Skip to main content

सविनय नमन श्री नरेन्द्र श्रीवास्तव 'नवनीत' : नहीं रहे मालवी के अनूठे गद्यकार, कवि और अनुवादक - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

सुप्रसिद्ध लोकसर्जक श्री नरेंद्र श्रीवास्तव नवनीत (9 मार्च 1945 - 16 फरवरी 2022) नहीं रहे। आज लंबी बीमारी के बाद उनका निधन हो गया। लोक भाषा मालवी को अपने सृजन सरोकारों से लगातार समृद्ध करने वाले कवि, गीतकार, व्यंग्यकार, अनुवादक और लेखक श्री नरेन्द्र श्रीवास्तव 'नवनीत' का जन्म झोंकर (जिला शाजापुर म.प्र.) में नौ मार्च उन्नीस सौ पैंतालिस को एक प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था। एम.ए., बीटीआई और साहित्य रत्न तक शिक्षित श्री नवनीत जी की हिन्दी और मालवी में अब तक लगभग दो दर्जन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है। आपने तुलसीकृत रामचरित मानस के सुन्दरकांड, अरण्य कांड और किष्किन्धा काण्ड का मालवी में पठनीय और मननीय अनुवाद किया। सीता को ब्याव, भुंसारो, मालवी पारसियाँ, मालवी गज़ले, मालवी दोहे, मालवी व्यग्य संग्रह के अलावा आपने श्री देवनारायण चरित तथा 'भरत को समाजवाद' जैसे दो खण्ड काव्यों का भी सृजन किया।

‘कई कूं ने कई नी कूं' शीर्षक से आपने अपनी आत्मकथा भी लिखी। मालवी पत्रिका 'फूल-पाती' का संपादन भी आप कर रहे थे। देश-प्रदेश में कई समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में आपकी रचनाएं प्रमुखता से स्थान पाती रहीं।

देश - प्रदेश की कई संस्थाओं से सम्मानित और पुरस्कृत नवनीत जी को महामहिम राष्ट्रपति जी द्वारा रजत पत्र, राज्यपाल महोदय द्वारा पुरस्कार, वागीश्वरी सम्मान, राष्ट्र भारती तथा कबीर सम्मान, नाथद्वारा ( राजस्थान) में श्रीमती लक्ष्मीदेवी ठक्कर सम्मान आदि सम्मान समय-समय पर प्राप्त हुए।

मध्यप्रदेश शासन के शिक्षा विभाग से सेवानिवृत श्री नवनीत जी जमनाबाई लोक साहित्य संस्था उज्जैन के अध्यक्ष तथा मानव लोक साहित्य संस्थान के सहसचिव के रूप में अपनी साहित्यिक सक्रियता बनाए हुए थे। कई संस्थाओं द्वारा आपको अपना सलाहकार एवं मार्गदर्शक भी स्वीकार किया गया था। मालवा लोककला एवं सांस्कृतिक संस्थान उज्जैन एवं लोकगायक भेराजी सम्मान समारोह समिति द्वारा सुप्रसिद्ध लोक सर्जक श्री नरेन्द्र श्रीवास्तव की सुदीर्घ लोक साधना को नमन करते हुए उन्हें 32वां भेराजी सम्मान 2019 प्रदान किया गया था। समारोह के कुछ चित्र यहां दिए गए हैं। 

उनकी अंतिम कृति 'झोंकर का इतिहास' के लोकार्पण की स्मृतियाँ  :   

उनके जन्मस्थान झोंकर में 13 नवम्बर 2021 को एक अभिनव ऐतिहासिक कार्यक्रम सम्पन्न हुआ था।  श्री नरेन्द्र श्रीवास्तव 'नवनीत'  द्वारा रचित पुस्तक  ''झोंकर का सांस्कृतिक वैभव'' का लोकार्पण किया गया था। श्री नवनीत ने 78 वर्ष की उम्र के इस पडाव में 150 पृष्ठ की इस शोधपूर्ण  पुस्तक को बड़े संघर्ष से पूर्ण किया। उन्हें आँखों से दिखाई देना बंद हो गया था।  हाथ- पैरों ने जवाब दे दिया था। शरीर केवल एक गठरी मात्र बन कर रह गया था। बड़ी जिजीविषा और सुदृढ मनोबल होने से उसे पूर्ण ही नही किया, अपितु उसका लोकार्पण भी कराया । मालवी बोली के लोकप्रिय कवि थे। लगभग 35 पुस्तकों की रचना कर चुके थे, जिसमें मालवी में रामायण,कईं तमने सुन्यो,मालवी दोहे,देवनारायण चरित्र,भुंसारो ,कबीर चालीसा,कविता नी मरे कदी जैसी अनेक रचनाएं हैं।

कार्यक्रम में प्रमुख वक्ता विक्रम विश्वविद्यालय के डॉ.शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने पुस्तक में  प्रकाशित ग्रामीण जीवन और ग्राम में स्थित विभिन्न पुरातन स्थानों की झलकियों का सुंदर विवेचन किया। विक्रम विश्वविद्यालय के पुरातत्ववेत्ता डॉ. रमण सोलंकी ने इसे पुरातत्व के छात्रों के लिए  संदर्भ ग्रंथ घोषित किया ।

कार्यक्रम के अध्यक्ष लोकतंत्र सेनानी और वरिष्ठ समाजसेवी श्री गोवर्धनलाल गुप्ता ने श्री नवनीत के  साहित्य प्रेम तथा झोंकर से उनके लगाव की चर्चा की । इस कार्यक्रम के संयोजन में उनके मित्र श्री रमेश गुप्ता प्रारम्भ से ही जुड़े थे,अतः उन्होंने नरेन भाई के  बचपन के कुछ संस्मरणों को सुनाया । शाजापुर से आए श्री अम्बाराम जी कराड़ा ने अपनी शुभकामनाएं व्यक्त करते हुए नवनीत के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की थी।

इस कार्यक्रम के आयोजन में ग्राम झोंकर के वरिष्ठ समाजसेवी ,युवा कार्यकर्ता गण, साहित्य प्रेमी और बड़ी संख्या में नागरिक सम्मिलित रहे।









Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह