Skip to main content

विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन में पार्थेनियम (गाजरघास) उन्मूलन पर अंतरराष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन


उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा 16-22 अगस्त 2021 तक पार्थेनियम (गाजरघास) प्रबंधन सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है, जिसका शुभारम्भ 16/8/2021 को किया गया था। इसके अंतर्गत आज दिनांक 21/08/2021 को पार्थेनियम (गाजरघास) नियंत्रण के लिए सूक्ष्मजीवIणुकीय विधियों पर अंतराष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया जिसमे देश एवं विदेश के लगभग 400 व्यक्तियों ने सहभागिता की। इस कार्यक्रम का उद्देश्य किसानों को गाजरघास के दुष्परिणाम एवं नियंत्रण के लिए उपयोगी वैज्ञानिक विधियों से परिचित करना था। 

विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन की सूक्ष्मजैविकी अध्ययनशाला, वनस्पतिकी अध्ययनशाला, प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्धयनशाला तथा पर्यावरण प्रबंधन अध्ययनशाला के सयुक्त प्रयासों के द्वारा पार्थेनियम (गाजरघास) प्रबंधन में सूक्ष्मजीवो की भूमिका-उपयोगिता एवं चुनौतियां विषय पर अंतराष्ट्रीय   वेबिनार का आयोजन दिनांक 21/08/2021 को किया गया, जिसमें देश एवं विदेश से लगभग 400 व्यक्तियों ने सहभागिता की। पार्थेनियम (गाजरघास) फूलने वाले पौधों का एक वंश है जो आस्टेरेसी कुल में आते है। अमेरिका से भारत आयी गाजरघास के कारण फसलें बर्बाद हो रही है तथा किसान एवं आम नागरिक अस्थमा, एलर्जी, और साँस सम्बंधित कई बीमारियों से ग्रसित हो रहे है। अतः गाजरघास का प्रभावी वैज्ञानिक नियंत्रण आवश्यक है। इसी उद्देश्य से विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा गाजरघास के प्रबंधन सप्ताह का आयोजन दिनांक 16 से 22 अगस्त तक किया जा रहा है। गाजरघास के नियंत्रण हेतु 21/08/2021 को आयोजित अंतरराष्ट्रीय वेबिनार में अध्यक्षीय उद्बोधन में प्रोफेसर अखिलेश कुमार पांडेय, कुलपति विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन ने बताया की गाजरघास में पार्थेनिम नामक जहरीला पदार्थ होता है। जो भी उसके संपर्क में आता है। उसके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है, तथा गाजरघास की अधिक मात्रा फसलों को ख़राब करती है। अतः इसके नियंत्रण हेतु वैज्ञानिक उपाय किया जाना आवश्यक है। अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार में प्रथम मुख्य वक्ता डॉ रेखा शुक्ला, वैज्ञानिक ग्विंनेट जॉर्जिया, यू.एस.ए. ने गाजरघास नियंत्रण के लिए माएको हर्विसाइड जैवीय  विधियों पर प्रकाश डाला। डॉ शुक्ला ने बताया की स्क्लेरोटियम रॉल्फ़सी के द्वारा गाजरघास का नियंत्रण किया जा सकता है । 


                    कार्यक्रम के द्वितीय मुख्य वक्ता डॉ अजय कुमार सिंह अनुसन्धान निर्देशक ऐ जी बायोसीस्टम हैदराबाद ( तेलंगाना) ने फंगल फाइकोटॉक्सिन का उपयोग गाजरघास नियंत्रण करने हेतु जानकारी प्रदान की। डॉ सिंह ने गाजरघास नियंत्रण की भौतिक एवं रासायनिक विधियों का भी उल्लेख किया। अंतराष्ट्रीय वेबिनार के तीसरे प्रमुख वक्ता डॉ संजय सक्सेना थापर अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी सस्थान पटियाला, पंजाब ने सूक्ष्म जीवों बायोपेस्टिसाइड के उपयोग द्वारा गाजर के नियंत्रण विधियों पर उदबोधन दिया। डॉ सक्सेना बताया ने कि रासायनिक नियंत्रण हेतु उपयोग किये जाने वाले रसायन हानिकारक होते हैं। अतः गाजरघास नियंत्रण के लिए बायोपेस्टिसाइड अधिक उपयोगी एवं पर्यावरण के अनुकूल होते हैं।

                      अंतराष्ट्रीय वेबिनार में प्रोफेसर लता भट्टाचार्य विभागाध्यक्ष प्राणिकी एवं जैवप्रौद्योगिकी अध्ययनशाला ने अतिथियों का स्वागत स्वगतभाषण द्वारा किया। इसके बाद प्रोफेसर डीएम कुमावत विभागाध्यक्ष पर्यावरण प्रबंधन अध्ययनशाला द्वारा अतिथियों का परिचय दिया गया। कार्यक्रम का संचालन प्रोफेसर अलका व्यास विभागाध्यक्ष सूक्ष्म जैवविज्ञान अध्ययनशाला द्वारा किया गया। अतिथियों का आभार डॉ सुधीर कुमार जैन विभागाध्यक्ष वनस्पतिकी अध्ययनशाला द्वारा माना गया।

 अंतराष्ट्रीय वेबिनार के आयोजक सचिव डॉ अरविन्द शुक्ल, डॉ चित्रलेखा कड़ेल एवं डॉ  शिवी भसीन थे। इस अवसर पर डॉ प्रीति दास, डॉ सलिल सिंह, डॉ जगदीश शर्मा, डॉ संतोष कुमार ठाकुर, डॉ स्मिता सोलंकी, डॉ मुकेश वाणी, डॉ पराग दलाल, डॉ गरिमा शर्मा एवं कुमारी पूर्णिमा त्रिपाठी उपस्थित थे। 

कार्यक्रम में विक्रम विश्वविद्यालय के कुलानुशासक प्रोफेसर शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने बताया कि गाजरघास जैसे हानिकारक पौधों के नियंत्रण हेतु जनजागृति अभियान का चलाया जाना पार्थेनियम (गाजरघास) प्रबंधन सप्ताह का आयोजन का मुख्य उद्देश्य है, जिसे भौतिक, रसायनिक एवं जैवीय विधियों के द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग