Skip to main content

कोरोना काल पर केंद्रित प्रथम काव्य कृति लॉकडाउन कालजयी है - प्रो शर्मा ; श्री शरद आलोक की काव्यकृति लॉक डाउन पर केंद्रित अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं कवि सम्मेलन सम्पन्न

कोरोना काल पर केंद्रित प्रथम  काव्य कृति  लॉकडाउन कालजयी है - प्रो शर्मा

श्री शरद आलोक की काव्यकृति लॉक डाउन पर केंद्रित अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं कवि सम्मेलन सम्पन्न




नार्वे में प्रवासी साहित्यकार सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' का काव्य संग्रह लॉकडाउन कालजयी कृति है। लॉकडाउन में कोरोना संकटकाल में मानवीय सरोकारों को व्यक्त करती यह कृति  साहित्यिक दस्तावेज है। इस कृति में विश्व में कोरोनाकाल के समय की चिन्ता और संवेदनाएं व्यक्त की गयी हैं।  ये  उद्गार अंतरराष्ट्रीय  संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए प्रसिद्ध समालोचक एवं विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में कुलानुशासक और कला संकाय के अध्यक्ष प्रो. शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने व्यक्त किए। यह संगोष्ठी भारत नॉर्वेजियन सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम ओस्लो नॉर्वे द्वारा आयोजित की गई, जिसमें देश दुनिया के अनेक रचनाकारों ने भाग लिया।


आयोजन की मुख्य अतिथि केन्द्रीय हिंदी संस्थान, आगरा की निदेशक डॉ. बीना शर्मा थीं।  लखनऊ विश्वविद्यालय  में  हिन्दी और आधुनिक भाषा विभाग के अध्यक्ष प्रो. योगेन्द्र प्रताप सिंह और डा. कृष्णजी श्रीवास्तव ने कहा कि  सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' की 'लॉकडाउन' और साहित्य के शोध और गंभीर विवेचन की जरुरत है।

केन्द्रीय हिन्दी संस्थान, आगरा की निदेशक डॉ. बीना शर्मा ने कहा, "यह गर्व की बात है कि विदेश में रहकर सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक'  ने दुनिया की कोरोनाकाल की पहली कृति हिन्दी को दी है।


वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय, जौनपुर की कुलपति प्रो निर्मला एस मौर्य ने कहा कि मैंने चेन्नई में रहकर श्री शुक्ल के साहित्य पर दो शोध कार्य कराये हैं पी एच डी और एम फिल। मैंने उनके साहित्य को बहुत बार पढ़ा है। 


छत्तीसगढ़ मित्र के यशस्वी सम्पादक डॉ सुधीर कुमार शर्मा, रायपुर ने  लॉकडाउन को समाज का दर्पण बताया।  दिल्ली हिन्दी अकादमी और संस्कृति विभाग के सचिव डॉ. जीत राम भट्ट ने लॉकडाउन को कोरोना काल की बहुत महत्वपूर्ण कृति बताया।


प्रो. सूर्य प्रसाद दीक्षित, लखनऊ ने लॉकडाउन कृति को समाज के सभी पहलुओं का विश्लेषण करने वाली कृति कहा।


 मराठी में लॉक डाउन का अनुवाद करने वाली सुवर्णा जाधव ने कहा कि कोरोनाकाल में महिलाओं की भूमिका और उनकी समस्याओं का बहुत अच्छा उल्लेख किया गया है। 


 कार्यक्रम के समापन में धन्यवाद देते हुए  नव साहित्य त्रिवेणी, कोलकाता के संपादक कुंवर वीर सिंह मार्तण्ड ने लॉकडाउन को  राजनीतिक और  सामजिक  विमर्श  की प्रतिनिधि कृति कहा।


राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के महासचिव प्रभु चौधरी ने शुभकामनाएँ देते हुए शुक्ल जी को विदेशों में भारतीय संस्कृति और हिन्दी का राजदूत कहा।

अंतरराष्ट्रीय कवि गोष्ठी में भाग लेने वालों में प्रमुख थे  समता मल्होत्रा (जर्मनी), राम बाबू गौतम (न्यू जर्सी, अमेरिका) और अशोक सिंह (न्यूयार्क अमेरिका), सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' और गुरु शर्मा (नार्वे), भारत से ओम सपरा (दिल्ली), डॉ. जीत राम भट्ट (दिल्ली), अरुणा घवाना (दिल्ली), डॉ. रश्मि चौबे (गाजियाबाद), इलाश्री जायसवाल (नोएडा), पूर्णिमा कौशिक (रायपुर), प्रो. योगेंद्र प्रताप सिंह (लखनऊ), डॉ. कृष्णा जी श्रीवास्तव और (लखनऊ), डॉ. वीरसिंह मार्तण्ड (कोलकाता) आदि।


 लॉकडाउन काव्यसंग्रह पर केंद्रित परिचर्चा के लिए बधाई एवं शुभकामनाएँ देने वालों में हिमाचल विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ हरमहेन्द्रसिंह बेदी, भारतीय दूतावास, ओस्लो  के सचिव श्री प्रमोद कुमार,

केंद्रीय हिंदी निदेशालय के सहायक निदेशक डॉ. दीपक पाण्डेय और डॉ. अमिता दुबे आदि सम्मिलित थे।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक