Skip to main content

एनएसयूआई मेडिकल विंग ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय के बाहर किया सूर्य नमस्कार

स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के अवसर पर एनएसयूआई ने कांग्रेस कार्यालय के बाहर किया सूर्य नमस्कार


भोपाल -: मध्यप्रदेश में प्रति वर्ष की तरह इस वर्ष भी मेडिकल विंग ने सूर्य नमस्कार का आयोजन किया जिसमें कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए एनएसयूआई पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सूर्य नमस्कार किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में युवक कांग्रेस मीडिया विभाग के प्रदेश अध्यक्ष विवेक त्रिपाठी जी मौजूद रहे । एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने बताया कि, युवाओं के प्रेरणा स्रोत स्वामी विवेकानंद जी की जयंती पर एनएसयूआई द्वारा युवाओं और प्रदेश के नागरिकों को जागरूक करने के लिए सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया क्योंकि सूर्य नमस्कार मानव शरीर की बौद्धिक और शारीरिक क्षमता के साथ-साथ मानव शरीर को भी स्वस्थ रख कई बीमारियों से बचाने में भी लाभदायक होता हैं ।

परमार ने बताया कि, सूर्य नमस्कार कोरोना गाइडलाइन की दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए करवाया गया । वहीं एनएसयुआई के बैनर-पोस्टर में एनएसयूआई के मोनो (सिंबॉल) को भी मास्क पहनाया, ताकि लोगों को यह संदेश दिया जा सके कि कोरोना काल में मास्‍क पहनना कितना जरूरी है। आईटी सेल के प्रदेश समन्वयक अक्षय तोमर ने कहा कि, आज का दिन एक नया प्रण लेने का दिवस है । इसी को ध्यान में रखते हुए एनएसयूआइ के पदाधिकारियों ने यहां प्रण लिया है कि, हम हमारी दिनचर्या में सूर्य नमस्कार को शामिल कर युवाओं को सूर्य नमस्कार करने के लिए प्रेरित करेंगे।

एनएसयूआई गांधीनगर के ब्लॉक अध्यक्ष अमित लबाना ने बताया कि, स्वामी विवेकानंद जी के विचार जितने 19वीं सदी में प्रासंगिक थे, उतने ही आज भी पूरे विश्व के लिए प्रासंगिक हैं । देश को आज ऐसे युवाओं की आवश्यकता है, जो स्वामी विवेकानंद के बताए आदर्शों पर चलकर देश को वैचारिक, शारीरिक व मानसिक उत्थान के लिए कार्य करें। इस मौके पर प्रदेश प्रवक्ता समर्थ समाधिया, हुजूर विधानसभा अध्यक्ष सोहन मेवाडा, लक्की चौबे, जिला सचिव भव्य सक्सेना, अरुण सिंह राजपूत, ईश्वर चौहान, देवेंद्र सोनारे, शैलेश पवांर, डॉ हिमांशु संदीप राजपूत, गौरव सिंह, आयुष उरमलिया, वंस कनोजिया, कार्तिक रघुवंशी, शशांक मोहित बासुदे के साथ सभी एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने उपस्थित होकर सूर्य नमस्कार किया ।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

केबिनेट मंत्री का मिला दर्जा निगम, मंडल, बोर्ड तथा प्राधिकरण के अध्यक्षों को, उपाध्यक्षों को मिला राज्य मंत्री का दर्जा

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 29, 2021 - मध्यप्रदेश शासन ने निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त अध्यक्षों को केबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश जारी कर दिये हैं। केबिनेट मंत्री का दर्जा उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। इसी प्रकार निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को राज्य मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश भी जारी हो गये हैं। यह भी संबंधित नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। मध्यप्रदेश राज्य शासन ने बुधवार, 29 दिसम्बर 2021 को श्री शैलेन्द्र बरूआ मध्यप्रदेश पाठ्य-पुस्तक निगम, श्री शैलेन्द्र शर्मा मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड, श्री जितेन्द्र लिटौरिया मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड, श्रीमती इमरती देवी मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम लिमिटेड, श्री एंदल सिंह कंषाना मध्यप्रदेश स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड, श्री गिर्राज दण्डोतिया मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम, श्री रणवीर जाटव संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम लिमिटेड, श्री जसवंत