Skip to main content

राष्ट्र को जोड़ने की अद्भुत शक्ति है संस्कृत में - जिलाधीश श्री सिंह

राष्ट्र को जोड़ने की अद्भुत शक्ति है संस्कृत में - जिलाधीश श्री सिंह 

संस्कृत, ज्योतिर्विज्ञान एवं वेद अध्ययनशाला में विद्यारम्भ कार्यक्रम सम्पन्न 


उज्जैन : संस्कृत, ज्योतिर्विज्ञान एवं वेद अध्ययनशाला, विक्रम विश्वविद्यालय में महामारी के कारण दीर्घकाल से अवरुद्ध साक्षात् अध्ययन- अध्यापन की परम्परा का प्रारम्भ, उच्चशिक्षा विभाग से प्राप्त दिशानिर्देशों के परिपालन में विद्यारम्भ कार्यक्रम की आयोजना के माध्यम से  किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि ज़िलाधीश श्री आशीष सिंह ने कार्यक्रम के उद्घाटन सम्बोधन में कहा कि संस्कृत में राष्ट्र को जोड़ने की अद्भुत शक्ति है। अन्य भाषाओं का परस्पर क्षेत्रीय विरोध हो सकता है, परन्तु संस्कृत की स्वीकार्यता सार्वभौमिक और सार्वजनीन है। संस्कृत वैश्विक ज्ञान-विज्ञान की जननी है। वसुधैव कुटुम्बकम् की भावना का जनमानस में संचार संस्कृत के अध्ययन से ही सम्भव हो सकता है । 

विश्वविद्यालय में हो रहे कार्यों की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में जो नवाचार की परम्परा विकसित हो रही है, उसके सुखद परिणाम सामने आ रहे हैं । विश्वविद्यालय के सकारात्मक प्रयासों से विक्रम कीर्ति मन्दिर, इन्क्युबेशन सेंटर अब विक्रम विश्वविद्यालय की धरोहर हो गए हैं । पुरातत्व संग्रहालय का पुनर्निर्माण भी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के माध्यम से किया जाएगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रो. अखिलेश कुमार पाण्डेय ने कहा कि संस्कृत में निहित जीवन मूल्यों के प्रचार - प्रसार की आवश्यकता है। वेदों और भारतीय दर्शनों में निहित  अत्याधुनिक विज्ञान के रहस्य विदेशों में उद्घाटित हो रहे हैं । भारतीय विज्ञान के विद्वानों को भी वेद और भारतीय दर्शनों के विज्ञान को दुनिया के सामने लाने का प्रयास करना चाहिए।

कुलसचिव डॉ. प्रशान्त पुराणिक ने संस्कृत और संस्कृत साहित्य के अध्ययन को प्रत्येक भारतीय हेतु आवश्यक बताया। उन्होंने कहा कि संस्कृत में जीवन की समस्त समस्याओं के समाधान उपलब्ध हैं।

कार्यक्रम में सन्निधि कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा, कार्यपरिषद सदस्य डॉ गोविंद गंधे एवं डीएसडब्ल्यू डॉ सत्येंद्र किशोर मिश्रा की रही।

कार्यक्रम में विभिन्न अध्ययनशालाओं के विभागाध्यक्ष, शिक्षक विद्यार्थी एवं शोधार्थी उपस्थित थे।

संस्कृत, ज्योतिर्विज्ञान एवं वेद अध्ययनशाला के अध्यक्ष डॉ. राजेश्वर शास्त्री मुसलगॉंवकर ने स्वागत भाषण एवं कार्यक्रम की पीठिका प्रस्तुत की। 

संचालन डॉ.गोपाल कृष्ण शुक्ल तथा आभार प्रदर्शन  डॉ.विष्णु प्रसाद मीणा ने किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक