Skip to main content

वर्ष 2024 तक सभी गरीबों को पक्की छत देने का टारगेट- मुख्यमंत्री श्री चौहान

वर्ष 2024 तक सभी गरीबों को पक्की छत देने का टारगेट- मुख्यमंत्री श्री चौहान

79 हजार से अधिक आवास हितग्राहियों के खाते में 627 करोड़ रुपए किये अंतरित
                     विकास में गरीबों की सहभागिता आवश्यक
       50 हजार 253 हितग्राहियों के आवासों का किया भूमि-पूजन
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पीएमएवाय (शहरी) में 1.29 लाख से अधिक हितग्राहियों को किया लाभान्वित
भोपाल : शनिवार, अगस्त 28, 2021

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि विकास तभी सार्थक होगा जब इसमें गरीबों की पूरी सहभागिता होगी। इस समावेशी विकास में शहरी गरीबों को पूरा लाभ मिले। मध्यप्रदेश सरकार की कोशिश है कि विकास की डगर में पीछे छूट गए शहरी गरीबों को रोटी, कपड़ा और मकान की मूलभूत सुविधाएँ मिले। अन्न उत्सव में निःशुल्क अनाज बाँटा गया और आज एक लाख 29 हजार 292 शहरी हितग्राहियों को पक्की छत वाले मकान की सुविधा मिलने जा रही है। इनमें से कुछ का आज गृह प्रवेश, कुछ का भूमि-पूजन और कुछ को उनके खाते में योजना की किश्त मिल रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारा टारगेट है कि वर्ष 2024 तक सभी गरीबों को पक्की छत के साथ अपना आवास मिल जाए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज खंडवा में राज्य स्तरीय प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के हितग्राहियों को नवीन आवास की सौगात, नये स्वीकृत आवासों का भूमि-पूजन और आवास निर्माण के लिये किश्त भुगतान के कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। वन मंत्री डॉ. विजय शाह, संस्कृति एवं खंडवा ज़िले की प्रभारी मंत्री सुश्री ऊषा ठाकुर सहित जन-प्रतिनिधि एवं अधिकारी मौजूद थे।

कार्यक्रम में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) में प्रदेश के एक लाख 29 हजार 292 हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया। इसमें 79 हजार 39 हितग्राहियों के खाते में 627 करोड़ की सहायता राशि अंतरित की गई। योजना के 50 हजार 253 हितग्राहियों के आवास निर्माण के लिये भूमि-पूजन भी किया गया।

शहरों के विकास में लगाए जायेंगे 44 हजार करोड़ रूपये

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने खंडवा से समूचे मध्यप्रदेश के शहरी हितग्राहियों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि वर्ष 2024 तक प्रदेश में सभी गरीब परिवार के सिर पर पक्की छत उपलब्ध कराने का लक्ष्य है। जिनके पास ज़मीन नहीं है, उन्हें पट्टा देकर मालिक बनाया जाएगा। सभी गरीबों को आयुष्मान योजना के कार्ड देकर स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के शहरों में सभी बुनियादी सुविधाएँ सुनिश्चित होंगी। आने वाले समय में 44 हज़ार करोड़ रुपये शहरों के विकास में लगाये जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरों में जो अवैध कॉलोनियाँ बन गई हैं, उन्हें वैध किया जाएगा। लेकिन भविष्य में अवैध कॉलोनी निर्मित न हो, इसके लिए बिल्डरों पर शिकंजा कसा जा रहा है। उन्हें नियमों का पालन करना ही होगा।

 स्व. किशोर दा के नाम पर होगा सभागार

 मुख्यमंत्री श्री चौहान ने खंडवा में 19 करोड़ 43 लाख रुपये की लागत से नवनिर्मित सांस्कृतिक सभागार का लोकार्पण भी किया। वन मंत्री श्री विजय शाह के आग्रह पर उन्होंने सभागार का नाम अमर गायक स्व. किशोर कुमार के नाम पर करने की घोषणा भी की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किशोर कुमार के गाए हुए अनेक गाने जीवन में प्रेरणा देते हैं। उन्होंने उनका गाया हुआ गाना ‘‘रुक जाना नहीं तू कहीं हार के‘‘ का मुखड़ा भी गाकर सुनाया और कहा कि कोरोना के संघर्ष के दिनों में इस गाने ने उनका मनोबल बनाए रखा। वन मंत्री श्री विजय शाह ने कहा कि खंडवा में राष्ट्रीय स्तर का स्व. श्री किशोर कुमार स्मृति सम्मान स्थापित किया गया है।

आज कमी खल रही हैं स्व. नंदकुमार सिंह चौहान की

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज खंडवा के पूर्व सांसद स्व. नंदकुमार सिंह चौहान की कमी बहुत खल रही है। उनके साथ प्रदेश में संबल योजना का पहला कार्यक्रम खरगोन में किया था। स्व. चौहान ज़मीन से जुड़े एक अद्भुत नेता थे, जो हम सबके बीच से जल्दी चले गए। 

नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह और सांसद श्री वी.डी. शर्मा ने भी किया संबोधित

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि आज प्रदेश के आवासहीनों को बड़ी सौगात मिली है। प्रदेश में आर्थिक कठिनाइयों के बावजूद भी गरीबों के पक्के मकानों के निर्माण में किसी भी तरह की बाधा नहीं आने दी गई। पक्के मकान निर्माण के लिए पर्याप्त राशि का वितरण प्रधानमंत्री आवास योजना में किया जा रहा है। गरीबों के आवास के सपनों को पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा किए जा रहे विशेष प्रयासों के लिये मंत्री श्री सिंह ने उनका आभार माना। उन्होंने बताया कि प्रदेश में योजना के विभिन्न घटकों के अन्तर्गत 8 लाख 37 हजार आवास स्वीकृत किये गये हैं। इनमें से 3 लाख 33 हजार हितग्राहियों के आवास पूरे हो चुके हैं। शेष आवासों का निर्माण भी तेजी से किया जा रहा है।

सांसद श्री विष्णु दत्त शर्मा ने कहा कि आज ऐतिहासिक दिन है, जब एक साथ किसी आवास योजना में एक ही दिन में 1 लाख 29 हजार 292 हितग्राहियों को लाभान्वित किया जा रहा है। आज 627 करोड़ रुपए की राशि एक साथ आवास निर्माण के लिए दी जा रही है, यह बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि गरीबों को भी पक्के मकान में रहने का अधिकार है। खुशी की बात है कि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा यह अधिकार सब गरीबों को उपलब्ध कराया जा रहा है। प्रधानमंत्री श्री मोदी एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा तेजी से प्रयास किए जा रहे हैं कि समय-सीमा से पहले सभी को आवास मिले।

हितग्राहियों से संवाद

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अनेक जिलों के चयनित हितग्राहियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सीधा संवाद किया। उन्होंने लाभांवित हितग्राहियों को बधाई एवं शुभकामनाएँ दी। मुख्यमंत्री ने जोबट के हितग्राही श्री कैलाश प्रजापति, निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर की श्रीमती सरस्वती विश्वकर्मा, सागर खुरई के श्री मनीष रजत, भोपाल बैरसिया के श्री राजेश यादव और उज्जैन के श्री पप्पू गोयल और उनके परिजनों से वर्चुअल संवाद कर योजना में मिले आवास की जानकारी और परिवार की कुशल-क्षेम के साथ बच्चों की पढ़ाई के बारे में चर्चा की।

हितग्राहियों को आवास की चाबी सौंपी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) में खंडवा जिले के 5 हितग्राहियों को आवास की चाबी सौंपी। शुरूआत में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कन्या-पूजन किया। कार्यक्रम में नर्मदा अष्टक सांस्कृतिक नृत्य प्रस्तुत किया गया। आयुक्त नगरीय विकास श्री निकुंज श्रीवास्तव, संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा, पुलिस महानिरीक्षक श्री हरिनारायणचारी मिश्र, डीआईजी श्री तिलक सिंह, कलेक्टर श्री अनय द्विवेदी, पुलिस अधीक्षक श्री विवेक सिंह भी उपस्थित थे। प्रदेश के सभी नगरीय निकाय, मंत्रीगण, जन-प्रतिनिधि कार्यक्रम में वर्चुअली जुड़े।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

केबिनेट मंत्री का मिला दर्जा निगम, मंडल, बोर्ड तथा प्राधिकरण के अध्यक्षों को, उपाध्यक्षों को मिला राज्य मंत्री का दर्जा

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 29, 2021 - मध्यप्रदेश शासन ने निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त अध्यक्षों को केबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश जारी कर दिये हैं। केबिनेट मंत्री का दर्जा उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। इसी प्रकार निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को राज्य मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश भी जारी हो गये हैं। यह भी संबंधित नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। मध्यप्रदेश राज्य शासन ने बुधवार, 29 दिसम्बर 2021 को श्री शैलेन्द्र बरूआ मध्यप्रदेश पाठ्य-पुस्तक निगम, श्री शैलेन्द्र शर्मा मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड, श्री जितेन्द्र लिटौरिया मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड, श्रीमती इमरती देवी मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम लिमिटेड, श्री एंदल सिंह कंषाना मध्यप्रदेश स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड, श्री गिर्राज दण्डोतिया मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम, श्री रणवीर जाटव संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम लिमिटेड, श्री जसवंत