Skip to main content

मानवता के प्रसार की दृष्टि से अविस्मरणीय है संतों का संदेश – प्रो शर्मा ; महाराष्ट्र के शिखर संतों का ज्ञान एवं गुरु परंपरा पर राष्ट्रीय आभासी संगोष्ठी सम्पन्न

मानवता के प्रसार की दृष्टि से अविस्मरणीय है संतों का संदेश – प्रो शर्मा

महाराष्ट्र के शिखर संतों का ज्ञान एवं गुरु परंपरा पर राष्ट्रीय आभासी संगोष्ठी सम्पन्न

प्रतिष्ठित राष्ट्रीय संस्था राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसका विषय महाराष्ट्र के शिखर संतों का ज्ञान एवं गुरु परंपरा था। आभासी पटल पर मुख्य अतिथि श्री विलासराव देशमुख, मुंबई महाराष्ट्र थे। विशिष्ट वक्ता विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के हिंदी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा, प्राचार्य डॉक्टर शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे, श्री दिलीप चव्हाण, मुंबई, श्री बाला साहब तोरस्कर मुंबई, डॉ प्रभु चौधरी, डॉ सुरेखा मंत्री, यवतमाल थे। अध्यक्षता श्रीमती सुवर्णा जाधव, मुंबई ने की। मुख्य अतिथि के रूप में श्री विलासराव देशमुख, मुंबई महाराष्ट्र ने कहा कि ज्ञानेश्वर जी अपनी स्वतंत्र बुद्धि और गुरु भक्ति के लिए जाने जाते हैं। संत ज्ञानेश्वर महाराष्ट्र के एक अनमोल रत्न हैं। श्रोताओं की प्रार्थना, मराठी भाषा के अभिमान, गीता के स्तवन, श्री कृष्ण और अर्जुन का अकृत्रिम स्नेह इत्यादि विषयों ने ज्ञानेश्वर को विशेष बना दिया है। संत ज्ञानेश्वर महाराष्ट्र के सांस्कृतिक और परमार्थिक क्षेत्र के 'न भूतो न भविष्यति' जैसे बेजोड़ व्यक्तित्व एवं अलौकिक चरित्र हैं।

विशिष्ट अतिथि विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के कुलानुशासक एवं हिंदी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि महाराष्ट्र के सभी संतों का संदेश मानवता के प्रसार की दृष्टि से अविस्मरणीय है। संत तुकड़ो जी शांति, समन्वय और परस्पर प्रेम के उद्गायक थे। उन्होंने राष्ट्र भक्ति को ईश्वर भक्ति के समान महत्त्व दिया। वे हिंद के पुत्रों से अपने-अपने मत और पंथ छोड़कर भारत मत पर चलने का आह्वान करते हैं। भक्ति के साथ-साथ सामाजिक चेतना पर उन्होंने विशेष बल दिया। उनकी वाणी में अनेक जीवन मूल्य दिखाई देते हैं। वे सारे संसार को मोती की माला में पिरोने पर विश्वास रखते थे। उनके पास स्वानुभूत दृष्टि थी और उन्होंने अपने पूरे जीवन में हृदय की पवित्रता और किसी के लिए भी मन में द्वेषभाव न रखने का पाठ पढ़ाया। अध्यक्षता कर रहीं श्रीमती सुवर्णा जाधव, मुंबई ने कहा कि महाराष्ट्र संतों की भूमि है। अनेक संतों के विचार आज भी समाज में प्रासंगिक बने हुए हैं, उनमें से ज्ञानेश्वर और राष्ट्र संत तुकड़ो जी प्रमुख हैं। मनी नाही भाव म्हणे देवा मला पाव, अशान देव काही भेटायचा नाही रे। देव काही बाजारचा भाजीपाला नाही रे। ऐसे आसान शब्दों में भक्ति सिखलायी। उन्होंने अंधश्रद्धा निर्मूलन का काम किया। ज्ञानेश्वर माऊली ने ज्ञानेश्वरी लिखी। उन्होंने सरल शब्दो में भागवत धर्म समझाया। उन्होंने पसायदान भी लिखा। विशिष्ट अतिथि श्री दिलीप चव्हाण, मुंबई, महाराष्ट्र ने कहा कि भारत के महाराष्ट्र को संतों की भूमि कहा जाता है। महाराष्ट्र की धरती पर कई महान संतों ने जन्म लिया, जिनमें एक थे संत ज्ञानेश्वर। वे संत होने के साथ-साथ एक महान कवि भी थे। महान संत ज्ञानेश्वर जी ने संपूर्ण महाराष्ट्र राज्य का भ्रमण कर लोगों को ज्ञान भक्ति से परिचय कराया एवं समता और समभाव का उपदेश दिया। तेरहवीं सदी के महान संत होने के साथ-साथ वे महाराष्ट्र संस्कृति के प्रवर्तकों में से भी एक माने जाते थे।

मुख्य वक्ता डॉ. शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे महाराष्ट्र ने कहा कि संत ज्ञानेश्वर मुख्य संतों में से एक हैं। ज्ञानेश्वरी गीता पर आधारित है। ज्ञानेश्वर ने केवल 15 वर्ष की उम्र में ही गीता पर मराठी में ज्ञानेश्वरी नामक भाष्य की रचना करके जनता की भाषा में ज्ञान की झोली खोल दी। उन्होंने गीता को समाज के सामने रखा। संत ज्ञानेश्वर जी ने अपने ज्ञान तत्व को समझाया है। शांत रस की प्रधानता है साथ ही ज्ञानेश्वरी में कर्म के महत्त्व को बताया है। विशिष्ट वक्ता डॉ सुरेखा मंत्री, महाराष्ट्र ने कहा कि संत ज्ञानेश्वर जी के प्रचंड साहित्य में कहीं भी, किसी के विरुद्ध परिवाद नहीं है। क्रोध, रोष, ईर्ष्या, मत्सर का कहीं लेश मात्र भी नहीं है। समग्र ज्ञानेश्वरी क्षमाशीलता का विराट प्रवचन है। विशिष्ट अतिथि श्री बालासाहेब तोरस्कर, महाराष्ट्र में कहा कि संत परंपरा में गुरु परंपरा प्राचीन समय से चली आ रही है। संत तुकड़ोजी समाज के प्रति आस्था रखते थे। भारत के प्रति उनका अगाध प्रेम था, देश के प्रति प्रेम भावना था। तुकड़ोजी ने सामूहिक प्रार्थना पर बल दिया। संपूर्ण विश्व में उनकी प्रार्थना पद्धति अतुलनीय थी।

गोष्ठी का प्रारंभ डॉ. मुक्ता कान्हा कौशिक, रायपुर, छत्तीसगढ़ के सरस्वती वंदना हे शारदे मां हे शारदे मां से हुआ। स्वागत उद्बोधन राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष डॉ. भरत शेणकर ने दिया।

 
प्रस्ताविक भाषण में राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के महासचिव डॉ प्रभु चौधरी ने लिए कहा कि संत तुकड़ोजी महाराज के कार्य और उनकी ख्याति दूर-दूर तक है। महात्मा गांधी द्वारा सेवाग्राम आश्रम में उन्हें निमंत्रित किया गया, जहां वे लगभग एक महीने रहे। उसके बाद तुकडो़जी ने सांस्कृतिक और आध्यात्मिक कार्यक्रमों द्वारा समाज में जनजागृति का काम प्रारंभ कर दिया। महासचिव डॉ प्रभु चौधरी के जन्म दिवस पर काव्य गोष्ठी आयोजन के प्रतिभागियों में प्रथम कुमुद शर्मा गुवाहाटी, द्वितीय सुनीता गर्ग पंचकूला, तृतीय भुनेश्वरी साहू छत्तीसगढ़ को सम्मान पत्र वितरित किया गया।
इस आभासी गोष्ठी में अनेक शिक्षाविद विद्वत जन उपस्थित थे। आभार डॉ अरुणा दुबे, महाराष्ट्र ने व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन प्राध्यापिका रोहिणी डावरे, अकोले महाराष्ट्र ने किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक