Skip to main content

हमें अपने महान सेनानियों को याद करना चाहिए – श्री नागर

हमें अपने महान सेनानियों को याद करना चाहिए – श्री नागर 

विश्वविद्यालय में आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत हुआ वरिष्ठ स्वतंत्रता सेनानी श्री नागर का सम्मान एवं पुस्तक हिंदुस्तान का सफर का लोकार्पण


उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत माधवराव सप्रे स्मृति समाचार पत्र संग्रहालय एवं शोध संस्थान, भोपाल के सहयोग से आयोजित कार्यक्रम में वरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्री प्रेमनारायण नागर का सम्मान एवं राज्यसभा टीवी के पूर्व कार्यकारी निदेशक श्री राजेश बादल की पुस्तक हिंदुस्तान का सफर का विमोचन सम्पन्न हुआ। 9 अक्टूबर को हिंदी अध्ययनशाला, वाग्देवी भवन में हुए इस महत्वपूर्ण आयोजन के मुख्य अतिथि वरिष्ठ स्वतंत्रता सेनानी एवं कलमकार श्री प्रेमनारायण नागर, उज्जैन थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने की। विशिष्ट अतिथि माधवराव सप्रे समाचार पत्र संग्रहालय एवं शोध संस्थान, भोपाल के संस्थापक पद्मश्री श्री विजयदत्त श्रीधर एवं  विक्रम विश्वविद्यालय और रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जबलपुर के पूर्व कुलपति प्रो रामराजेश मिश्र थे। विषय प्रवर्तन कुलानुशासक एवं कला संकायाध्यक्ष प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने किया। 

संबोधित करते हुए वरिष्ठ स्वतंत्रता सेनानी श्री प्रेमनारायण नागर ने कहा कि आज़ादी का अमृत महोत्सव को मनाते हुए हमें अपने महान सेनानियों को याद करना चाहिए। आज के दौर में भारतीयता और नैतिकता का प्रसार आवश्यक है। श्री राजेश बादल ने अपनी पुस्तक के माध्यम से देश की प्रगति और विभिन्न स्थितियों को दर्शाया है। हमारा देश कहाँ था और अब वह कितनी प्रगति कर चुका है, इसका गौरव सभी को होना चाहिए। नई पीढ़ी के लिए यह पुस्तक महत्वपूर्ण उपलब्धि सिद्ध होगी।

कुलपति प्रो अखिलेशकुमार पांडेय ने कहा कि हमें अपने देश के इतिहास को जानना बहुत आवश्यक है। आजादी हमें कड़े संघर्ष के बाद मिली है। यदि हम अपने इतिहास को नहीं जानेंगे तो भविष्य की दिशा तय नहीं कर पाएंगे। युवाओं के बीच नई चेतना का संचार आवश्यक है। नई शिक्षा नीति में इस बात पर बल दिया गया है कि हम अपने इतिहास पुरुषों के संबंध में जानें। महात्मा गांधी तकनीकी के विरोधी नहीं थे। वे कहते थे कि लोगों का व्यवसाय छिन जाए, इस प्रकार का यंत्रीकरण उचित नहीं है। देश को निर्धनता से मुक्त करने के लिए समाज के सभी पक्ष मिलकर आगे आएँ। पत्रकारिता के सरोकार आज विराट होते चले जा रहे हैं।

पद्मश्री श्री विजयदत्त श्रीधर, भोपाल ने कहा कि सामाजिक सरोकारों के बिना पत्रकारिता संभव नहीं है। सकारात्मक पत्रकारिता से समाज और राष्ट्र का उद्धार होता है। आजादी का सफरनामा आसान नहीं रहा है। महात्मा गांधी ने किसान, मजदूर और महिलाओं की पीड़ा को अपने अंदर आत्मसात किया था। नई पीढ़ी को प्रेरणा देने के लिए स्वतंत्रता संघर्ष के अज्ञात महानायकों का स्मरण किया जाना चाहिए। महान पत्रकार और साहित्यकार माधवराव सप्रे हिंदी नवजागरण के पुरोधा थे। आजादी के आंदोलन के कई आयाम रहे हैं। देश की आत्मा को जगाने का काम माधवराव सप्रे ने किया। सप्रे जी ने हिंदी के समालोचना शास्त्र, निबंध और कहानी विधा के विकास में अविस्मरणीय योगदान दिया। वे अर्थशास्त्र के कोशकार तथा अनेक ग्रंथों के अनुवादक थे। 

पूर्व कुलपति प्रो रामराजेश मिश्र ने कहा कि समाचार पत्र समाज की धड़कन को मूर्त करते हैं। रिपोर्ताज जैसी विधा वर्तमान में हाशिए पर जा रही है। अखबारों में इस प्रकार का लेखन धीरे धीरे कम हो रहा है। कलमकार श्री राजेश बादल ने रिपोर्ताज विधा को जीवित रखा है। 

पुस्तक के लेखक श्री राजेश बादल, नई दिल्ली ने कहा कि देश की आजादी की सूरत का हमें पता होना चाहिए। देश की आलोचना करना आसान है, लेकिन पहले के शासकों ने हमें किस तरह गुलाम बना रखा था, उसे याद करना चाहिए। देश की तरक्की और रफ्तार का ब्यौरा देने की कोशिश इस पुस्तक में की गई है।

हिंदी विभागाध्यक्ष एवं कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने कहा की राष्ट्र को जगाने और आजादी के आंदोलन में अग्निधर्मा पत्रकारों और साहित्यकारों ने अविस्मरणीय योगदान दिया। उनमें माधवराव सप्रे, माखनलाल चतुर्वेदी, गणेशशंकर विद्यार्थी और बालकृष्ण शर्मा नवीन प्रमुख हैं। माधवराव सप्रे समाचार पत्र संग्रहालय एवं शोध संस्थान भारत का गौरव ज्ञान तीर्थ है। इसका लाभ शोधकर्ता और विद्यार्थी प्राप्त करें। 

श्री राजेश बादल की पुस्तक हिंदुस्तान का सफर का विमोचन वरिष्ठ स्वतंत्रता सेनानी श्री प्रेमनारायण नागर, कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पांडेय, पद्मश्री श्री विजयदत्त श्रीधर, पूर्व कुलपति प्रो रामराजेश मिश्र एवं कुलानुशासक डॉ शैलेंद्र कुमार शर्मा ने किया। वरिष्ठ स्वतंत्रता सेनानी श्री प्रेम नारायण नागर को शॉल, सूत की माला और साहित्य अर्पित कर उनका सम्मान कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय, कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा आदि ने किया। गौरव मेमोरियल फाउंडेशन, भोपाल की ओर से नेहरू युवा केंद्र संगठन के वरिष्ठ अधिकारी श्री अरविंद श्रीधर ने स्वतंत्रता सेनानी श्री नागर को शॉल, श्रीफल एवं सूत की माला अर्पित कर उन्हें सम्मानित किया। इस अवसर पर माधवराव सप्रे संग्रहालय एवं शोध संस्थान, भोपाल की निदेशक डॉ मंगला अनुज ने अतिथियों को माधवराव सप्रे सार्द्धशती स्मारक ग्रंथ एवं महात्मा गांधी की पुस्तक हिंद स्वराज की प्रति भेंट की।

अतिथियों का स्वागत कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा, डीएसडब्ल्यू डॉ एस के मिश्रा, डॉ जगदीश चंद्र शर्मा, डॉ गणपत अहिरवार, डॉ विश्वजीतसिंह परमार, डॉ डी. डी. बेदिया, डॉ संग्राम भूषण, श्रीमती हीना तिवारी आदि ने किया। 

आयोजन में वरिष्ठ साहित्यकार डॉ शिव चौरसिया, श्रीराम दवे, श्री ब्रजकिशोर शर्मा, श्री महेंद्र ज्ञानी, श्री अरविंद श्रीधर, श्री निरुक्त भार्गव, श्री सुशील शर्मा, डॉ विवेक चौरसिया, डॉ अजय शर्मा, श्री कमल जोशी, श्री राजू यादव, श्री जसवंत सिंह आंजना आदि सहित बड़ी संख्या में प्रबुद्धजनों, साहित्यकारों, गणमान्य नागरिकों एवं अध्येताओं ने भाग लिया। 

संचालन डॉ जगदीश चंद्र शर्मा ने किया और आभार प्रदर्शन डीएसडब्ल्यू डॉ सत्येंद्र किशोर मिश्रा ने किया।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य