Skip to main content

आजादी का अमृत महोत्सव' के अंतर्गत मातृभाषा दिवस के अवसर पर सामाजिक विज्ञान अनुसंधान में मातृभाषा की उपादेयता विषय पर विशेष वेब संगोष्ठी आयोजित

मध्य प्रदेश सामाजिक विज्ञान अनुसंधान संस्थान, उज्जैन द्वारा "आजादी का अमृत महोत्सव" के अंतर्गत आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की शृंखला के तहत एक विशेष वेबिनार का आयोजन "सामाजिक विज्ञान अनुसंधान में मातृभाषा की उपादेयता" विषय पर अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के अवसर पर किया गया। मुख्य वक्ता प्रोफेसर अनिल कुमार वर्मा, निदेशक, सेंटर फॉर स्टडीज ऑफ सोसाइटी एंड पॉलिटिक्स, कानपुर एवं विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के हिंदी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा थे।

प्रोफेसर अनिल कुमार वर्मा ने कहा कि हिंदी और अन्य देशज भाषाओं में अकादमिक उत्कृष्टता के लिए यह आवश्यक है की पर्याप्त मानक संदर्भ पुस्तकों, पाठ्य पुस्तकों, शोध प्रकाशनों का सृजन हो। इन भाषाओं में अध्ययन, अध्यापन एवं अनुसंधान हेतु उत्कृष्ट क्षमताओं वाले शिक्षकों और शोधकर्ताओं के बिना यह किया जाना संभव नहीं है। दुर्भाग्य से, इन सभी मोर्चों पर आज हमारे पास कमी है और इसलिए मातृभाषा में संचार के उपकरणों, पारिस्थितिकी तंत्र और संस्कृति को विकसित करने के लिए व्यापक सुधार की आवश्यकता है। हम सभी भाषाई साम्राज्यवाद से वाकिफ हैं और ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स में हम 46 वें स्थान पर हैं, जो हमारे लिए चिंता का विषय होना चाहिए।


मातृभाषा में शोध करना बहुत जरूरी है और निश्चय ही चिंतन की मौलिकता मातृभाषा में ही सर्वोत्तम रूप से सामने आ सकती है। भाषा मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक रूप से शोधकर्ता और समाज के बीच अंतर्संबंधों को विकसित करने की क्षमता रखती है और इसलिए मातृभाषा की भूमिका निसंदेह महत्वपूर्ण होती है।

आयोजन के प्रमुख वक्ता प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा, विभागाध्यक्ष, हिंदी अध्ययनशाला, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन ने कहा कि स्थानीय भाषा और बोली को जाने बिना सामाजिक विज्ञान में क्षेत्र अनुसंधान के साथ पर्याप्त न्याय नहीं किया जा सकता है। उन्होंने आदिवासी मुद्दों से संबंधित क्षेत्रीय कार्यों और उनमें भाषा की प्रबल भूमिका के कई उदाहरण प्रस्तुत किए। उन्होंने इतिहास को समझने और सामाजिक-सांस्कृतिक आयामों की गहराइयों को समझाने के लिए लोककथाओं का दस्तावेजीकरण करने पर बल दिया। उन्होंने यह भी रेखांकित किया कि सामाजिक और सांस्कृतिक एकीकरण में भाषा की जबरदस्त भूमिका है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 ने हिंदी और अन्य स्थानीय भाषाओं के अधिकतम उपयोग पर जोर दिया है, उम्मीद है कि यह वांछित परिणाम देगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थान के अध्यक्ष प्रोफेसर गोपालकृष्ण शर्मा ने की। उन्होंने कहा कि प्रभावी संचार सामाजिक विज्ञान में अनुसंधान के लिए पूर्व शर्त होनी चाहिए जिसमें मातृभाषा का प्रमुख महत्व सदैव रहा है।

कार्यक्रम के आरम्भ में संस्थान के निदेशक प्रोफेसर यतीन्द्रसिंह सिसोदिया ने स्वागत भाषण दिया और मातृभाषा में उत्कृष्ट सामाजिक विज्ञान अनुसंधान की महत्ता पर प्रकाश डाला। उन्होंने हिंदी और अन्य स्थानीय भाषाओं में गुणवत्तापूर्ण अनुसन्धान कार्य की वर्तमान स्थिति को संबोधित करने के लिए एक व्यावहारिक और व्यापक दृष्टिकोण को अपनाये जाने पर भी दिया और राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के आलोक में परिदृश्य को पूरी तरह से बदलने की आवश्यकता को रेखांकित किया।

कार्यक्रम का संचालन प्रोफेसर शैलेंद्र पाराशर, सीनियर फेलो, आईसीएसएसआर द्वारा किया गया और डॉ. तापस कुमार दलपति ने धन्यवाद प्रेषित किया। इस कार्यक्रम में विभिन्न महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों के छात्रों, शोधार्थियों और संकाय सदस्यों ने भाग लिया।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह