Skip to main content

विश्व अर्श दिवस - आलेख , इस अवसर पर शा. धन्वन्तरि आयुर्वेद महाविद्यालय, उज्जैन में शिविर आयोजित किया जाएगा

उज्जैन : आधुनिक समय में अनियमित जीवनशैली (आहार विहार) से उत्पन्न होने वाले रोगों में अर्श रोग (बवासीर) प्रमुख रोग हैं जो कि मल मार्ग में होता है। आयुर्वेद के ग्रंथों में इसका वर्णन सभी संहिताओं में मिलता है। अष्टांग आयुर्वेद में शल्य तंत्र के जनक आचार्य सुश्रुत ने अर्श रोग का वर्णन प्रमुखता से किया है। आचार्य ने अर्श रोग को शत्रु के समान कष्ट देने वाला बताया है। अर्श रोग को गुदामांसाकुर गुदकिलक के नाम से भी जाना जाता है। आधुनिक चिकित्सा पद्धति में इसको पाईल्स या हेमोरॉयड्स कहा जाता है। अर्श रोग को उत्पन्न करने वाले कारणों में गरिष्ठ भोजन करना, बासी भोजन, अधिक मद्यपान, एक जगह ज्यादा बैठना, समय पर भोजन ना करना, अपच होने पर भी भोजन करना गर्भावस्था में आनुवांशिक कारण आदि हैं।

अर्श के प्रमुख लक्षणों में गुदमार्ग में दर्द होना, मलत्याग में कठिनाई होना, कठिन मल होने पर रक्त आना, पेट फूलना, कब्ज रहना, खट्टी डकार आना, सिर दर्द बने रहना, भूख ना लगना मुख्य है।

आचार्य ने आयुर्वेद में अर्श रोग की चिकित्सा चार प्रकार से बताई है, जिसमें औषध क्षारकर्म, अग्निकर्म शस्त्र द्वारा चिकित्सा की जाती है। अर्श रोग के अल्प लक्षण होने पर आयुर्वेद चिकित्सा परामर्श अनुसार औषध चिकित्सा सफल होती है। जब अर्श मलमार्ग के बाहरी त्वचा में स्थित हो तब अग्निकर्म चिकित्सा की जाती है। जब अर्श रोग में मांसाकुर मलत्याग के समय मल मार्ग से बाहर आए और उनमें रक्त स्त्राव हो तब क्षारसूत्र चिकित्सा सर्वश्रेष्ठ होती है। क्षारसूत्र में धागे पर स्नुही क्षीर, अपामार्ग क्षार एवं हल्दी चूर्ण का लेप किया जाता है और इस औषध सिद्ध क्षारसूत्र से मांसान्कुर को बांध दिया जाता है, जिससे वह 7 दिन में स्वत: ही सूख कर गिर जाते हैं।

क्षारसूत्र चिकित्सा पद्धति में से होने वाले व्रण या घाव जल्दी ही भर जाते हैं और मल मार्ग में किसी प्रकार की क्षति नहीं होती आयुर्वेद की यह पद्धति एक निरापद चिकित्सा है।

अर्श रोग से बचाव हेतु दूध, छाछ, मठ्ठा , पुराना गेहूं व अन्न, गाय का घी हरी सब्जियां समय पर आहार एवं उचित निद्रा का सेवन करना चाहिए एवं भारी भोजन, अधिक तला हुआ मिर्च मसाले युक्त एवं मांसाहार, मैदा और बेसन से बने उत्पादों की सेवन नहीं करना चाहिए। 

इस अवसर पर शा. धन्वन्तरि आयुर्वेद महाविद्यालय, उज्जैन में शिविर आयोजित किया जाएगा।

आयुर्वेद अपनाएं व स्वस्थ रहें।

यह जानकारी प्राचार्य डॉ. जे. पी. चौरसिया एवं डॉ. दिवाकर पटेल विभागाध्यक्ष ने दी। उक्त शिविर कक्ष क्रमाक 17 एवं 25 में आयोजित होगा । सेवाए डॉ. दिवाकर पटेल एवं डॉ. दीपक नायक देंगे।

डॉ. दीपक नायक (एम.एस.)

शल्य चिकित्सक

शा. धन्वन्तरि आयुर्वेद महाविद्यालय उज्जैन

मो. 7898574236


डॉ. प्रकाश जोशी

मो. 9406606067

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह