्ञानिक, शैक्षणिक व सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से भारतीय राष्ट्रीय दिनदर्शिका के क्रांतिकारी कदम को राष्ट्रीय स्तर पर मनाना चाहते हैं। इस उद्देश्य के लिए, भारत के राष्ट्रीय कैलेंडर पर द्विदिवसीय संगोष्ठी और प्रदर्शनी वैशाख 2 और 3, 1944 (22-23 अप्रैल, 2022) को उज्जैन और डोंगला (कर्क रेखा पर एक जगह) में निर्धारित की गई है। सम्मेलन को बढ़ावा देने और लोकप्रिय बनाने के लिए आयोजकों ने इस कार्यक्रम के पूर्ववर्ती छह कर्टेन-रेज़र भी किए हैं जो सीएसआईआर-एनपीएल, नई दिल्ली में चैत्र 01, 1944 (22 मार्च 2022) को ; इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एस्ट्रोफिजिक्स, बेंगलुरु में चैत्र 08, 1944 (29 मार्च 2022) ; एस.एन. बोस नेशनल सेंटर फॉर बेसिक साइंसेज, कोलकाता में चैत्र 15, 1944 (05 अप्रैल 2022) ; आईआईटी, गुवाहाटी में चैत्र 16, 1944 (06 अप्रैल 2022) ; मुंबई विश्वविद्यालय, मुंबई में चैत्र 21, 1944 (11 अप्रैल 2022) और जम्मू केंद्रीय विश्वविद्यालय, जम्मू में चैत्र 22, 1944 (12 अप्रैल 2022) को आयोजित किए गए हैं।
आयोजन समिति द्वारा बताया गया कि आधुनिक विचार के नाम पर सदियों के औपनिवेशिक शासन के दौरान भारतीय विचार के स्वदेशी ज्ञान को वैज्ञानिक और सांस्कृतिक रूप से दबा दिया गया था। स्वतंत्रता के बाद, भारत ने राष्ट्रीय पक्षी, राष्ट्रीय ध्वज, राष्ट्रीय फूल आदि जैसी कई राष्ट्रीय पहचानों को परिभाषित करना शुरू कर दिया, इसी तर्ज पर राष्ट्र एक राष्ट्रीय कैलेंडर के साथ आया, जिसे 'भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर' कहा जाता है। कैलेंडर सुधार समिति द्वारा कैलेंडर तैयार किया गया था जिसमें डॉ० मेघनाद साहा (अध्यक्ष), प्रो० एन सी लाहिरी (सचिव), प्रो० ए सी बनर्जी, डॉ० के एल दफ्तारी, श्री जे एस करंदीकर, प्रो० आर वी वैद्य, पंडित गोरख प्रसाद शामिल थे। खगोल विज्ञान की दृढ़ नींव पर खड़ा कैलेंडर 1957 में संसद के एक अधिनियम के माध्यम से पारित किया गया था और 22 मार्च, 1957 से लागू किया गया था और इसे चैत्र 01, 1879 के रूप में लागू किया गया था। वर्तमान में हम वर्ष 1944 में हैं। सबसे वैज्ञानिक और सटीक कैलेंडर होने के नाते विश्व में भारत का राष्ट्रीय कलैण्डर हमारे स्वाभिमान और आत्म-विश्वास की पहचान है।
वैज्ञानिक स्तंभों पर निर्मित भारतीय राष्ट्रीय दिनदर्शिका को अधिक से अधिक प्रचलन में लाने का प्रयास इस आयोजन के माध्यम से किया जा रहा है। इसी कड़ी में राष्ट्रीय पंचांग (शक संवत) के वैज्ञानिक पहलुओं पर मंथन करने के लिए 22 व 23 अप्रैल को देशभर के पंचांगकर्ता, खगोल विज्ञानी और विद्वान धर्मनगरी उज्जैन में जुटेंगे। इस दौरान आयोजकों द्वारा कार्यक्रम की विषयवस्तु से संबंधित एक प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी।
प्रेस वार्ता के दौरान आयोजन समिति की ओर से मध्यप्रदेश विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद के डायरेक्टर जनरल प्रो० अनिल कोठारी, प्रो० अखिलेश कुमार पाण्डेय (कुलपति विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन), डॉ दिलीप सोनी (कुलसचिव महर्षि संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय), प्रो० प्रमोद कुमार वर्मा (अध्यक्ष विज्ञान भारती मालवा प्रांत), डॉ० अरविंद सी रानाडे (वैज्ञानिक एफ, DST विज्ञान प्रसार) एवं श्री प्रजातंत्र गंगेले, संगठन मंत्री, विज्ञान भारती मालवा प्रान्त मौजूद रहे।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह