Skip to main content

सभी प्रकार के बदलाव के मुख्य वाहक हैं युवा – कुलपति प्रो पांडेय ; विक्रम विश्वविद्यालय में उल्लास के साथ मनाया गया स्वाधीनता दिवस

सभी प्रकार के बदलाव के मुख्य वाहक हैं युवा – कुलपति प्रो पांडेय 

विक्रम विश्वविद्यालय में उल्लास के साथ मनाया गया स्वाधीनता दिवस


उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में स्वाधीनता दिवस उल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर आयोजित समारोह में कुलपति प्रो. अखिलेश कुमार पांडेय द्वारा ध्वजारोहण किया गया। उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि अनादि शिक्षा स्थली और महाकाल की पावन धरा पर सभी सुधीजनों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई एवं अभिनंदन करता हूँ। यह वर्ष आजादी के अमृत महोत्सव का वर्ष है, इसकी विशेष बधाई देता हूँ। आज का दिन इस देश के नए सपनों, नए संकल्पों को साकार करने के लिए कुर्बानी देने वाले महान सेनानियों का स्मरण कराता है। अमर वीरों ने आजादी की मशाल को जलाये रखने के लिए अपना सब कुछ समर्पित कर दिया था। ऐसे असंख्य अमर शहीदों को मैं विश्वविद्यालय परिवार की ओर से श्रद्धासुमन अर्पित करता हूँ। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर विश्वविद्यालय में अनेक आयोजन किये जा रहे हैं। भारत को आजाद कराने के लिए सामान्य जनता और किसानों से लेकर आदिवासी समुदाय और रणबाकुंरों ने अपना सब कुछ अर्पित कर दिया था। अनेक वैज्ञानिकों, साहित्यकारों और पत्रकारों ने अपना सर्वस्व न्यौछावर किया। 


सभी प्रकार के बदलावों के मुख्य वाहक युवा होते हैं। इतिहास गवाह है कि सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और वैज्ञानिक बदलाव के सूत्रधार युवा रहे हैं। शिक्षा के माध्यम से मानव संसाधन को मानव पूंजी में परिवर्तित किया जा सकता है। वर्तमान दौर में विश्वविद्यालय के परंपरागत पाठ्यक्रमों में बदलाव आवश्यक है। भारत को दुनिया में सांस्कृतिक क्षेत्र में एक महाशक्ति बनाने के लिए तैयार होना होगा। संस्कृत वैदिक काल में विज्ञान और तकनीकी की भाषा थी। भारतीय सभ्यता के विकास में संस्कृत का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। वर्तमान में संस्कृत के प्रसार के लिए व्यापक प्रयास आवश्यक है। हमारी राष्ट्रभाषा हिंदी के माध्यम से अधुनातन ज्ञान - विज्ञान के अध्ययन और अनुसंधान की संभावनाओं को लेकर हमें कार्य करना होगा।

विश्वविद्यालय के विभिन्न विभाग, संगोष्ठियों, प्रतियोगिताओं, नृत्य संगीत आदि के माध्यम से आजादी के अमृत महोत्सव को उल्लास से मना रहे हैं। यह सिलसिला वर्ष भर चलता रहेगा। विश्वविद्यालय में नई कार्य संस्कृति की दिशा में हम लोग आगे बढ़ रहे हैं। विश्वविद्यालय के सभी अंग मिलकर इस समग्र विकास के लिए नई कार्य संस्कृति में अपना पूर्ण सहयोग देने के लिये तत्पर हों। 


विक्रम विश्वविद्यालय विकास के नए सोपानों पर निरंतर गतिशील है। नैक द्वारा ‘ए’ ग्रेड की उपलब्धि के बाद सम्पूर्ण विकास के साथ-साथ शैक्षिक गुणवत्ता वृद्धि के लिए सभी दिशाओं में यह विश्वविद्यालय गतिशील है। नैक द्वारा मूल्यांकन के लिए अगले चरण की तैयारियाँ अंतिम दौर में है।

विश्वविद्यालय में गोपनीय एवं परीक्षा भवन का निर्माण 5 करोड़ की लागत से पूर्ण  कराया गया जिसका पिछले दिनों उद्घाटन हुआ है। एसओईटी के लिए पूर्व के भवन के पीछे पर्याप्त सुविधा सम्पन्न नवीन भवन का निर्माण पूर्णता की ओर है। हाल ही में पीएच. डी. उपाधि के लिये प्रवेश परीक्षा का आयोजन कर बड़ी संख्या में शोधार्थियों का प्रवेश करवाया गया है। कई प्रान्तों के विद्यार्थी यहां शोध कार्य के लिये आए हैं। एंटी प्लैगेरिज्म सॉफ्टवेयर के माध्यम से शोध में गुणवत्ता वृद्धि के व्यापक प्रयास किये जा रहे हैं। छात्रों के लिए 125 कक्ष युक्त नवीन छात्रावास भवन पूर्णता की ओर है।

वर्तमान सत्र में विभिन्न पाठ्यक्रमों में छात्र बड़ी संख्या में प्रवेश ले रहे हैं।  विश्वविद्यालय के विभिन्न पाठ्यक्रमों में अधिकाधिक प्रवेश के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। नए पाठ्यक्रमों के अन्तर्गत विधि, कृषि, शारीरिक शिक्षा, विज्ञान, कम्प्यूटर विज्ञान, जीव विज्ञान, कला, समाज विज्ञान, इंजीनियरिंग आदि से जुड़े 180 से अधिक यूजी, पीजी, सटिफिकेट और डिप्लोमा पाठ्यक्रम इसी सत्र से प्रारम्भ किये गये हैं। विविध ज्ञानानुशासनों से जुड़े इन पाठ्यक्रमों और केंद्रों के माध्यम से विद्यार्थियों में व्यवसायोन्मुखी कौशल संवर्धन होगा। अध्यापन से लेकर परीक्षा परिणामों तक यह विश्वविद्यालय पूरे प्रदेश में अग्रगण्य बना हुआ है। हमारे पूर्व विद्यार्थी आज देश दुनिया में अलग अलग क्षेत्रों में अपना योगदान दे रहे हैं। विश्वविद्यालय द्वारा इन्क्यूबेशन सेंटर के माध्यम से रोजगार एवं कौशल संवर्द्धन की दिशा में महत्वपूर्ण प्रयास प्रारम्भ कर दिये गये हैं।

विश्वविद्यालय की विभिन्न अध्ययनशालाओं एवं परिसर में सुनियोजित ढंग से वृक्षारोपण एवं संरक्षण का कार्य किया जा रहा है इसमें जन सहयोग भी प्राप्त हो रहा है। 16 वां गाजरघास जागरूकता सप्ताह दिनांक 16 अगस्त से हम प्रारम्भ करने जा रहे है जो 22 अगस्त तक चलेगा, इसके माध्यम से गाजरघास पर प्रभावी नियंत्रण और दुष्प्रभाव के बारे में जन जागरूकता लाई जाएगी।


कोविड 19 पर प्रभावी नियंत्रण एवं जागरूकता के लिये विश्वविद्यालय द्वारा विभिन्न ग्रामों एवं शहरी क्षेत्रों में जागरूकता के प्रयास किये गये। शिक्षक, कर्मचारी, विद्यार्थियों एवं परिवारजनों के मध्य शत प्रतिशत वेक्सिनेशन के लिये अभियान चलाया गया, जो पूर्ण सफल रहा। विश्वविद्यालय द्वारा अकादमिक क्षेत्र के 15 से अधिक उत्कृष्ट संस्थानों के साथ एमओयू किये गये हैं।

विश्वविद्यालय में कार्यरत कुशल और अकुशल दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के विनियमितीकरण की प्रक्रिया पूर्ण की गई। इसके माध्यम से 80 से अधिक कर्मचारी लाभान्वित हुए हैं। विश्वविद्यालय के अनेक शिक्षकों के द्वारा पेटेन्ट हासिल किये गये हैं। इसी प्रकार अनेक शिक्षकों को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित किया गया है।

स्वाधीनता पर्व उल्लास मनाने के साथ राष्ट्र और समाज के प्रति सम्पूर्ण निष्ठा और समर्पण का दिन है। भारत के अमर सेनानियों ने जिस स्वराज्य का सपना देखा है, वह सबके लिए, सभी प्रकार से प्रगति का मार्ग प्रशस्त करने वाला स्वराज्य है। हमारे अमर वीरों ने समाज के हर स्तर पर स्वराज्य को साकार करने का सपना देखा था। हम सबके लिये राष्ट्र सबसे पहले होना चाहिए। आज का यह पर्व इसी भाव को जगाता है। हमें विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश होने का गर्व है। स्वाधीनता तभी सार्थक है, जब वह हिन्दुस्तान के हर आदमी को विकास के समान अवसर उपलब्ध कराए।  स्वाधीनता दिवस की पुण्य बेला पर आइए हम भारत को उत्तरोत्तर उत्कर्ष पर ले जाने की शपथ लें। पूरी शक्ति के साथ देश, समाज और अपने विश्वविद्यालय को समर्थ करने में जुट जाएँ।

प्रारंभ में कुलपति प्रो. अखिलेश कुमार पांडे, कुलसचिव डॉ. प्रशांत पुराणिक, कार्यपरिषद सदस्य श्री संजय नाहर एवं एडवोकेट सुश्री ममता बैंडवाल ने सम्राट विक्रमादित्य के मूर्तिशिल्प पर पुष्पांजलि एवं विक्रम तीर्थ सरोवर के जल से अभिषेक किया।

अतिथियों की अगवानी विद्यार्थी कल्याण संकायाध्यक्ष डॉ. एस के मिश्रा, कुलानुशासक प्रो. शैलेन्द्र कुमार शर्मा,  एन.सी.सी. अधिकारी लेफ्टिनेंट डॉ. कानिया मेड़ा आदि ने की। समारोह में विश्वविद्यालय के शिक्षक वृन्द, अधिकारीगण, कर्मचारीगण, एन.सी.सी. कैडेट एवं रासेयो स्वयंसेवक उपस्थित थे।

समारोह में विश्वविद्यालय की गौरव गाथा गीत स्पर्धा में विजेताओं को प्रशस्ति पत्र अर्पित किए गए। प्रथम स्थान श्री सूरज नागर ने, द्वितीय स्थान डॉ गिरीश पंड्या एवं तृतीय स्थान प्रो अजहर हाशमी, रतलाम ने प्राप्त किया। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आयोजित निबंध प्रतियोगिता के विजेताओं को प्रशस्ति पत्र वितरित किए गए। कोविड-19 संकट के दौर में महत्वपूर्ण सेवाएं देने वाले विश्वविद्यालय के कर्मचारियों और रासेयो के कार्यक्रम अधिकारी डॉ रमण सोलंकी एवं दुर्गाशंकर सूर्यवंशी को कोरोना योद्धा सम्मान पत्र अर्पित किए गए।

कार्यक्रम का संचालन कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग