Skip to main content

36000 दीपों को प्रज्वलित कर स्वर्णिम भारत मंच ने की वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने में सहभागिता

वालेंटियर्स के लिए फरियाली खिचड़ी देकर प्रशासन का किया सहयोग 

प्रभावशाली संगठन की बनी पहचान 

11 लाख 71 हजार 78 दीये जलाकर उज्जैन बना नम्बर वन

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में हुआ नाम दर्ज

 
उज्जैन : महाशिवरात्रि पर्व पर शिव जोति अर्पणम कार्यक्रम में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के आव्हान पर स्वर्णिम भारत मंच ने 36000 दीपक प्रज्वलित करके वर्ल्ड रिकार्ड (गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स) में अपनी महती भूमिका निभाई है। स्वर्णिम भारत मंच की कार्यप्रणाली से जिला प्रशासन को काफी मदद मिली है। 

उज्जैन शहर के लिये 01 मार्च 2022 (महाशिवरात्रि पर्व) का दिन गौरव का दिन साबित हुआ। उज्जैन की जनता ने रामघाट, दत्त अखाड़ा, नृसिंह घाट, गुरूनानक घाट, सुनहरी घाट पर एकसाथ 11 लाख 71 हजार 78 दीये जलाकर विगत नवम्बर में अयोध्या में बनाये गये 9 लाख 41 हजार के दीप प्रज्वलन के रिकार्ड को तोड़कर नया रिकार्ड स्थापित कर दिया है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने 01 मार्च 2022 को इस अवसर पर कहा कि महाकाल महाराज की कृपा और आम जनता की भक्ति, श्रद्धा व तपस्या से आज महाशिवरात्रि पर आज एक अनोखा रिकार्ड स्थापित करने का सौभाग्य मिला है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान महाकाल उज्जैन नगरी पर कृपा की वर्षा करें, सभी सुखी हों, सभी निरोग हों और सबका कल्याण हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी वैभवशाली, सम्पन्न व शक्तिशाली राष्ट्र का निर्माण करने में संलग्न हैं।


शिव ज्योति अर्पण कार्यक्रम में 01 मार्च 2022 को रामघाट पर दीप प्रज्वलन का कार्य शाम 6 बजकर 42 मिनिट से प्रारम्भ हुआ। एकसाथ 11 लाख 71 हजार 78 दीप प्रज्वलित हो उठे। 6.47 पर घाटों की रोशनी बिजली बन्द कर दी गई और दीपों की रोशनी से शिप्रा तट नहा उठा। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड के प्रतिनिधि द्वारा दीप प्रज्वलन की गणना 6 बजकर 53 मिनिट से प्रारम्भ की गई और गणना के कुछ समय बाद जैसे ही गिनीज बुक के श्री निश्चल बारोट द्वारा यह घोषणा की गई कि उज्जैन शहर ने अयोध्या का रिकार्ड तोड़ते हुए नया रिकार्ड कायम किया है तो शिप्रा के घाटों पर मौजूद लाखों लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई। ठीक इसके बाद जमकर आतिशबाजी की गई।


उज्जैन कलेक्टर श्री आशीष सिंह व स्मार्ट सिटी सीईओ श्री आशीष पाठक जब स्वर्णिम भारत मंच के वालेंटियर्स को घाट पर कड़ी धूप में व्यवस्था करते हुए दिखे तो दोनों बेहद खुश भी हुए। नगर निगम उपायुक्त श्री मनोज पाठक ने अधिकारियों को अवगत कराया कि, स्वर्णिम भारत मंच को अलॉट किये गए सभी सेक्टर में शासकीय वालेंटियर की जरूरत नही लगी। 


मंच के द्वारा ही 36000 हजार दीपों को प्रज्वलित किया गया। जिला प्रशासन की ओर से सेक्टर प्रभारी श्री सुधीर धारीवाल ने जानकारी दी कि मंच के संयोजक श्री दिनेश श्रीवास्तव के नेतृत्व में लगभग 500 के करीब कार्यकर्ता लगे थे जिसमें सर्वाधिक महिला वालेंटियर्स ने हिस्सा लिया। प्रभावशाली संस्थाओं में स्वर्णिम भारत मंच की होने लगी है गिनती।

 
जिला प्रशासन की ओर से स्वर्णिम भारत मंच को छोटेपुल पर रामघाट झोंन में श्री चित्रगुप्त घाट पर डी-1, डी-2, डी-3 सेक्टर अधीकृत किये थे जिसमें 160 खाने थे, प्रत्येक खाने में 225 दीपक जमाये गए थे ।


मंच के कार्यकर्ताओं ने 36000 दीपक प्रज्वलित कर विश्व रिकार्ड (गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स) में उज्जैन का नाम दर्ज कराने में बडी भूमिका निभाई है। मंच के संयोजक श्री दिनेश श्रीवास्तव ने बताया कि, कलेक्टर श्री आशीष सिंह व स्मार्ट सिटी सीईओ श्री आशीष पाठक सहित जिला प्रशासन की टीम के भरपूर सहयोग मिलने से मंच के कार्यकर्ताओं में बड़ा उत्साह रहा। सबने कंधे से कंधा मिलाकर दीपक प्रज्वलित करने में जी तोड़ मेहनत की है। 

 
वालेंटियर्स के लिए प्रशासन को दी खिचड़ी
 
स्वर्णिम भारत मंच ने नगर निगम कमिश्नर श्री अंशुल गुप्ता के आग्रह पर सुनहरी घाट, रामघाट, सिद्घ आश्रम, श्री चित्रगुप्त घाट पर दीपोत्सव में सेवा देने वाले वालेंटियर के लिए फरियाली खिचडी का प्रबंध कराया था। उपायुक्त श्री मनोज पाठक व श्री मोहित मिश्रा, श्री पीयूष भार्गव की निगरानी में वितरण किया गया।

 
महाशिवरात्रि पर्व पर शिव जोति अर्पणम कार्यक्रम में अनुपमा श्रीवास्तव, अभय नरवरिया, चेतन श्रीवास्तव,  दीपक जाट, सत्यनारायण लोधी, रीता नरवरिया, रितेश खंडेलवाल ,नीलेश खंडेलवाल, रानु सक्सेना, रेणुका मालवीय, तरुण चौरसिया, हर्ष नरवरिया, चंचल श्रीवास्तव, राहुल मोदी, रवि मालवीय, रीना परिहार, शरद अहिरवार, तन्मय अहिरवार, गोवर्धन मालवीय, डॉ रविंद्र भाटी, तन्मय कानूनगो, अंजू सुराणा, नितेश गादिया, राहुल मालवीय, विजय बोडाना, रीना मालवीय, अनिता सक्सेना, जगदीश लोधी, विकास चौऋषिया, निक्की चौऋषिया, सोनू चौऋषिया, सिद्धीविनायक चौऋषिया, देवांश चौऋषिया, शुभम चौऋषिया आदि ने भूमिका निभाई ।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह