Skip to main content

गहरी संकल्प शक्ति और समर्पण की आवश्यकता है शोध में – कुलपति प्रो पांडेय

गहरी संकल्प शक्ति और समर्पण की आवश्यकता है शोध में – कुलपति प्रो पांडेय 

इक्कीसवीं सदी में शोध की स्थिति और नवीन संभावनाओं पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन संपन्न

उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय की हिंदी अध्ययनशाला और गांधी अध्ययन केंद्र में इक्कीसवीं सदी में शोध की स्थिति और नवीन संभावनाओं पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन वाग्देवी भवन के संगोष्ठी सभागार में किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने की। मुख्य अतिथि डॉ हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर के हिंदी एवं संस्कृत विभागाध्यक्ष प्रो आनंद प्रकाश त्रिपाठी थे। विशिष्ट अतिथि लोक संस्कृतिविद डॉक्टर पूरन सहगल, मनासा, नीमच एवं डॉक्टर श्रीनिवास शुक्ल सरस, सीधी थे। विषय प्रवर्तन विक्रम विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष एवं कुलानुशासक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने किया। 


कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने संबोधित करते हुए कहा कि श्रेष्ठ शोध के लिए गहरी संकल्प शक्ति और समर्पण की आवश्यकता होती है। शोधकर्ता मानविकी और समाज विज्ञान के क्षेत्र में शोध की नई संभावनाओं को लेकर सजग हों। भारतीय परिवेश में संस्कृति, परिवार और समाज जीवन की जड़ों से जुड़ा रहना बेहद जरूरी है। 

प्रो आनन्द प्रकाश त्रिपाठी, सागर ने कहा कि शोध करते हुए नएपन की ओर रूझान होना चाहिए। वर्तमान में अनुसंधान में  बढ़ती शॉर्टकट की संस्कृति पर अंकुश लगाने की जरूरत है। एक शोधकर्ता को स्वयं का निंदक बनना चाहिए, तभी अनुसंधान में गुणवत्ता लाना संभव है। प्रो त्रिपाठी ने खंडहर, दरवाजा, कवि और स्त्री शीर्षक कविताओं का पाठ किया।   


डॉ पूरन सहगल, मनासा ने कहा कि लोक संस्कृति के क्षेत्र में शोध कार्य के लिए अनेक प्रकार की समस्याएं आती हैं, किंतु एक श्रेष्ठ शोधकर्ता निरंतर परिश्रम और साधना से इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल कर सकता है। उन्होंने शोधकर्ताओं को इस क्षेत्र में नई तकनीक के इस्तेमाल का आह्वान किया।

बघेली संस्कृति के विशेषज्ञ डॉ श्रीनिवास शुक्ला सरस, सीधी ने कहा कि वर्तमान दौर में लोक साहित्य एवं संस्कृति की अनेक विधाएं विलुप्ति की ओर जा रही हैं। उनके संरक्षण एवं संवर्धन के लिए शोधकर्ताओं को आगे आना होगा।

प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि शोध एक अविराम प्रक्रिया है। ज्ञान क्षेत्र के विस्तार के लिए शोधार्थी नवीन विषय क्षेत्रों की ओर प्रवृत्त हों। लोक एवं जनजातीय साहित्य एवं संस्कृति के क्षेत्र में शोध की असीम संभावनाएं हैं। इन शोध क्षेत्रों से जुड़ी चुनौतियां को पहचान कर शोधार्थी वैज्ञानिक ढंग से अनुसंधान कार्य करें।

रतलाम के प्रो प्रकाश उपाध्याय ने पावस पर केंद्रित सुमधुर गीत सुनाया। कार्यक्रम में डॉ जगदीश चंद्र शर्मा, डॉ प्रतिष्ठा शर्मा, हृदयनारायण तिवारी, दमोह आदि ने भी विचार व्यक्त किए। आयोजन में प्रत्यक्ष एवं आभासी पटल पर उपस्थित विभिन्न प्रांतों के अध्येताओं और शोधकर्ताओं ने भाग लिया।

कार्यक्रम का संचालन डॉ जगदीश चंद्र शर्मा एवं डॉ संदीप पांडे ने किया। आभार प्रदर्शन डॉ प्रकाश उपाध्याय, रतलाम ने किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

चौऋषिया दिवस (नागपंचमी) पर चौऋषिया समाज विशेष, नाग पंचमी और चौऋषिया दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति और अर्थ: श्रावण मास में आने वा ली नागपंचमी को चौऋषिया दिवस के रूप में पुरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "चतुरशीतिः" से हुई हैं जिसका शाब्दिक अर्थ "चौरासी" होता हैं अर्थात चौऋषिया समाज चौरासी गोत्र से मिलकर बना एक जातीय समूह है। वास्तविकता में चौऋषिया, तम्बोली समाज की एक उपजाति हैं। तम्बोली शब्द की उत्पति संस्कृत शब्द "ताम्बुल" से हुई हैं जिसका अर्थ "पान" होता हैं। चौऋषिया समाज के लोगो द्वारा नागदेव को अपना कुलदेव माना जाता हैं तथा चौऋषिया समाज के लोगो को नागवंशी भी कहा जाता हैं। नागपंचमी के दिन चौऋषिया समाज द्वारा ही नागदेव की पूजा करना प्रारम्भ किया गया था तत्पश्चात सम्पूर्ण भारत में नागपंचमी पर नागदेव की पूजा की जाने लगी। नागदेव द्वारा चूहों से नागबेल (जिस पर पान उगता हैं) कि रक्षा की जाती हैं।चूहे नागबेल को खाकर नष्ट करते हैं। इस नागबेल (पान)से ही समाज के लोगो का रोजगार मिलता हैं।पान का व्यवसाय चौरसिया समाज के लोगो का मुख्य व्यवसाय हैं।इस हेतू समाज के लोगो ने अपन