Skip to main content

सृष्टि का जन्म स्थल छत्तीसगढ़ है। - डॉ. विनय पाठक

 



   जीवंत सांस्कृतिक परंपराओं से संपन्न राज्य छत्तीसगढ़ सृष्टि का जन्म स्थल है । इस आशय का प्रतिपादन छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पूर्व अध्यक्ष डॉ. विनय कुमार पाठक, बिलासपुर, छत्तीसगढ़ ने किया। राष्ट्रीय शिक्षक  संचेतना के तत्वावधान में छत्तीसगढ़ इकाई द्वारा 'छत्तीसगढ़ की संस्कृति एवं साहित्य' विषय पर आयोजित आभासी राष्ट्रीय संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के रुप में वे मंतव्य दे रहे थे । डॉक्टर पाठक ने आगे कहा कि, छत्तीसगढ़ के शैल चित्र लाखो वर्ष पुराने हैं । छत्तीसगढ़ी संस्कृति पर श्री रामचरित मानस का प्रभाव है ।प्रभु रामचंद्र जी का ननिहाल भी छत्तीसगढ़ है। विश्व का प्रथम रंगमंच छत्तीसगढ़ होते हुए, यहां का प्रधान उत्पादन धान है।

    विशेष अतिथि प्रोफेसर डॉ अनसूया अग्रवाल, महासमुंद, छत्तीसगढ़ ने कहा कि छत्तीसगढ़ की संस्कृति व परंपरा को विश्व में ख्याति प्राप्त है, जिसने जनमानस में प्रकृति के साथ सीधा और साधा नाता जोड़ा है। छत्तीसगढ़ की महिलाएं नदियों को अपना पीहर मानती हैं और अपने मन का सारा दुख दर्द उनके सामने उघाड़ कर रख देती हैं।

     विशिष्ट वक्ता डॉ. सरस्वती वर्मा महासमुंद, छत्तीसगढ़ ने कहा कि छत्तीसगढ़ की संस्कृति में अनेक संस्कृतियों का संगम पाया जाता है। छत्तीसगढ़ की भूमि अनादि काल से संतो, ऋषि-मुनियों का क्षेत्र रहा है। छत्तीसगढ़ का साहित्य विशाल एवं सघन है।

     विशिष्ट वक्ता डॉ. जय भारती चंद्राकर, रायपुर, छत्तीसगढ़ ने कहा कि छत्तीसगढ़ के उत्सव, पर्व, गीत, नृत्य, संगीत, रीति-रिवाज ऐतिहासिक,  पुरातात्विक क्षेत्र, शिल्प कला और साहित्य अत्यंत ही विपुल और महान है। अर्ध मागधी से ही छत्तीसगढ़ी भाषा का विकास हुआ है।

    विशिष्ट अतिथि तथा राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के राष्ट्रीय संयोजक प्राचार्य डॉ शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे ने कहा कि अद्वितीय एवं जीवंत संस्कृति के कारण छत्तीसगढ़ अपनी सांस्कृतिक विरासता में अत्यंत समृद्ध है। पैंतीस से अधिक जनजातियों वाला यह राज्य अंतरराष्ट्रीय स्तर की पहचान प्राप्त कर चुका है। इस राज्य की भाषा छत्तीसगढ़ी अपनी मधुरता व सरलता के लिए विश्व प्रसिद्ध है, जो मराठी तथा उड़िया भाषा से प्रभावित है । छत्तीसगढ़ी साहित्य में भारतीय संस्कृति की तत्व विद्यमान है।

     विशिष्ट वक्ता डॉ स्वाति श्रीवास्तव, रायपुर, छत्तीसगढ़ ने कहा कि छत्तीसगढ़ संस्कृति अपने रुप की संरचना में भारतीय संस्कृति का एक लघु रूप है ।  छत्तीसगढ़ संस्कृति का विकास अरणयो तपोवन में हुआ है ।  छत्तीसगढ़ की संस्कृति प्राचीन कला, सभ्यता, इतिहास और पुरातत्व की दृष्टि से अत्यंत संपन्न है। छत्तीसगढ़ के प्रयाग राजिम में आयोजित विशाल राजिम कुंभ मेला पांचवें कुंभ के रूप में  राष्ट्रीय ही नहीं अपितु अंतरराष्ट्रीय पहचान बना चुका है।

         विशेष अतिथि डॉ अनीता मंदिलवार ,अंबिकापुर, छत्तीसगढ़ ने कहा कि साहित्य में भारत की झलकियां मूर्तिकला, वास्तुकला, दंतेश्वरी बिलाई माता मैं दिखाई देती है। 

        विशिष्ट वक्ता राष्ट्रीय महासचिव, राष्ट्रीय शिक्षक  संचेतना डॉक्टर प्रभु चौधरी ने कहा कि पहले मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ साथ था मगर छत्तीसगढ़ के अलग होने से छत्तीसगढ़ ने भरपूर विकास किया है ।

   विशेष अतिथि प्राचार्य डॉ.हंसा शुक्ला ,उपाध्यक्ष,राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना छत्तीसगढ़ ने कहा कि संस्कृति व साहित्य मे सुआ नृत्य का विशेष महत्व है । और गोदना की परंपरा का निर्वाह छ.ग.में आदिवासी क्षेत्र मे महिलाएं गोदना का कार्य करती है।

   मुख्य अतिथि डॉ.सुनीता शशि कांत तिवारी ने कहा कि छ.ग.के साहित्य मे संस्कृति झलकती है . 

   आभासी का आरंभ डॉ.रश्मि चौबे, गाजियाबाद द्वारा प्रस्तुत सरस्वती वंदना से हुआ । श्री लक्ष्मीकांत वैष्णव, चांपा,छत्तीसगढ़ ने स्वागत भाषण दिया। प्रास्ताविक भाषण श्रीमती भुवनेश्वरी जयसवाल ने की।

     गोष्ठी का सुंदर संयोजन व सफल संचालन डॉ.मुक्ता कान्हा कौशिक, राष्ट्रीय मुख्य प्रवक्ता, रायपुर, छत्तीसगढ़ ने किया तथा श्रीमती पूर्णिमा कौशिक, रायपुर, छत्तीसगढ़ ने  आभार प्रर्दशित किये।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग