Skip to main content

शिक्षण संस्थाओं के मध्य संवाद कायम करने की जरूरत है - कुलपति प्रो पांडेय

शिक्षण संस्थाओं के मध्य संवाद कायम करने की जरूरत है - कुलपति प्रो पांडेय 

विक्रम विश्वविद्यालय और भोज मुक्त विश्वविद्यालय के मध्य हुआ एम ओ यू

विक्रम विश्वविद्यालय परिसर में बनेगा भोज मुक्त विश्वविद्यालय के क्षेत्रीय केंद्र का भवन


उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन और मध्यप्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय, भोपाल के मध्य एमओयू संपन्न हुआ। इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय के कार्यपरिषद कक्ष में आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पांडेय ने की। मुख्य अतिथि मध्यप्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति प्रोफेसर जयंत सोनवलकर थे।  विशिष्ट अतिथि विक्रम विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक थे। शिक्षण, अनुसंधान और अकादमिक गतिविधियों के विस्तार के लिए किए गए इस एमओयू पर हस्ताक्षर दोनों कुलपतियों ने किए। 

आयोजन में अपने विचार व्यक्त करते हुए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पांडेय ने कहा कि वर्तमान दौर में विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों के बीच संवाद कायम करना जरूरी है। आज आवश्यकता इस बात की है कि सभी विश्वविद्यालय मिलकर रिसोर्स शेयरिंग के लिए प्रयास करें। विक्रम विश्वविद्यालय मध्यप्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय, भोपाल के साथ मिलकर विभिन्न संसाधनों और सुविधाओं के विकास के लिए कार्य करेगा। विद्वान राजा भोज पर विक्रम विश्वविद्यालय में महत्वपूर्ण शोध कार्य हुआ है। उनके द्वारा वास्तु एवं विज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में किए गए कार्यों को लेकर शिक्षण एवं अनुसंधान कार्य को प्रोत्साहित किया जाएगा। इस दिशा में विक्रम विश्वविद्यालय भोज मुक्त विश्वविद्यालय के साथ कार्य करेगा। 

भोज मुक्त विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति प्रोफेसर जयंत सोनवलकर ने कहा कि विक्रम विश्वविद्यालय महाकाल और कालिदास की भूमि पर स्थित है, जो गौरव की बात है। उज्जैन ज्ञान - विज्ञान का केंद्र है, जिसका संस्कृति के जानकारों की दृष्टि में  महत्वपूर्ण स्थान है। इसका नाम ही ब्रांड है। विक्रम विश्वविद्यालय से एमओयू के माध्यम से जुड़ना भोज मुक्त विश्वविद्यालय के लिए गौरव की बात है। विक्रम विश्वविद्यालय में भोज मुक्त विश्वविद्यालय के क्षेत्रीय केंद्र के लिए दो मंजिला भवन निर्मित करवाया जाएगा। आने वाले दौर में विक्रम विश्वविद्यालय में भोज मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा स्मार्ट वीडियो कांफ्रेंसिंग सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। मध्य प्रदेश के विश्वविद्यालयों के बीच विक्रम विश्वविद्यालय प्रथम बन गया है, जिनके साथ यह एमओयू किया गया है। भोज मुक्त विश्वविद्यालय अनेक नवीन पाठ्यक्रमों के साथ आगे बढ़ रहा है। निरन्तर स्तरीय रीडिंग मैटेरियल निरंतर बनाया जा रहा है। विश्वविद्यालय के पास श्रेष्ठ लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम है, जिसका लाभ शिक्षक एवं विद्यार्थी ले सकते हैं। 

इस अवसर पर कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक ने संबोधित करते हुए कहा कि भोज मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा अनेक नवीन पाठ्यक्रम प्रारंभ किए गए हैं, जिनका लाभ प्रदेश के अनेक विद्यार्थी ले रहे हैं। विक्रम विश्वविद्यालय के साथ हुआ यह एमओयू अनेक दृष्टियों से महत्वपूर्ण सिद्ध होगा।

अतिथियों का स्वागत प्रोफेसर एच पी सिंह, कुलानुशासक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा, डीएसडब्ल्यू डॉ सत्येंद्र किशोर मिश्रा, प्रोफेसर उमा शर्मा, डॉ कानिया मेड़ा, डॉक्टर राज बोरिया, डॉ गणपत अहिरवार, डॉ संग्राम भूषण, डॉ सलिल सिंह, डॉ जितेश पोरवाल, डॉ संतोष ठाकुर, डॉ दीपा द्विवेदी, श्री ऋषि शर्मा, डॉ. अमित ठाकुर, प्रकाश चौरसिया, रोशनी पंवार, प्रीति पचौरी, नरेश परमार, संदीप गोसर आदि ने किया।

कार्यक्रम का संचालन भोज मुक्त विश्वविद्यालय के क्षेत्रीय निदेशक डॉ जगदीश चंद्र शर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन क्षेत्रीय उपनिदेशक डॉ डी डी बेदिया ने माना।


Comments

मध्यप्रदेश खबर

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग