Skip to main content

भारतीय साहित्य और दर्शन की परंपरा के अद्वितीय संवाहक थे आचार्य त्रिपाठी

आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी जयन्ती समारोह एवं राष्ट्रीय संगोष्ठी सम्पन्न

उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के वाग्देवी भवन स्थित हिंदी अध्ययनशाला सभागार में प्रख्यात मनीषी और समालोचक आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी की 93 वीं जयंती समारोह में उनके आलोचना कर्म के विविध आयामों पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। समारोह के मुख्य अतिथि विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय थे। कार्यक्रम में वरिष्ठ साहित्यकार डॉ शिव चौरसिया को आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी सम्मान से अलंकृत किया गया। प्रमुख वक्ता विक्रम विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष एवं समालोचक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा, प्रो गीता नायक डॉ जगदीश चंद्र शर्मा, डॉ विभा दुबे (मिर्जापुर, उप्र) एवं डॉ विवेक चौरसिया थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो हरिमोहन बुधौलिया ने की। विभिन्न वक्ताओं ने अपने व्याख्यानों के माध्यम से आचार्य त्रिपाठी जी के जीवन, लेखन और आलोचना के क्षेत्र में योगदान पर प्रकाश डाला।

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने कहा कि आचार्य त्रिपाठी भारतीय साहित्य एवं दर्शन की परंपरा के संवाहक थे। भारतीय परंपरा में गुरु, माता और पिता की भक्ति को महत्व मिला है। अनेक साहित्यकारों और शोधार्थियों के व्यक्तित्व के निर्माण में आचार्य त्रिपाठी जैसे गुरुओं का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। आचार्य त्रिपाठी का स्मरण करना गुरु शिष्य परंपरा को महत्व देना है। कला संकायाध्यक्ष प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि आचार्य त्रिपाठी ने भारतीय रस और ध्वनि सिद्धान्तों की अभिनव व्याख्या की। उनकी आलोचना पद्धति भारतीय चिंतन धारा की सुदृढ़ आधार भूमि पर खड़ी हुई है। वे मानते थे कि आलोचक संवेदनागत सौन्दर्य के जितना नजदीक होगा, आलोचना के मूल मर्म के साथ न्याय कर पाएगा। उनकी दृष्टि में आलोचना, कृति के माध्यम से साक्षात्कृत मूल संवेदना का सर्जनात्मक पुनराख्यान है। आचार्य त्रिपाठी की दृष्टि में तंत्र एक ऐसी युक्ति का नाम है जिसके माध्यम से हम अपनी अपरिमेय संभावनाओं से युक्त शक्ति को स्वायत्त कर सकते हैं, जो अज्ञान के कारण प्रसुप्त पड़ी हुई है। सन 2028 से आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी के जन्म शताब्दी वर्ष को बड़े पैमाने पर मनाया जाएगा।

प्रो गीता नायक ने कहा कि आचार्य त्रिपाठी का व्यक्तित्व अत्यंत सहज और सरल था। वे भारतीय काव्यशास्त्र के धुरीण विद्वान थे। उनकी शैली आचार्य रामचंद्र शुक्ल की तरह सूत्रात्मक थी। उनकी मान्यता थी कि काव्य के प्रतिमान परिवर्तनशील है। इसलिए काव्य का लक्षण मानवीय अनुभूतियों के आधार पर दिया जाना चाहिए। उन्होंने काव्य के हेतुओं पर व्यापक प्रकाश डाला, जो आज भी प्रासंगिक है। डॉ जगदीश चंद्र शर्मा ने कहा कि आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी ने भारतीय काव्यशास्त्र के प्रतिमानों को लेकर महत्वपूर्ण कार्य किया। उन्होंने सभी काव्य धाराओं की समीक्षा उन प्रतिमानों के आधार पर की। भक्ति साहित्य पर उनका असाधारण अधिकार था। उन्होंने अल्प चर्चित काव्यधारा और कवियों की चर्चा करते हुए उनके महत्व का प्रतिपादन किया। उनकी दृष्टि आस्थावादी थी। नई आलोचना और रचनाओं की सम्यक् पड़ताल भी उन्होंने की। सारस्वत अतिथि डॉक्टर शिव चौरसिया ने कहा कि आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी ने हिंदी साहित्य के इतिहास का पुनर्लेखन किया था। भारतीय संस्कृति और परंपरा के प्रति उनमें गहरी निष्ठा थी। भारतीय काव्यशास्त्र एवं चिंतन के महत्वपूर्ण विद्वान के रूप में उनका योगदान सदैव अविस्मरणीय रहेगा। अध्यक्षीय उद्बोधन डॉक्टर हरिमोहन बुधौलिया ने दिया। उन्होंने कहा कि आचार्य त्रिपाठी ने विद्यार्थियों में ऊर्ध्वगामी संभावनाओं को चरितार्थ करने पर बल दिया। उनमें गहरी साहित्यिक एवं आध्यात्मिक मेघा थी।

डॉ विभा दुबे ने आचार्य त्रिपाठी से जुड़े संस्मरण सुनाते हुए कहा कि आचार्य त्रिपाठी पुरातनता के साथ प्रगतिशीलता के पोषक थे। वे परिवारजनों के बीच गुरु के रूप में थे। उनकी शिक्षा आज भी हम लोगों के लिए पाथेय बनी हुई है। डॉ विवेक चौरसिया ने आचार्य त्रिपाठी पुस्तक गुरु महिमा पर चर्चा करते हुए कहा कि जिस पर गुरु की कृपा हो जाती है उसे देवत्व मिल सकता है। वरिष्ठ साहित्यकार डॉ शिव चौरसिया को अतिथियों द्वारा शॉल, श्रीफल एवं सम्मान राशि अर्पित कर उन्हें आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी सम्मान से अलंकृत किया गया।
इस दौरान श्री अमिताभ त्रिपाठी, श्री पद्मनाभ त्रिपाठी आदि सहित अनेक साहित्यकार, विभिन्न प्रान्तों के शोधकर्ता एवं आचार्य त्रिपाठी जी के परिवारजन उपस्थित थे। संगोष्ठी का संचालन एवं आभार प्रदर्शन डॉ जगदीश चंद्र शर्मा ने किया।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य