Skip to main content

दो-दिवसीय भारतीय युवा संसद का आयोजन 02-03 अप्रैल को उज्जैन में

उज्जैन - लोकतान्त्रिक मूल्यों में आस्था, सामाजिक एवं राजनैतिक क्षेत्र में युवाओं की सकारात्मक और रचनात्मक भूमिका के मद्देनज़र, युवा पीढ़ी प्रत्यक्ष रूप से भारतीय लोकतान्त्रिक प्रणाली को समझे, इसके उन्नयन-विकास में सक्रिय रूप से भागीदारी दे आदि उद्देश्य के साथ प्रतिवर्ष भारतीय युवा संसद का आयोजन किया जाता है। इसी उद्देश्य को विस्तार देते हुए “लोकतंत्र : युवाओं की सहभागिता (Democracy : Direct Participation of Youths) विषयक दो-दिवसीय भारतीय युवा संसद का आयोजन 02-03 अप्रैल, 2022 को विक्रम कीर्ति सभागार, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में किया जा रहा हैं । आयोजन विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन, माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल, महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वविद्यालय, उज्जैन, श्री महाकाल मन्दिर समिति-उज्जैन, मध्यप्रदेश सामाजिक विज्ञान अनुसन्धान केन्द्र, उज्जैन, जल संसद, ईटीवी भारत के संयुक्त तत्वावधान से मीडिया फाउंडेशन (न्यास) द्वारा आयोजित किया जा रहा है। आयोजन में बीस से अधिक राज्यों के 400 युवा/विद्यार्थियों की सहभागिता होगी। जिसमें वे विभिन्न क्षेत्रों में भविष्योन्मुखी नेतृत्व संभावनाओं तथा कार्य-योजना की समझ विकसित कर सकेंगे । आयोजन में आमन्त्रित प्रमुख अतिथियों/मुख्य वक्ताओं में मध्यप्रदेश के महामहिम राज्यपाल मंगुभाई पटेल, कर्नाटक के महामहिम राज्यपाल थावरचन्द गेहलोत, केन्द्रीय राज्य मन्त्री गृह एवं युवा मामला मन्त्रालय निशीथ प्रामाणिक, मध्यप्रदेश विधानसभाध्यक्ष गिरीश गौतम, राजस्थान विधानसभाध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी, दिल्ली, विधानसभाध्यक्ष रामनिवास गोयल, हिमाचल प्रदेश विधानसभाध्यक्ष विपिन परमार, असम विधानसभा उपाध्यक्ष डॉ. नुमाल मोमिन, छत्तीसगढ़ विधानसभा उपाध्यक्ष मनोज सिंह मंडावी, मध्यप्रदेश सरकार के शिक्षा मन्त्री डॉ. मोहन यादव, उद्योग मन्त्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, संस्कृति एवं धर्मस्व मंत्री सुश्री उषा ठाकुर, बिहार सरकार के पथ निर्माण मन्त्री नितिन सिन्हा, पूर्व केन्द्रीय मन्त्री सचिन पायलट, महाकाल गादीपति महन्त श्री विनीत गिरी, राष्ट्रीय चिन्तक के एन गोविन्दाचार्य, मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष एवं खजुराहो सांसद बी डी शर्मा, राजस्थान भाजपा अध्यक्ष डॉ.सतीश पुनिया, उज्जैन के सांसद अनिल फिरोजिया, अंडमान- निकोबार के सांसद कुलदीप शर्मा, अरुणाचल प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष निनोंग इरिंग, पूर्व सांसद रघुनन्दन शर्मा, मणिपुर के पूर्व शिक्षा मन्त्री थोकचोम राधेश्याम, सेवादल के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष महेन्द्र जोशी, प्रदेश सरकार के पूर्व शहरी विकास मन्त्री जयवर्द्धन सिंह, मध्यप्रदेश विधानसभा की पूर्व उपाध्यक्ष सुश्री हिना कावरे, एनसीआरटी के निदेशक प्रो. दिनेश सकलानी, असम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राजीव मोहन पन्त, माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति प्रो.के जी सुरेश तथा डॉ. अवधेश पुरी शामिल हैं। आयोजन हेतु गठित समिति में विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय, महर्षि पाणिनि संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो. विजयकुमार सी.जी., मध्यप्रदेश समाज विज्ञान अनुसन्धान केन्द्र-उज्जैन के अध्यक्ष प्रो. गोपाल कृष्ण शर्मा, माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति प्रो.के जी सुरेश, महाकाल मन्दिर समिति के प्रशासक गणेश धाकड़, पूर्व विधायक सतीश मालवीय, ईटीवी के ब्यूरो चीफ अश्विनी पारीक तथा भारतीय युवा संसद के मानद संयोजक व संस्थापक आशुतोष जोशी, मीडिया फाउंडेशन के सिद्धार्थ शामिल हैं। आयोजन में सहभागी प्रतिभागियों हेतु आयोजन सहभागिता प्रमाण-पत्र मध्यप्रदेश विधानसभा के लोगो सहित विधानसभा अध्यक्ष द्वारा हस्ताक्षरित होंगे। प्रतिभागियों हेतु श्रीमहाकाल दर्शन-प्रसाद हेतु विशेष व्यवस्था महाकाल मन्दिर समिति द्वारा होगी। आयोजन में कुम्भ नगरी स्मार्ट सिटी-उज्जैन, नगर निगम-उज्जैन एवं जिला प्रशासन के विभिन्न प्रॉजेक्ट की जानकारी भी उपलब्ध होगी। भारतीय संसद के प्रक्रम ब्यूरो ऑफ़ पार्लियामेंट्री स्टडीज ट्रेनिंग (पार्लियामेंट्री रिसर्च एंड ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट फॉर डेमोक्रेसिस) के सौजन्य से प्रतिभागियों को संसदीय प्रकाशन हिन्दी/अंग्रेजी भाषा में रजिस्ट्रेशन किट में दिया जाएगा । आयोजन में रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शीघ्र पूर्ण होने जा रहीं हैं, किसी भी प्रकार की जानकारी हेतु वेबसाइट या सम्पर्क डैस्क पर सम्पर्क किया जा सकता हैं। आयोजन हेतु शुल्क सहित रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया ऑनलाइन WWW.INDIANYOUTHPARLIAMENT.CO.IN और WWW.MEDIAFOUNDATION.CO.IN पर उपलब्ध हैं। जिसमें दो दिन का खाना, जलपान, प्रकाशन, टीशर्ट, किट इत्यादि शामिल हैं। उज्जैन से बाहर से आने वाले प्रतिभागियों हेतु आवास-रात्रि भोजन की व्यवस्था भी रहेगी। विभिन्न छात्र संगठनों और पूर्व में भारतीय युवा संसद के सत्रों में सहभागिता कर चुके युवाओं के स्थान पर नए विद्यार्थियों को रजिस्ट्रेशन में तरहीज होगी, ताकि वे समाज और राजनैतिक क्षेत्र में अपनी समझ विकसित करना चाहते हैं। आयोजन सामाजिक-राजनैतिक क्षेत्र में सहभागिता के इच्छुक छात्रों हेतु बारहखड़ी की तरह हैं। 25 वर्ष से कम आयु के विश्वविद्यालय/महाविद्यालय/स्कूल/संस्थान के विद्यार्थियों हेतु शुल्क 0800/- और 25 वर्ष से अधिक आयु वर्ग हेतु 1100/- रजिस्ट्रेशन शुल्क रहेगा, सभी सत्रों में उपस्थित रहने पर ही सहभागिता प्रमाण पत्र देय होगा। आयोजन का समय दोनों दिन प्रातःकाल 08:00 बजे से सायं 05:30 बजे तक रहेगा। आयोजन में प्रत्येक सत्र में चयन से श्रेष्ठ प्रश्न, संवाद, अनुशासन, सामग्री का चयन और रिपोर्ट राइटिंग से जुड़े कुल पांच अवार्ड होंगे। इसके अलावा सोश्यल मीडिया लाइव, ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम पर प्रस्तुत पोस्ट तथा वोलिएंटरस की कैटेगरी में भी अवार्ड होंगे। आयोजन के दौरान विशेष अनुशासन का पालन किया जाएगा, जिसमें नारेबाजी के अतिरिक्त सदन में मौजूद न होने वाले व्यक्ति/व्यक्ति समूह का नामोल्लेख करते हुए चर्चा नहीं होगी। सभी प्रतिभागी अनौपचारिक वेशभूषा से इतर निर्धारित ड्रेसकोड में ही सहभागिता करेंगे। सभी प्रतिभागियों को आयोजन के दौरान कुल दो कम्युनिकेशन वर्कशॉप, दो ध्यानाकर्षण प्रस्ताव सत्र, प्रश्न काल के अतिरिक्त विभिन्न विचारधाराओं के प्रतिनिधियों, मंत्रियों के साथ ही विधानसभा अध्यक्षों के साथ सीधे संवाद का मौका होगा। मुख्य विषय “लोकतंत्र : युवाओं की सहभागिता (Democracy : Direct Participation of Youths)” के अतिरिक्त ताज़ातरीन उक्रेन-रूस विवाद, अफगानिस्तान-नाटो सेना की वापसी, पाकिस्तान की राजनैतिक उथलपुथल, धारा 370 और ताज़ातरीन कश्मीर फाइल मूवी के साथ ही भारतीय चुनाव- उसके परिणाम, दुनिया का तेल संकट, ग्लोबल वार्मिंग, शिक्षा नीति के साथ ही आज़ादी के 75 साल की समीक्षा, पेगासस, श्रीलंका, नेपाल सहित अनेक चर्चा के विषय होंगे। मालवा अंचल में युवाओं से सीधे तौर पर जुड़ा यह प्रथम आयोजन हैं, जिसमें युवाओं को केन्द्र में रख कर आयोजन की रूपरेखा तैयार की गयी हैं। आयोजन को लेकर देश भर के विद्यार्थियों/युवाओं में विशेष उत्साह हैं खासकर महाकाल के दर्शन, क्षिप्रा स्नान, ओंकारेश्वर और महेश्वर की धार्मिक मान्यता का के साथ ही पर्यटन की दृष्टि से देश-दुनिया में विशेष महत्व हैं। मीडिया फाउंडेशन द्वारा पिछले दो दशक से युवाओं को लेकर ऐसे आयोजन देश भर के सुदूरवर्ती राज्यों में ऐसे आयोजन किये जाते रहे हैं। फाउंडेशन इसके अतिरिक्त पत्रकारिता के विद्यार्थियों, प्रशिक्षु पत्रकारों के समय समय पर ओरिएंटेशन प्रोग्राम का आयोजन करता रहा है साथ ही लॉ और पोलिटिकल साइन्स के साथ ही एमएसडब्ल्यू के विद्यार्थियों के साथ एडवोकेसी, जर्नल पब्लिकेशन के रचनात्मक आयोजन करता रहता हैं। दलगत राजनीति से ऊपर उठकर सभी विचारों को जानना-समझना और देश-समाज हेतु रचनात्मक सुझाव, नीति निर्माण -समीक्षा आदि को लेकर प्रशिक्षण सत्रों की भांति आयोजन होता हैं, साथ ही नामचीन पत्रकार, कुलपति, केन्द्रीय संस्थानों के निदेशक, सामाजिक कार्यकर्त्ता, उद्यमी और स्प्रीक्चुअल लीडर के साथ चर्चा-परिचर्चा में अनेक पहलुओं को अकादमिक दृष्टि से समझने का प्रयास रहता है।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह