Skip to main content

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय शिवदर्शनधाम के प्रांगण में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर कार्यक्रम सम्पन्न

उज्जैन - ऋषि नगर स्थित प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय शिवदर्शनधाम के प्रांगण में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में कार्यक्रम सम्पन्न गया। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्वलन करके किया गया और जिसमें अनेक मातृ शक्तियों ने भाग लिया। ब्रह्माकुमारी उषा दीदी उज्जैन सम्भाग प्रभारी ,  ब्रह्माकुमारी मीना, बहन पारूल शाह, अध्यक्ष योगानंदनम नारी शक्ति पीठ और लायंस क्लब प्रतिष्ठा के अध्यक्ष, बहन मेघा चंदेल डाइटिशियन, बहन उर्मिला श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के राष्ट्रीय सदस्य तथा चित्रगुप्त मंदिर के ट्रस्टी, डॉ अनीता चौधरी विभागाध्यक्ष फिजियोलॉजिस्ट ऑडीगार्डी मेडिकल कॉलेज, डॉ नलिनी लंगर जी पूर्व गवर्नर रोटरी क्लब, बहन चेतना श्रीवास्तव महिला मंडल जिला अध्यक्ष कायस्थ समाज, बहन अनुपमा श्रीवास्तव संयोजिका स्वर्णिम भारत मंच, डॉ अलका व्यास जी विभागाध्यक्ष माइक्रोबायोलॉजिस्ट विक्रम यूनिवर्सिटी सभी अथिति के रुप में  शामिल हुए।



बहन पारूल शाह ने कहा कि कोई भी परिवार समाज अथवा राष्ट्र तब तक प्रगति के क्षेत्र में अग्रसर नहीं हो सकता जब तक नारी का सम्मान ना किया जाए। एक सशक्त राष्ट्र के निर्माण में नारी केंद्रीय भूमिका निभाती है। महिला है देश की तरक्की का आधार उनके प्रति बदलो अपने विचार।

बहन डॉक्टर नलिनी लंगर ने ब्रह्माकुमारीज़ के बारे में बताते हुए कहा कि जिस संस्था में संपूर्ण वर्चस्व नारी का हो उस संस्था में नारी के बारे में कुछ कहने की आवश्यकता ही नहीं है। यत्र नारी पूज्यंते रमंते तत्र देवता । नारी के बिना हर घर अधुरा है। हम सब जानते हैं कि जब श्री राम जी को यज्ञ रचना था तो मां सीता की अनुपस्थिति में सोने की मूर्ति रखा गया और यज्ञ को संपन्न किया गया। आपने आगेबताया कि नारी में संभावनाओं की कमी नहीं है लेकिन हमने दूसरे रास्ता को अपना लिया है जहां कर्म से ज्यादा अहम को महत्व दे देते हैं। नारी का नारीत्व तो तभी समर्थ होगा जब बच्चों की भावनाओं को समझ कर उनके कर्मों को उजागर करेंगे।

उर्मिला श्रीवास्तव जी ने कहा कि महिलाएं अपना वजूद भुलाकर हर किरदार निभाती हैं । यह वह देवी है जो घर को स्वर्ग बनाती है। मां पहली गुरु मानी गई है । नारी शक्ति चाहे तो बच्चे को राम या कृष्ण बनाकर कंस का वध भी करा सकती है। जहां आवश्यकता पड़ती है वहां नारी को शक्ति रूप लेना पड़ता है अत्याचार बढ़ने पर पार्वती को ही काली का रूप लेना पड़ा नारी को अपना सम्मान खुद बनाकर रखना चाहिए। हर समस्या का समाधान उसके पास होना चाहिए। चाहे परिवार की हो चाहे समाज की हो।

डॉ अनिता चौधरी जी ने कहा कि यह दुनिया समझाने से न जाने क्यों नहीं समझती पर मां बिन कहे ही सब कुछ समझ जाती है नारी को भगवान का दर्जा दिया जाता है। नारी ही संपूर्ण सृष्टि की श्रृजनकर्ता है नारी अपने बच्चों की पहली शिक्षिका होती है और परिवार पहली पाठशाला होती है।

राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी उषा दीदी जी ने कहा कि महिलाएं आने वाले नए विश्व की ध्वज वाहिनी है । एक समय था 1936 में जब माताओं की निम्न स्थिति थी । पर्दे में रहती थी, उनको आगे नहीं आने दिया जाता था, नारी को नर्क का द्वार कहा जाता था, उन्हीं माताओं बहनों के ऊपर परमपिता परमात्मा ने ज्ञान का कलश रख स्वर्ग का गेट खोलने के निमित्त बनाया और आज 86 साल हो गए हैं पर यह संस्था दिन दुगनी रात चौगुनी उन्नति को पा रही है। माता ही बालक का पहला गुरु होती है। मातृशक्ति के ऊपर बहुत सारी जिम्मेदारियां हैं वही बच्चों ने श्रेष्ठ संस्कार का बीज डालती हैं।

ब्रह्माकुमारी मीना बहन ने कहा कि ब्रह्माकुमारी संस्था नारी सशक्तिकरण का प्रत्यक्ष उदाहरण है नारी द्वारा संचालित विश्व की अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं है विश्व परिवर्तन के कार्य में परमात्मा ने नारी शक्ति का चयन किया है। नारी और और नीर दोनों का व्यक्तित्व समान है सरलता इतनी जिस साचे में डालो सहज ही ढल जाती है साथी ही कठोरता या दृढ़ता इतनी की नील नदी में बहने लगती है उसका रास्ता कोई रोकने की कोशिश करें तो वह अपना रास्ता स्वयं बनाकर आगे निकल जाती है। नारी भी इसी तरह दृढ़ संकल्पित है उसका रास्ता भी कोई रोक नहीं सकता।

ब्रह्माकुमारी गायत्री बहन नें कुशलतापूर्वक कार्यक्रम का संचालन किया।

कुमारी युक्ता ने नारी सशक्तिकरण को अपने सुंदर नृत्य द्वारा प्रस्तुति किया।

अनेक विशिष्टजनों ने कार्यक्रम का लाभ लिया।

अतः अंत में सभी मेहमानों को ईश्वरीय सौगात देकर कार्यक्रम को सम्पन्न किया ।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह