Skip to main content

गहरी संकल्प शक्ति और समर्पण की आवश्यकता है शोध में – कुलपति प्रो पांडेय

गहरी संकल्प शक्ति और समर्पण की आवश्यकता है शोध में – कुलपति प्रो पांडेय 

इक्कीसवीं सदी में शोध की स्थिति और नवीन संभावनाओं पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन संपन्न

उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय की हिंदी अध्ययनशाला और गांधी अध्ययन केंद्र में इक्कीसवीं सदी में शोध की स्थिति और नवीन संभावनाओं पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन वाग्देवी भवन के संगोष्ठी सभागार में किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने की। मुख्य अतिथि डॉ हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर के हिंदी एवं संस्कृत विभागाध्यक्ष प्रो आनंद प्रकाश त्रिपाठी थे। विशिष्ट अतिथि लोक संस्कृतिविद डॉक्टर पूरन सहगल, मनासा, नीमच एवं डॉक्टर श्रीनिवास शुक्ल सरस, सीधी थे। विषय प्रवर्तन विक्रम विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष एवं कुलानुशासक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने किया। 


कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने संबोधित करते हुए कहा कि श्रेष्ठ शोध के लिए गहरी संकल्प शक्ति और समर्पण की आवश्यकता होती है। शोधकर्ता मानविकी और समाज विज्ञान के क्षेत्र में शोध की नई संभावनाओं को लेकर सजग हों। भारतीय परिवेश में संस्कृति, परिवार और समाज जीवन की जड़ों से जुड़ा रहना बेहद जरूरी है। 

प्रो आनन्द प्रकाश त्रिपाठी, सागर ने कहा कि शोध करते हुए नएपन की ओर रूझान होना चाहिए। वर्तमान में अनुसंधान में  बढ़ती शॉर्टकट की संस्कृति पर अंकुश लगाने की जरूरत है। एक शोधकर्ता को स्वयं का निंदक बनना चाहिए, तभी अनुसंधान में गुणवत्ता लाना संभव है। प्रो त्रिपाठी ने खंडहर, दरवाजा, कवि और स्त्री शीर्षक कविताओं का पाठ किया।   


डॉ पूरन सहगल, मनासा ने कहा कि लोक संस्कृति के क्षेत्र में शोध कार्य के लिए अनेक प्रकार की समस्याएं आती हैं, किंतु एक श्रेष्ठ शोधकर्ता निरंतर परिश्रम और साधना से इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल कर सकता है। उन्होंने शोधकर्ताओं को इस क्षेत्र में नई तकनीक के इस्तेमाल का आह्वान किया।

बघेली संस्कृति के विशेषज्ञ डॉ श्रीनिवास शुक्ला सरस, सीधी ने कहा कि वर्तमान दौर में लोक साहित्य एवं संस्कृति की अनेक विधाएं विलुप्ति की ओर जा रही हैं। उनके संरक्षण एवं संवर्धन के लिए शोधकर्ताओं को आगे आना होगा।

प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि शोध एक अविराम प्रक्रिया है। ज्ञान क्षेत्र के विस्तार के लिए शोधार्थी नवीन विषय क्षेत्रों की ओर प्रवृत्त हों। लोक एवं जनजातीय साहित्य एवं संस्कृति के क्षेत्र में शोध की असीम संभावनाएं हैं। इन शोध क्षेत्रों से जुड़ी चुनौतियां को पहचान कर शोधार्थी वैज्ञानिक ढंग से अनुसंधान कार्य करें।

रतलाम के प्रो प्रकाश उपाध्याय ने पावस पर केंद्रित सुमधुर गीत सुनाया। कार्यक्रम में डॉ जगदीश चंद्र शर्मा, डॉ प्रतिष्ठा शर्मा, हृदयनारायण तिवारी, दमोह आदि ने भी विचार व्यक्त किए। आयोजन में प्रत्यक्ष एवं आभासी पटल पर उपस्थित विभिन्न प्रांतों के अध्येताओं और शोधकर्ताओं ने भाग लिया।

कार्यक्रम का संचालन डॉ जगदीश चंद्र शर्मा एवं डॉ संदीप पांडे ने किया। आभार प्रदर्शन डॉ प्रकाश उपाध्याय, रतलाम ने किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक