Skip to main content

जरूरी है कि सभी राष्ट्र प्रेमी हिंदी को अपनाएं - श्री शुक्ल

 जरूरी है कि सभी राष्ट्र प्रेमी हिंदी को अपनाएं - श्री शुक्ल

वैश्विक संदर्भ में हिंदी : संवर्धन और संभावनाएं पर हुई विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी

उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन की हिंदी अध्ययनशाला में हिंदी दिवस के अवसर पर अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। यह संगोष्ठी वैश्विक संदर्भ में हिंदी : संवर्धन और संभावनाएं पर केंद्रित थी। आयोजन की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने की। मुख्य अतिथि प्रवासी साहित्यकार श्री सुरेश चंद्र शुक्ल शरद आलोक, ओस्लो, नॉर्वे एवं विशिष्ट अतिथि कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक थे। आयोजन में हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा, प्रो हरिमोहन बुधौलिया, प्रो प्रेमलता चुटैल, प्रो गीता नायक, डॉक्टर जगदीश चंद्र शर्मा आदि ने विषय से जुड़े विविध पहलुओं पर विचार व्यक्त किए। आयोजन में उपलब्धिपूर्ण कार्यकाल के एक वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को शॉल, श्रीफल एवं स्मृति चिन्ह अर्पित कर उनका सम्मान किया गया।

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने कहा कि भारत विविधताओं का देश है, जहां कई भाषाएं बोली जाती हैं। हिंदी आज विश्व भाषा बन गई है। हिंदी और देश के गौरव को भुलाना उचित नहीं है। मातृभाषा के माध्यम से ही वास्तविक शिक्षा प्राप्त की जा सकती है और उस शिक्षा के माध्यम से संस्कृति का ज्ञान प्राप्त होता है। उच्च स्तरीय ग्रंथ हिंदी में आने चाहिए। विश्वविद्यालय में प्रारंभ किए गए कृषि पाठ्यक्रम द्विभाषी माध्यम से संचालित किए जाएँगे। हिंदी में विज्ञान लेखन को प्रोत्साहित किया जाएगा। हमारा प्रयास होगा कि अभियांत्रिकी, कृषि, टेक्नोलॉजी में श्रेष्ठ किताबें हिंदी माध्यम से तैयार करवाई जाएं। श्री सुरेश चंद्र शुक्ल शरद आलोक, ओस्लो, नॉर्वे ने वेब पटल के माध्यम से संबोधित करते हुए कहा कि सभी राष्ट्र प्रेमी हिंदी को अपनाएं, यह जरूरी है। हिंदी से जुड़े अपने कर्तव्य का निर्वाह करते हुए हम इसका गौरव बढ़ा सकते हैं। स्केंडनेवियन देशों में हिंदी के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। नॉर्वे से स्पाइल दर्पण एवं विश्वा जैसी हिंदी पत्रिकाएं प्रकाशित होती हैं। नई पीढ़ी को हिंदी के माध्यम से संस्कारित करने की आवश्यकता है। कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक ने कहा कि वैश्विक संदर्भ में हिंदी आगे बढ़ रही है। हिंदी के समक्ष क्षेत्रीय भाषाओं की चुनौतियां हैं। किंतु हमें प्रयास करना होगा कि उनके बीच परस्पर आदान प्रदान हो। लिपि एवं भाषा की दृष्टि से भारत का इतिहास अत्यंत गौरवपूर्ण है। हिंदी विभागाध्यक्ष एवं कुलानुशासक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि हिंदी को विश्व भाषा बनाने में देश दुनिया के असंख्य गैर हिंदी भाषियों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। यह आज जन भाषा से विश्व भाषा तक विस्तार ले चुकी है। सरलता, सहज ग्राह्यता और सर्व समावेशी स्वरूप के कारण यह दुनिया को जोड़ने का काम कर रही है। हिंदी कंप्यूटिंग के कारण कई कल्पनाएं हकीकत में बदलने लगी है। टेक्स्ट टू स्पीच ऑन स्पीच टू टेक्स्ट जैसे महत्वपूर्ण उपकरण हिंदी में उपलब्ध हो गए हैं। अनुवाद कार्य में तेजी आई है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की बदौलत हिंदी में ऐसे बहुत सारे काम करना आसान हो गए हैं, जो पहले असंभव माने जाते थे।

प्रो प्रेमलता चुटैल ने कहा कि हिंदी के प्रसार में अर्थव्यवस्था की बहुत बड़ी भूमिका रही है। भारत बहुभाषी देश है। हिंदी उसे एक सूत्र में बांधती है। भाषा के माध्यम से संस्कृति की विशेषताएं दूसरों तक पहुंचती हैं। अतः हमें हिंदी के माध्यम से श्रेष्ठ मूल्यों और परंपराओं का प्रसार करना चाहिए। प्रो गीता नायक ने कहा कि हिंदी को महत्व न मिलने के कारण देश में भाषाई समस्या का सामना करना पड़ता है। हिंदी इस देश की संपर्क भाषा है। स्वतंत्रता आंदोलन के दौर में यह भाषा आगे बढ़ी। विज्ञापन और जनसंचार माध्यमों में हिंदी का प्रयोग बढ़ रहा है। हमें इसकी शक्ति को पहचानना होगा। प्रो हरिमोहन बुधौलिया ने हिंदी में हस्ताक्षर का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि भाषा केवल भाषा नहीं है। वह संस्कृति की संवाहिका होती है। आज बड़ी संख्या में गैर हिंदी भाषी हिंदी की सेवा कर रहे हैं। डॉ जगदीश चंद्र शर्मा ने कहा कि हिंदी को विचार और विमर्श की भाषा बनाने का प्रयत्न वर्तमान की सबसे बड़ी आवश्यकता है। इसके अभाव में हिंदी सामान्य जन की आकांक्षाओं की पूर्ति नहीं कर पाएगी। शोधार्थी रणधीर अथिया ने बुंदेली लोकगीत सुना कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया।
अतिथियों का स्वागत डीएसडब्ल्यू डॉ सत्येंद्र किशोर मिश्रा, डॉ कानिया मेड़ा, डॉ शैलेंद्र भारल, डॉ डीडी बेदिया, डॉ गणपत अहिरवार, डॉ संग्राम भूषण, जसवंत सिंह आंजना आदि ने किया।
कार्यक्रम का संचालन डॉ जगदीश चंद्र शर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन श्रीमती हीना तिवारी ने किया। वाग्देवी भवन, देवास रोड पर आयोजित इस संगोष्ठी में शिक्षाविदों, हिंदीप्रेमियों, साहित्यकारों, शोधार्थी एवं विद्यार्थियों ने सहभागिता की।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य