Skip to main content

सिंहभूम : अपने पूर्वजों पर गर्व करने का अवसर, अब तो आर्यों को बाहर का बतानेवाली किताबों को जला दिया जाए - डॉ. मयंक चतुर्वेदी


सिंहभूम : अपने पूर्वजों पर गर्व करने का अवसर
अब तो आर्यों को बाहर का बतानेवाली किताबों को जला दिया जाए -डॉ. मयंक चतुर्वेदी

यह दुर्भाग्‍यपूर्ण है कि तमाम नए एतिहासिक एवं पुरातात्‍विक शोध के आए निष्‍कर्षों के बाद भी आज भारत के कई विश्‍वविद्यालयों एवं राज्‍यों के निर्धारित अध्‍ययन पाठ्यपुस्‍तकों में यही पढ़ाया जा रहा है कि आर्य बाहर से आकर भारत में बसे थे। किंतु अब तक के अनेक अनुसंधानों ने यह सिद्ध कर दिया है कि आर्य शब्‍द का अर्थ श्रेष्‍ठ है और कभी कोई आर्य जैसी पहचान रखनेवाला व्‍यक्‍ति, समाज या समूह भारत के बारह से नहीं आया बल्‍कि भारत के श्रेष्‍ठजन (आर्य) ही भारतीय भू भाग से निकलकर संपूर्ण दुनिया में पहुंचे एवं वहां उन्‍होंने अपनी सनातन संस्‍कृति का जयघोष किया था, जिसके कि चिह्न विश्‍व भर में बिखरे हुए हैं। आज आश्‍चर्य है कि यह सत्‍य जानते हुए भी कई लोग इसे स्‍वीकार्य नहीं करना चाहते । ऐसे सभी वामपंथी एवं अन्‍य इतिहासकार जोकि इसे नहीं मान रहे, उन्‍हें हर हाल में समझना होगा कि वे अब तक गलत इतिहास पढ़ाकर बच्‍चों को दिग्भ्रमित कर रहे हैं । वे ऐसी पीढ़ी भी तैयार करने का अपराध कर रहे हैं, जिन्‍हें सत्‍य के आलोक के अभाव में अपने पूर्वजों पर कभी स्‍वाभिमान पैदा नहीं होगा।

एतिहासिक दृष्टि से पुरातात्‍विक शोध वर्तमान में बहुत आगे पहुंच चुका है। नए अनुसंधान आज भारत के लोगों को स्‍वयं के लिए वैज्ञानिक तथ्‍यों के आधार पर  गर्व अनुभूत करने का अवसर प्रदान कर रहे हैं। जल से सबसे पहले भूमि यदि विश्‍व में कहीं बाहर आई थी तो वह भारत भूमि थी। नए साक्ष्‍यों ने बहुत ही गहराई के साथ यह सिद्ध कर दिया है कि अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया से 20 करोड़ साल पूर्व भारत में वह जीवन की अद्भुत घटना घटी है, जिसमें मनुष्‍य एवं पृथ्‍वी पर रहनेवाले समस्‍त जीव-जन्‍तुओं के विकासक्रम का आरंभ संभव हो सका था। झारखंड में सिंहभूम जिला समुद्र से बाहर आने वाला दुनिया का पहला जमीनी हिस्सा होना पाया गया है। 320 करोड़ साल पहले यह हिस्सा एक भूखंड के रूप में समुद्र की सतह से ऊपर था। वर्तमान में यह क्षेत्र उत्तर में जमशेदपुर से लेकर दक्षिण में महागिरी तक, पूर्व में ओडिशा के सिमलीपाल से पश्चिम में वीर टोला तक फैला हुआ दिखाई देता है।

इस नई खोज का अर्थ यह हुआ कि अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के क्षेत्र सबसे पहले समुद्र से बाहर नहीं निकले, यह मान्‍यता इस नए शोध के बाद ध्‍वस्‍त हो गई है। इसलिए पृथ्‍वी पर जीवन भी सबसे पहले भारत भूमि पर शुरू होता हुआ दिखाई देता है। वास्‍तव में आज सिंहभूम क्षेत्र के उनसे भी 20 करोड़ साल पहले बाहर आ जाने के साक्ष्‍यों देखने के बाद कहना होगा कि भारत को लेकर वैदिक संस्‍कृति में जिस जीवन की पहली किरण का उल्‍लेख है, वह पूरी तरह भारतीय भू भाग के संदर्भ में सत्‍य-सनातन है ।

अब हम कुछ आगे चलते हैं, डॉ. शशिकांत भट्ट की पुस्तक 'नर्मदा वैली : कल्चर एंड सिविलाइजेशन' नर्मदा घाटी की सभ्यता के बारे में विस्तार बताती  है। इस किताब के अनुसार नर्मदा किनारे मानव खोपड़ी का पांच से छः लाख वर्ष पुराना जीवाश्म मिला है। यहां डायनासोर के अंडों के जीवाश्म पाए गए हैं, इसके साथ ही दक्षिण एशिया में सबसे विशाल भैंस के जीवाश्म भी यहीं मिले हैं।  इस घाटी में महिष्मती (महेश्वर), नेमावर, हतोदक, त्रिपुरी, नंदीनगर जैसे कई प्राचीन नगर उत्खनन से उनके 2200 वर्ष से लेकर पांच हजार से भी अधिक पुराने होने के प्रमाण देते हैं। जबलपुर से लेकर सीहोर, होशंगाबाद, बड़वानी, धार, खंडवा, खरगोन, हरसूद तक लगातार जारी उत्खनन कार्यों ने ऐसे अनेक पुराकालीन रहस्यों को उजागर किया है जो यह स्‍पष्‍ट करते हैं कि यहां सभ्यता का काल अति प्राचीन है।

हम भारतीयों के लिए गर्व करने की बात यह भी है कि जिस व्‍यवस्‍थ‍ित सिन्‍धु सभ्‍यता की बात की जाती है, वह भी आज दुनिया में सबसे प्राचीनतम सिद्ध हो चुकी है। आईआईटी खड़गपुर और भारतीय पुरातत्व विभाग के वैज्ञानिकों ने सिन्‍धु घाटी सभ्यता की प्राचीनता को लेकर बता दिया है कि अंग्रेजों के अनुसार 2600 ईसा पूर्व की यह नगर सभ्यता नहीं या कुछ इतिहासकारों के अनुसार पांच हजार पांच सौ साल पुरानी नहीं है, बल्कि यह तो आठ हजार साल पुरानी सभ्‍यता थी। यह सिन्‍धु सभ्यता मिस्र और मेसोपोटामिया की सभ्यता से भी पहले की है। मिस्र की सभ्यता 7,000 ईसा पूर्व से 3,000 ईसा पूर्व तक रहने के प्रमाण मिलते हैं, जबकि मोसोपोटामिया की सभ्यता 6500 ईसा पूर्व से 3100 ईसा पूर्व तक अस्तित्व में थी यह माना गया है ।

हमने देखा है कि कैसे मैक्स मूलर, विलियम हंटर और लॉर्ड टॉमस बैबिंग्टन मैकॉले इन तीनों ने भारत के इतिहास का विकृतिकरण किया । अंग्रेंजों द्वारा लिखित इतिहास में कहा गया कि भारतीय इतिहास का आरंभ  सिन्‍धु घाटी की सभ्यता से होता है। सिन्‍धु  घाटी के लोग द्रविड़ थे यानी वे आर्य नहीं थे। आर्यों ने बाहर से आकर सिंधु घाटी की सभ्यता को नष्ट किया और फिर अपने राज्य को स्थापित किया । आर्यों और दस्तुओं (द्रविड़) के निरंतर संघर्ष चलते रहे।  अंग्रेजों ने अपनी बात सिद्ध करने के लिए ''आर्यन इन्वेजन थ्योरी '' गढ़ी । दुख इस बात का है कि उनका साथ भारत के वामपंथी इतिहासकारों ने भी दिया और उनकी हां में हां मिलाते हुए ये भी कहने लगे कि संभवत: आर्य साइबेरिया, मंगोलिया, ट्रांस कोकेशिया, स्कैंडेनेविया अथवा मध्य एशिया से भारत आए थे। अंग्रेजों ने बार-बार यह बताया कि सिंधु लोग द्रविड़ थे और वैदिक लोग आर्य थे।

कुलमिलाकर अंग्रेजों ने यह सिद्ध करने का प्रयास किया, जैसे हम इस देश में आए हैं वैसे ही समय-समय पर कई लोग बाहर से यहां आते गए अपनी कॉलोनियां बसाते गए और फिर यहीं बस गए । हर बार जो बाहर से आया उसने पहले से सत्‍ता पर काबिज समूह से संघर्ष किया, उसे पीछे ढकेला और समस्‍त शक्‍तियां अपने हाथ में ले ली। अर्थात् हम (अंग्रेज) जोकि बाहरी हैं कोई नए नहीं, ऐसा तो यहां भारत में सदियों से होता आ रहा है। आखिर अंग्रेजों ने इस जूठ को क्‍यों गढ़ा और क्‍यों भारत के वामपंथी इतिहासकारों ने इसमें उनका साथ दिया ? जब इसकी गहराई में जाते हैं तो स्‍थ‍िति पूरी तरह से साफ हो जाती है।

वस्‍तुत: अंग्रेज और उनके पिछलग्‍गू इतिहासकार यह स्‍वीकार्य नहीं करना चाहते थे कि भारत की सभ्‍यता एवं संस्‍कृति विश्‍व की ऐसी संमृद्ध ज्ञान आधारित सबसे प्राचीनतम व्‍यवस्‍था है जिसमें नगरीय संस्‍कृति की संपूर्णता समाहित है। जब ग्रीस, रोम और एथेंस का दुनिया में नामोनिशान नहीं था। तब दुनिया भर में सिंधू घाटी की सभ्‍यता इकलौती विश्‍वस्‍तरीय नगरीय सभ्‍यता थी, जहां टाउन-प्लानिंग थी, स्वीमिंग पूल थे, भोजन की बड़ी-बड़ी रसोई थीं, बैठक के स्‍थान थे, कपड़े थे, चांदी और तांबें का उपयोग था । लोग शतरंज का खेल भी जानते थे और वे लोहे का उपयोग भी करते थे । यहां से प्राप्त मुहरों को सर्वोत्तम कलाकृतियों का दर्जा प्राप्त है, यानी कि इस सभ्‍यता में लोग कला पारखी भी थे।  

इस विवाद के बीच नए शोध कहते हैं कि आर्य आक्रमण भारतीय इतिहास के किसी कालखण्ड में घटित नहीं हुआ और ना ही आर्य तथा द्रविड़ नामक दो पृथक मानव नस्लों का अस्तित्व ही कभी धरती पर रहा है । डीनएनए गुणसूत्र पर आधारित शोध जिसे कि कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉं. कीवीसील्ड के निर्देशन में फिनलैण्ड के तारतू विश्वविद्यालय, एस्टोनिया में भारतीयों के डीनएनए गुणसूत्र पर आधारित करते हुए किया गया, यह सिद्ध करता है कि सारे भारतवासी गुणसूत्रों के आधार पर एक ही पूर्वजों की संतानें हैं । आर्य और द्रविड़ का कोई भेद गुणसूत्रों के आधार पर नहीं मिलता है और तो और जो अनुवांशिक गुणसूत्र भारतवासियों में पाए जाते हैं वे डीएनए गुणसूत्र दुनिया के किसी अन्य देश में नहीं पाए गए।

शोध में भारत, पाकिस्तान, बंगलादेश, श्रीलंका और नेपाल की जनसंख्या में विद्यमान लगभग सभी जातियों, उपजातियों, जनजातियों के लगभग 13000 नमूनों का परीक्षण किया गया । जिसका कि परिणाम यही कह रहा है कि भारतीय उपमहाद्वीप में चाहे वह किसी भी धर्म को मानने हों,  99 प्रतिशत समान पूर्वजों की संतानें हैं। शोध में पाया गया है कि तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, आन्ध्रप्रदेश जिन्हें पूर्व में द्रविड़ नस्ल का माना गया की समस्त जातियों के डीनएन गुणसूत्र तथा उत्तर भारतीय जातियों के डीएनए का उत्पत्ति-आधार गुणसूत्र एक समान है। अमेरिका में हार्वर्ड के विशेषज्ञों और भारत के विश्लेषकों ने भारत की प्राचीन जनसंख्या के जीनों के अध्ययन के बाद पाया कि सभी भारतीयों के बीच एक अनुवांशिक संबंध है। इससे यह सिद्ध होता है कि भारत में आर्य और द्रविड़ विवाद व्यर्थ है। उत्तर और दक्षिण भारतीय एक ही पूर्वजों की संतानें हैं।

अब जब ऑस्ट्रेलिया के पीटर केवुड शोध टीम की अगुआई करने वाले वैज्ञानिक जिन्‍होंने तीन देशों के आठ रिसर्चर्स के साथ  मिलकर सात साल तक कड़ी मेहनत से यह खोज निकाला है कि दुनिया में समुद्र से बाहर कोई द्वीप सबसे पहले बाहर आया था तो वह झारखंड का सिंहभूम क्षेत्र है।  तब यही कहना होगा कि मानव सभ्‍यता का विकास सबसे पहले यदि कहीं किसी भूमि पर हुआ है तो वह भारत की पवित्र भूमि है। भारत में अब तक जो लोग आर्य-द्रविड़ के द्वंद में कहीं फंसे हैं, उनके लिए भी यह समय अपने पूर्वजों पर गर्व करने का है और अपनी इतिहास की पुस्‍तकों में सत्‍य को स्‍थापित करने का भी । वे अब आत्‍मविश्‍वास से पूर्ण हो तथ्‍यों के साथ दुनिया को बताएं कि कैसे मानव जीवन एवं सभ्‍यता का विकास भारत से संपूर्ण विश्‍व तक पहुंचा है ।

लेखक फिल्‍म प्रमाणन बोर्ड एडवाइजरी कमेटी के पूर्व सदस्‍य एवं पत्रकार हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य