Skip to main content

गांधीजी की शिक्षाएँ आज भी प्रासंगिक व उपयुक्त है - डाॅ.हरिसिंह पाल



 स्वतंत्रता प्राप्ति को पचहत्तर वर्ष पूर्ण हो रहे हैं। राष्ट्रपिता गांधीजी की शिक्षाएँ आज भी प्रासंगिक और उपयुक्त है।ये विचार राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के संरक्षक तथा नागरी लिपि परिषद नई दिल्ली के महामंत्री डॉ. हरिसिंह पाल ने व्यक्त किये । राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के तत्वावधान में महात्मा गांधी जयंती के अवसर पर 'राष्टूपिता महात्मा गांधी और हिंदी के योगदान परिप्रेक्ष्य में' विषय पर मुख्य अतिथि के रूप में वे अपना उद्बोधन दे रहे थे । राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के मुख्य संयोजक प्राचार्य डॉ. शहाबुद्दीन नियाज मुहम्मद शेख, पुणे,महाराष्ट्र ने इस राष्ट्रीय आभासी गोष्ठी की अध्यक्षता की। डॉ. हरिसिंह पाल ने आगे कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अपने जीवन में स्वयं पर प्रयोग कर के सिद्धांतों को प्रतिपादित किया था । सत्याग्रह, अहिंसा और निर्भीकता के बल पर उन्होंने विदेशी सत्ता पर विजय प्राप्त की थी । पूरा विश्व आज भी विश्वशांति के लिए गांधीवाद से प्रेरणा लेता है।

         मुख्य वक्ता प्रो.डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा, कुलानुशासक, विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन ने कहा कि महात्मा गांधी ने स्वराज्य प्राप्ति के प्रमुख औजारों में राष्ट्रभाषा हिंदी को महत्त्व दिया था । उन्होंने स्वभाषा को स्वदेशाभिमान के साथ जोडा था । गांधीजी ने स्वराज्य प्राप्ति के लिए अंग्रेजी के गैर जरूरी मोह से मुक्ति का आह्वान करते हुए मातृभाषा की महिमा को प्रतिष्ठित किया । उनकी दृष्टि में राष्ट्रभाषा के बिना राष्ट्रवादी नहीं हुआ जा सकता । देशी भाषा की उपेक्षा को उन्होंने तत्कालीन शिक्षा प्रणाली का सबसे बडा दोष माना है। हिंदी को लेकर देखा गया उनका सपना भारतीय संविधान में प्रतिबिंबित हुआ है।

         विशिष्ट अतिथि तथा राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना की मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष श्रीमती सुवर्णा अशोक जाधव, मुंबई ने कहा कि पूरे राष्ट्रीय आंदोलन को गांधीजी ने हिंदी से जोड दिया था। उनका कहना था कि राष्ट्रीय व्यवहार में हिंदी को काम में लाना देश की उन्नति के लिए आवश्यक है।

      विशिष्ट अतिथि डॉ.अनसूया अग्रवाल, महासमुंद, छत्तीसगढ ने अपने मंतव्य में कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के व्यक्तित्व ने हर किसी को जीवन के किसी न किसी मोड पर प्रभावित किया है। उन्होंने हर इन्सान के अंतर्मन को जगाया है l

विशिष्ट वक्ता व राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के महासचिव डॉ. प्रभु चौधरी ने प्रतिपादित किया कि सत्य और अहिंसा राष्ट्रपिता गांधीजी के बीज भाव है । वे सत्यपथ के अनुगामी थे । गांधी जीवन दर्शन का मुख्य बिंदु था भारतीय भाषाओं के प्रति समानता का भाव । विशिष्ट वक्ता डॉ. बाळासाहेब तोरस्कर, ठाणे, महाराष्ट्र ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधीजी को राष्ट्रभाषा के रूप में कोई दूसरी भाषा मान्य नहीं थी । वे हिंदी, हिंदुस्तानी के प्रबल समर्थक थे।

     प्राचार्य डॉ. शहाबुद्दीन नियाज मुहम्मद शेख, पुणे,महाराष्ट् ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि वास्तव में गांधीजी उस दिन को देखने के लिए उत्सुक थे जब कश्मिर से लेकर कन्याकुमारी तक सभी भारतीय जन हिंदी को समझे व हिंदी बोलने में गर्व का अनुभव कर सके। उनका मानना था कि हिंदी की प्रगति से ही सभी भारतीय भाषाओं की उन्नति होगी। गांधीजी के लिए हिंदी राष्ट्रीय अस्मिता थी। वे कहते थे कि हिंदी के अतिरिक्त दूसरा कुछ भी मुझे इस दुनिया में प्यारा नहीं है। वे मातृभाषा और राष्ट्रभाषा के प्रति बेहद आग्रही थे ।

    इस राष्ट्रीय आभासी संगोष्ठी में डॉ. सविता इंगले, पुणे, महाराष्ट्र ने स्वागत भाषण दिया । राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष प्रा. डॉ. भरत शेणकर, अकोले महाराष्ट्र ने इस गोष्ठी का प्रास्तविक किया। प्रा.रोहिणी बालचंद डावरे, अकोले, महाराष्ट्र ने गोष्ठी का संचालन किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक