Skip to main content

मशरुम की खेती की ओर बढ़ रहा है किसानों का रुझान - कुलपति प्रो पांडेय

मशरुम की खेती की ओर बढ़ रहा है किसानों का रुझान - कुलपति प्रो पांडेय

जैवप्रौद्योगिकी के छात्रों को प्रायोगिक ज्ञान देने के लिए फील्ड में चल दिए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो पाण्डेय


उज्जैन : जैवप्रौद्योगिकी के छात्रों को प्रायोगिक ज्ञान प्रदान करने के उद्देश्य से कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय ने विश्वविद्यालय परिसर में भ्रमण करते हुए मशरुम की कई प्रजातियों की पारिस्थितिकी, जैवविविधता, पहचानने के लिए लक्षण तथा उनके उपयोग की जानकारी प्रदान की।
एक शैक्षिक प्रशासक का दायित्व अनुकूल शैक्षिणिक परिस्थितियों का निर्माण करता है। प्रशासक के गुणों की व्याख्या करते हुए पी. सी. रैन ने कहा है कि "जो घड़ी के लिए मुख्य: स्प्रिंग है, या मशीन के लिए पहिया है, या जहाज के लिए इंजन है, वही संस्था के लिए प्रशासक है"। प्रशासक मात्र प्रबंधक नहीं होता बल्कि वह एक ऐसा नेता है, जिसे संगठित करना, निरीक्षण करना एवं पथ प्रदर्शन करना होता है । इन सबका निर्वाह करने के लिए उनका व्यक्तित्व अत्यंत प्रभावशाली एवं प्रभावपूर्ण होना चाहिए। यह सभी बातें प्रमाणित होती है, विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय में, जिनमें एक अच्छे शैक्षिणिक प्रशासक के समस्त गुण विद्यमान है, जो एक प्रशासक के साथ-साथ कुशल शिक्षक भी है। ऐसे कई उदाहरण है, जब कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पाण्डेय विभागों के निरीक्षण करने हेतु निकलते हैं, तो वह एक प्रशासक के अंदर स्थित कुशल शिक्षक की अपनी भावना को रोक नहीं पाते और क्लासरूम में पहुंच जाते हैं, जहाँ वह चाक लेकर बच्चों को पढ़ाते हुए नज़र आते हैं।

प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्ययनशाला में बी एससी जैवप्रौद्योगिकी प्रथम सेमेस्टर के छात्रों से चर्चा करते समय उन्होंने कई बार छात्रों को विभिन्न विषयों पर अध्यापन एवं प्रायोगिक ज्ञान प्रदान किया । कुछ दिन पूर्व, प्रोफेसर पाण्डेय बी.एससी. (ओनर्स) जैवप्रौद्योगिकी के छात्रों को प्रायोगिक ज्ञान प्रदान कर रहे थे। उसी समय कुछ छात्रों ने उनसे फंगी (मशरुम) की कालोनी निर्माण, जैवविविधता, पारिस्थितिकी, लक्षणों से सम्बंधित कई प्रश्न पूछे तो उनके अंदर उपस्थित एक कुशल शिक्षक अपने आपको कैसे रोक सकता था। प्रशासनिक व्यस्तताओं के बीच भी उन्होंने छात्रों के साथ प्रायोगिक अध्ययन हेतु पैदल ही विश्वविद्यालय परिसर में भ्रमण करने का निर्णय लिया। विश्वविद्यालय परिसर में उन्होंने छात्रों को मशरुम के वास-स्थान, पारिस्थितिकी, अनुकूल तापमान, कालोनी निर्माण और जैव- विविधिता की जानकारी देते हुए विभिन्न प्रकार के मशरुम जैसे एगेरिकस, गैनोडर्मा, ऑरिक्युलरिया, ओएस्टर मशरुम आदि को पहचानने हेतु उनके लक्षणों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की।


कुलपति जी के कुशल शिक्षण से प्रेरित बी.एससी. जैवप्रौद्योगिकी प्रथम सेमेस्टर के छात्र कहते हैं कि कुलपति सर द्वारा दी गयी जानकारी को हम सभी छात्र अपनी प्रायोगिक रिकॉर्ड में लिखते है तथा उन्हीं से नए-नए प्रयोग करते रहते हैं।


यह सर्वविदित है कि प्रोफेसर पांडेय देश के एक प्रतिष्ठित कवक वैज्ञानिक है, अतः उनके द्वारा छात्रों को दी गयी जानकारी छात्रों के भविष्य के लिए अधिक उपयोगी होगी। प्रायोगिक भ्रमण के इस अवसर पर प्रोफेसर पाण्डेय ने बताया कि पिछले कुछ वर्षों से देश में किसानों का रुझान मशरुम की खेती के लिए बढ़ा है। मशरुम की खेती बेहतर आमदनी का जरिया बन सकती है। मशरुम में प्रोटीन, कार्बोहायड्रेट, खनिज लवण और विटामिन की भरपूर मात्रा होती है, जिसके कारण यह औद्योगिक उत्पादों के निर्माण हेतु अपना एक विशेष महत्त्व रखता है। इसके द्वारा मशरुम के पापड़, अचार, बिस्किट, टोस्ट, जैम, सेव, चकली आदि भोज्य पदार्थो का निर्माण किया जा सकता है।


प्रायोगिक भ्रमण के इस कार्यक्रम में कुलपति जी के साथ प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्ययनशाला के शिक्षकगण डॉ सलिल सिंह, डॉ अरविन्द शुक्ला, डॉ संतोष कुमार ठाकुर, डॉ शिवि भसीन, शोध छात्रा कुमारी पूर्णिमा त्रिपाठी एवं बी.एससी. जैवप्रौद्योगिकी प्रथम सेमेस्टर के छात्रा कुमारी छवि मैदान, कुमारी युक्ता लुल्ला, कुमारी चेल्सी पॉल तथा विभाग के अन्य छात्र एवं छात्राएं उपस्थित थे।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग