Skip to main content

विश्व लिपि के संदर्भ में देवनागरी एक वैज्ञानिक लिपि - डाॅ.शहाबुद्दीन शेख


आज वैश्विक स्तर पर लगभग चार सौ लिपियाँ प्रचलित हैं,परंतु इन समस्त लिपियों में देवनागरी को सर्वाधिक वैज्ञानिक लिपि होने का सम्मान प्राप्त है।इस आशय का प्रतिपादन नागरी लिपि परिषद,नई दिल्ली के कार्याध्यक्ष प्राचार्य डाॅ.शहाबुद्दीन नियाज मुहम्मद शेख,पुणे,महाराष्ट्र ने किया।राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना व नागरी लिपि परिषद नई दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में 'नागरी लिपि:वैज्ञानिकता के परिप्रेक्ष में'इस विषय पर आयोजित आभासी राष्ट्रीय गोष्ठी में वे अध्यक्षीय मंतव्य दे रहे थे।डाॅ.शहाबुद्दीन ने आगे कहा कि स्वर और व्यंजनों की पर्याप्तता व क्रमबद्धता, अक्षरात्मकता, सरलता, सुगमता, सुंदरता, स्पष्टता, कलात्मकता, भ्रमहीनता, सर्वसमावेशकता, लचीलापन आदि गुणों के कारण देवनागरी लिपि ने संविधान सम्मत राष्ट्रलिपि के आगे विश्व लिपि तक की अपनी यात्रा सफल की है।आज एक आदर्श लिपि के रूप में नागरी लिपि सर्वमान्य हो चुकी है।मुख्य अतिथि तथा नागरी लिपि परिषद,नई दिल्ली के महामंत्री डाॅ.हरिसिंह पाल ने अपने उद्बोधन में कहा कि नागरी लिपि बहुत प्राचीन है।प्राप्त शिलालेखों से पता चलता है कि नागरी का प्रचलन हजारों वर्षों से चल रहा है ।क्या?क्यो? और कैसे? का उत्तर विज्ञान देता है।देवनागरी में क्या?क्यों?केसै?के उत्तर देने की पूर्ण क्षमता है।
हिंदी परिवार,इंदौर के संस्थापक अध्यक्ष हरेराम वाजपेयी ने कहा कि नागरी में जितना है,उतना रोमन या अन्य लिपियों में कदापि नहीं है।मध्यभारत हिंदी साहित्य समिति का नागरी प्रकोष्ठ देवनागरी के प्रचार प्रसार में अमूल्य योगदान कर रहा है।
श्रीमती सुवर्णा जाधव,मुंबई ने कहा कि आचार्य विनोबा भावे जी देवनागरी लिपि को विश्वलिपि के रूप में देखना चाहते थे।नागरी में प्रत्येक वर्ण की सुनिश्चित ध्वनि है।
डाॅ.मुक्ता कान्हा कौशिक,रायपुर छ.ग. ने कहा कि नागरी एक आदर्श लिपि है।देवनागरी का सर्वप्रथम प्रयोग सातवी सदी में गुजरात के जयभट्ट के शिलालेख में पाया गया है।
डाॅ.सुरेखा मंत्री,यवतमाळ,महाराष्ट्र ने कहा कि नागरी लिपि के वर्णों की बनावट ही वैज्ञानिक ढंग से हुई है,जो निस्संदेह निर्दोष है।ब्राह्मी लिपि की उत्तराधिकारिणी होने से समस्त आधुनिक भारतीय लिपियों से नागरी की समानता है।
डाॅ.राजलक्ष्मी कृष्णन,चेन्नई ने कहा कि,लिपिविहीन बोलियों के लिए नागरी लिपि बहुत काम आ सकती है।राष्ट्रीय एकता की दृष्टि से नागरी अत्यंत उत्तम लिपि है।
राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के महासचिव डाॅ.प्रभु चौधरी ने कहा कि देवनागरी लिपि भारतीय भाषाओं के मध्य सामंजस्य की भूमिका निभाती आ रही है।
इस अवसर पर सुरेशचन्द्र शुक्ल,ओस्लो,नाॅर्वे,बाळासाहेब तोरस्कर,ठाणे,महाराष्ट्र,श्रीम. ज्योति तिवारी,इंदौर,श्री दिलिप चौधरी,नांदेड,श्रीम.दीप्ति शर्मा व विभा पाराशर,भोपाल और प्रभा वीरथरे,गुरूग्राम ने अपने विचार प्रस्तुत किये।गोष्ठी का शुभारंभ ज्योति तिवारी ने सरस्वती वंदना से किया।

डाॅ.प्रभु चौधरी,महासचिव ने स्वागत भाषण दिया।डाॅ.रश्मि चौबे,गाजियाबाद ने प्रस्तावना में नागरी लिपि की वैज्ञानिकता पर प्रकाश डाला।डाॅ.रश्मि चौबे के जन्मदिन की स्क्रीन श्रीमती पूर्णिमा कौशिक ने प्रस्तुत की।प्रस्तुत गोष्ठी में डाॅ.रश्मि चौबे को'नागरी सम्मान' से विभूषित किया गया।मंच संचालन श्रीमती पूर्णिमा कौशिक,रायपुर ने किया तथा डाॅ.शिवा लोहारिया,जयपुर ने सभी को धन्यवाद दिया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

केबिनेट मंत्री का मिला दर्जा निगम, मंडल, बोर्ड तथा प्राधिकरण के अध्यक्षों को, उपाध्यक्षों को मिला राज्य मंत्री का दर्जा

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 29, 2021 - मध्यप्रदेश शासन ने निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त अध्यक्षों को केबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश जारी कर दिये हैं। केबिनेट मंत्री का दर्जा उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। इसी प्रकार निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को राज्य मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश भी जारी हो गये हैं। यह भी संबंधित नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। मध्यप्रदेश राज्य शासन ने बुधवार, 29 दिसम्बर 2021 को श्री शैलेन्द्र बरूआ मध्यप्रदेश पाठ्य-पुस्तक निगम, श्री शैलेन्द्र शर्मा मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड, श्री जितेन्द्र लिटौरिया मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड, श्रीमती इमरती देवी मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम लिमिटेड, श्री एंदल सिंह कंषाना मध्यप्रदेश स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड, श्री गिर्राज दण्डोतिया मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम, श्री रणवीर जाटव संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम लिमिटेड, श्री जसवंत