Skip to main content

धार्मिक स्थल प्रयागराज एवं उज्जैन सभी दृष्टिकोण से अद्भुत


राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के तत्वावधान में “प्रयागराज एवं उज्जैन का धार्मिक, पौराणिक, आध्यात्मिक, शिक्षा, साहित्य के महत्व“ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय आभासी संगोष्ठी में अध्यक्षीय उद्बोधन दे रहे डॉ. शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख ने कहा कि विश्व में हम सर्वश्रेष्ठ संस्कृति में जी रहे हैं और देश के पास धार्मिक आध्यात्मिक परंपरा भी है। कुंभ मेला एवं ऐतिहासिकता है परंपराएं हैं। भारत देश ने आध्यात्मिक परंपरा को संभाल कर रखा है। और हर क्षेत्र में अपना धार्मिक आध्यात्मिक क्षेत्र है और सबका अपना महत्व है।

मुख्य अतिथि श्री बृजकिशोर शर्मा, ने कहा कि प्रयागराज और उज्जैन में ऊर्जा का प्रवाह होता है। अस्तित्व की विशेषता को सरल ढंग से रखा गया है। प्रयागराज में कुंभ का मेला होता है साथ ही स्कंद पुराण में बताया गया है। कि संसार में यह वैज्ञानिक स्थित है उज्जैन प्राचीन नगरी है। जहां पर पाषाण प्राप्त होता है।
विशिष्ट अतिथि डॉ गोकुलेश्वर कुमार द्विवेदी, सचिव विश्व हिंदी साहित्य सेवा संस्थान, प्रयागराज ने कहा कि प्रयाग के प्रभाव का वर्णन इतना विस्तृत है। जो कि शास्त्रों में लिखा गया है। प्रयागराज त्रिवेणी संगम के नाम से जाना जाता है जिसमें गंगा, जमुना, सरस्वती तीनों का संगम है। 14 जनवरी से लेकर मार्च तक मेला लगता है।संगम की महिमा का ज्ञान तीर्थ नगरी के नाम से जाना जाता है।
वक्ता डॉ रश्मि चौबे ने कहा कि उज्जैन में शिप्रा नदी है। जो मंदिर के किनारे है। जहां प्रत्येक 12 साल में कुंभ मेला लगता है। जहां कालभैरव को मंदिरा भी चढ़ाई जाती है। साथ ही प्रयागराज की संस्कृति एवं पौराणिक मे दोनों का महत्व बताया।
वक्ता उपमा आर्य ने कहा कि प्रयागराज और उज्जैन दोनों ही जगहों पर ऋषि लोग झोपड़ी बनाकर रहते हैं। इसे आर्यव्रत भी कहते हैं।कालिदास की रघुवंश में यह लिखा है इलाहाबाद के तट में वट वृक्ष है। साहित्य में देखें तो हरिवंश राय बच्चन, सांस्कृतिक और संगीत के दृष्टिकोण से देखें तो सुधा मुगदंल हैं।
वक्ता डॉ उपासना पांडे ने कहा कि महाकाल को जिस रूप में पूजना चाहे पूज सकते हैं। पहाड़ और कंदरो में ऋषि पूरी प्राणी जगत के अपना विश्लेषण करते हैं। सृष्टि की रचना, धर्म, आध्यात्मिक, सांस्कृतिक, का प्रतीक संपूर्ण रूप से देखा जाता है।
वक्ता डॉ नीलिमा मिश्रा, प्रयागराज ने कहा कि सृष्टि की रचना प्रयागराज ही है। जिसे इलाहाबाद के नाम से भी जाना जाता है। कुंभ के दो प्रकार उन्होंने बताया परंपरागत और ज्योतिसीय पक्ष। त्रिवेणी संगम को पंचकोशी बताया।
डॉक्टर प्रभु चौधरी, महासचिव, राष्ट्रीय शिक्षक सं चेतना, उज्जैन ने कहा कि कालों के काल महाकाल का जो नाम ले उस पर कोई भी विपत्ति नहीं आती। एक वीर पराक्रमी विक्रमादित्य का जन्म हुआ। महाकवि कालिदास का नाटक उपन्यास अद्वितीय है। यह कालिदास विक्रमादित्य की नगरी है।
संगोष्ठी का आरंभ डॉ रश्मि चौबे की सरस्वती वंदना से हुआ। डॉक्टर सुरेखा मंत्री ने स्वागत उद्बोधन दिया। गोष्ठी की प्रस्तावना प्रोफेसर अनुसुइया अग्रवाल, महासमुंद, छत्तीसगढ़ ने दिया।
संगोष्ठी का सफल एवं सुंदर संचालन डॉक्टर मुक्ता कान्हा कौशिक , मुख्य प्रवक्ता राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना ने किया। तथा सभी अतिथियों,वक्ताओं का धन्यवाद ज्ञापन सुश्री गरिमा गर्ग, पंचकूला ने किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक